प्रद्युम्न मर्डर केस: आरोपी छात्र पर चलेगा बालिग अपराधी जैसा केस

murder

Pradyumna Murder Case Case Against The Accused Student

गुरुग्राम। प्रद्युमन मर्डर केस में आरोपी छात्र को बालिग माना जाएगा और उसी के अनुसार उस पर केस चलेगा। बुधवार को जूवेनाइल कोर्ट ने यह फैसला दिया और केस डिस्ट्रिक्ट और सेशन कोर्ट को ट्रांसफर कर दिया। यानि आरोपी छात्र पर आरोप साबित होता है तो उसे उम्रकैद से लेकर फांसी तक की सजा हो सकती है। मामले की अगली सुनवाई 22 दिसंबर को होगी। बता दें कि गुरुग्राम के मशहूर रेयान स्कूल में 5 साल के बच्चे प्रद्युम्न की हत्या के बाद पूरे देश में स्कूलों में बच्चों की सुरक्षा के मुद्दे पर सवाल उठने लगे थे।

11वीं में पढ़ने वाले आरोपी छात्र ने याचिका लगाई थी कि सीबीआई के चार्जशीट दायर करने तक उसके खिलाफ नाबालिग की तरह ही केस चलाया जाए। आरोपी जेजे बोर्ड के सामने जमानत याचिका भी लगाई थी, जिस पर सीबीआई को नोटिस जारी हुआ था। बोर्ड ने सीबीआई को आरोपी छात्र का फिंगर प्रिंट लेने की इजाजत भी दे दी थी।

वहीं मृतक प्रदुमन के पिता वरुण ठाकुर ने जेजे बोर्ड के सामने याचिका लगाई थी कि आरोपी को बालिग मानकर उसके खिलाफ केस चलाया जाए। उसने जघन्य अपराध किया है। ऐसे अपराध विकृत और वयस्क मानसिकता के अपराधी ही कर सकते हैं, ऐसे में कोर्ट उसे बालिग मानकर अधिकतम सजा दिलाने का रास्ता साफ करे।

क्या है पूरा मामला ?
आपको बता दें कि आठ सितंबर को गुरुग्राम के रेयान स्कूल में पढ़ने वाले सात साल के छात्र प्रद्युम्न ठाकुर की हत्या कर दी गई थी। इसके तुरंत बाद हरियाणा पुलिस ने स्कूल बस के कंडक्टर अशोक को गिरफ्तार किया था। बाद में इस केस को सीबीआई को सौंप दिया गया और सीबीआई ने स्कूल के ही 11वीं को छात्र को गिरफ्तार कर लिया। सीबीआई ने दावा किया था कि 11वीं के छात्र ने परीक्षा और पीटीएम टालने के लिए प्रद्युम्न का मर्डर किया था।

गुरुग्राम। प्रद्युमन मर्डर केस में आरोपी छात्र को बालिग माना जाएगा और उसी के अनुसार उस पर केस चलेगा। बुधवार को जूवेनाइल कोर्ट ने यह फैसला दिया और केस डिस्ट्रिक्ट और सेशन कोर्ट को ट्रांसफर कर दिया। यानि आरोपी छात्र पर आरोप साबित होता है तो उसे उम्रकैद से लेकर फांसी तक की सजा हो सकती है। मामले की अगली सुनवाई 22 दिसंबर को होगी। बता दें कि गुरुग्राम के मशहूर रेयान स्कूल में 5 साल के बच्चे प्रद्युम्न की…