CAA, NRC के विरोध पर बोले प्रसून जोशी- PM मोदी सौ फीसदी देश के लिए सोचते हैं

prasun joshi
CAA, NRC के विरोध पर बोले प्रसून जोशी- PM मोदी सौ फीसदी देश के लिए सोचते हैं

नई दिल्ली। गीतकार, लेखक और केंद्रीय फिल्म प्रमाणन बोर्ड के अध्यक्ष प्रसून जोशी ने संशोधित नागरिकता कानून (सीएए) और राष्ट्रीय नागरिकता पंजी (एनआरसी) को लेकर जारी विरोध की ओर इशारा करते हुए गुरुवार को यहां कहा कि असहमति में हम गरिमा छोड़ रहे हैं। इसके अलावा उन्होंने विरोध के दौरान व्यक्तिगत हमला करने पर भी आपत्ति जताई और कहा कि असहमति गरिमापूर्ण होनी चाहिए और व्यक्तिगत हमलों से बचना चाहिए।  

Prasoon Joshi Pm Modi Thinks About 100 Country For Caa Nrc Protest :

जयपुर साहित्य उत्सव में एक सत्र के दौरान जोशी ने कहा, ‘फिलहाल निजी हमला एक आम बात हो गई है। किसी बात पर सहमति और असहमति तो हो सकती है लेकिन इन दिनों असहमति में हम गरिमा को छोड़ रहे हैं। असहमति तो होगी लेकिन यह गरिमापूर्ण असहमति होनी चाहिए।’ उन्होंने असहमति में व्यक्तिगत हमलों से बचने की सलाह भी दी और प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की प्रशंसा करते हुए कहा, ‘आपसे फिर कहता हूं, बार-बार कहता हूं कि हमारे प्रधानमंत्री देश के लिए समर्पित हैं। मुझे इसमें कोई शक नहीं है।’

दरअसल उनसे प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के लिए उनके द्वारा ‘फकीर’ शब्द इस्तेमाल किए जाने को लेकर सवाल पूछा गया था। इसका जवाब देते हुए उन्होंने कहा कि आज भी बेहद कम लोग होंगे जो इस बात से इंकार करेंगे कि हमारे प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी सौ फीसदी देश के लिए सोचते हैं। आप इस पर शक नहीं कर सकते इसीलिए मैने उनके लिए ‘फकीर’ शब्द का इस्तेमाल किया। उन्होंने कहा, ‘मोदी खुद के लिए नहीं बल्कि देश के लिए सोचते हैं।’  

नई दिल्ली। गीतकार, लेखक और केंद्रीय फिल्म प्रमाणन बोर्ड के अध्यक्ष प्रसून जोशी ने संशोधित नागरिकता कानून (सीएए) और राष्ट्रीय नागरिकता पंजी (एनआरसी) को लेकर जारी विरोध की ओर इशारा करते हुए गुरुवार को यहां कहा कि असहमति में हम गरिमा छोड़ रहे हैं। इसके अलावा उन्होंने विरोध के दौरान व्यक्तिगत हमला करने पर भी आपत्ति जताई और कहा कि असहमति गरिमापूर्ण होनी चाहिए और व्यक्तिगत हमलों से बचना चाहिए।   जयपुर साहित्य उत्सव में एक सत्र के दौरान जोशी ने कहा, 'फिलहाल निजी हमला एक आम बात हो गई है। किसी बात पर सहमति और असहमति तो हो सकती है लेकिन इन दिनों असहमति में हम गरिमा को छोड़ रहे हैं। असहमति तो होगी लेकिन यह गरिमापूर्ण असहमति होनी चाहिए।' उन्होंने असहमति में व्यक्तिगत हमलों से बचने की सलाह भी दी और प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की प्रशंसा करते हुए कहा, 'आपसे फिर कहता हूं, बार-बार कहता हूं कि हमारे प्रधानमंत्री देश के लिए समर्पित हैं। मुझे इसमें कोई शक नहीं है।' दरअसल उनसे प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के लिए उनके द्वारा 'फकीर' शब्द इस्तेमाल किए जाने को लेकर सवाल पूछा गया था। इसका जवाब देते हुए उन्होंने कहा कि आज भी बेहद कम लोग होंगे जो इस बात से इंकार करेंगे कि हमारे प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी सौ फीसदी देश के लिए सोचते हैं। आप इस पर शक नहीं कर सकते इसीलिए मैने उनके लिए 'फकीर' शब्द का इस्तेमाल किया। उन्होंने कहा, 'मोदी खुद के लिए नहीं बल्कि देश के लिए सोचते हैं।'