प्रज्ञा सिंह ठाकुर को एनआईए कोर्ट से झटका, खारिज की गई ये मांग

pragya singh thakur
प्रज्ञा सिंह ठाकुर को एनआईए कोर्ट से झटका, खारिज की गई ये मांग

नई दिल्ली। भोपाल से लोकसभा सांसद प्रज्ञा सिंह ठाकुर को एनआईए कोर्ट से झटका मिला है। दरअसल प्रज्ञा सिंह ने मुंबई में विशेष एनआईए अदालत याचिका दाखिल की थी, जिसमें एक सप्ताह में एक बार उपस्थित होने से स्थायी छूट के लिए आवेदन किया था। प्रज्ञा ठाकुर ने इस आवेदन में कहा था कि वह सांसद हैं और उन्हें दिन-प्रतिदिन संसद की कार्यवाही में भाग लेना है।

Pragya Singh Thakur Was Shocked By Nia Court Rejected The Demand :

इन पर मालेगांव में एक मस्जिद के पास बम धमाका करने का भी आरोप है। इसमें 6 लोग मारे गए थे और 100 से अधिक लोग घायल हुए थे। इस मामले में साध्वी प्रज्ञा और छह अन्य आरोपी यूएपीए और आईपीसी की विभिन्न धाराओं के तहत आरोपों का सामना कर रहे हैं। बता दें कि मुंबई की विशेष एनआईए अदालत ने प्रज्ञा ठाकुर को अदालत में उपस्थित होने से आज के लिए छूट दे दी है।

गौतरलब हो कि मालेगांव धमाके की घटना को करीब 11 बीते चुके हैं। 29 सितंबर, 2008 को उत्तरी महाराष्ट्र के मालेगांव की मस्जिद के सामने खड़ी एक मोटरसाइकिल में मौजूद विस्फोटकों के कारण बड़ा बम धमाका हुआ था। पुलिस के मुताबिक जिस गाड़ी में विस्फोटक रखे हुए थे, वो प्रज्ञा ठाकुर के नाम से रजिस्टर्ड थी।

नई दिल्ली। भोपाल से लोकसभा सांसद प्रज्ञा सिंह ठाकुर को एनआईए कोर्ट से झटका मिला है। दरअसल प्रज्ञा सिंह ने मुंबई में विशेष एनआईए अदालत याचिका दाखिल की थी, जिसमें एक सप्ताह में एक बार उपस्थित होने से स्थायी छूट के लिए आवेदन किया था। प्रज्ञा ठाकुर ने इस आवेदन में कहा था कि वह सांसद हैं और उन्हें दिन-प्रतिदिन संसद की कार्यवाही में भाग लेना है। इन पर मालेगांव में एक मस्जिद के पास बम धमाका करने का भी आरोप है। इसमें 6 लोग मारे गए थे और 100 से अधिक लोग घायल हुए थे। इस मामले में साध्वी प्रज्ञा और छह अन्य आरोपी यूएपीए और आईपीसी की विभिन्न धाराओं के तहत आरोपों का सामना कर रहे हैं। बता दें कि मुंबई की विशेष एनआईए अदालत ने प्रज्ञा ठाकुर को अदालत में उपस्थित होने से आज के लिए छूट दे दी है। गौतरलब हो कि मालेगांव धमाके की घटना को करीब 11 बीते चुके हैं। 29 सितंबर, 2008 को उत्तरी महाराष्ट्र के मालेगांव की मस्जिद के सामने खड़ी एक मोटरसाइकिल में मौजूद विस्फोटकों के कारण बड़ा बम धमाका हुआ था। पुलिस के मुताबिक जिस गाड़ी में विस्फोटक रखे हुए थे, वो प्रज्ञा ठाकुर के नाम से रजिस्टर्ड थी।