प्रयागराज: आर्थिक तंगी के चलते बेबस मां ने अपने तीन बच्चों के साथ की आत्महत्या

Prayagraj
प्रयागराज: आर्थिक तंगी के चलते बेबस मां ने अपने तीन बच्चों के साथ की आत्महत्या

प्रयागराज। आर्थिक तंगी के चलते एक बे​बश और लाचार मां ने अपनी दो बेटियों और एक बेटे के साथ आत्महत्या कर ली। बता दें कि महिला के पति की डेंगू की चपेट में आने से मोत हो गयी थी तभी से महिला किसी तरह अपने बच्चों का पेट पाल रही थी। वहीं जैसे ही एकसाथ 4 मौतों की सूचना मिली तो इलाके में सनसनी फैल गयी।

Prayagraj The Helpless Mother Committed Suicide With Her Three Children Due To Financial Constraints :

घटना ओसावा दाउदपुर हंडिया ​की है। मरने वालों में 40 वर्षीय मृतक महिला मंजू देवी, उसकी 10 वर्षीय बेटी प्रिया, दूसरी बेटी अन्नू 6 साल, व 3 वर्षीय बेटा रितिक शामिल हैं। महिला बीड़ी मजदूर थी। महिला के परिवार में सास, ससुर और देवर रहते है। बताया गया कि तीन वर्ष पहले उसके पति रत्नेश की डेंगू की बीमारी के चलते मोत हो गयी थी। सूचना मिलते ही मौके पर कई थानों की पुलिस पहुंच गई है। वहीं आस पास के लोगों ने हत्या की भी आंशका जताई है।

स्थानीय लोगों के मुताबिक गुरूवार सुबह से घर में कोई चहल-पहल नही हो रही थी, इसी बात पर आस पास के लोगों को शक हुआ। जिसके बाद ग्रामीणों ने घर के अंदर जाकर देखा तो परिवार के चार सदस्यों की मौत हो चुकी थी। ग्रामीणों के मुताबिक परिवार के लोग बुधवार शाम को कहीं भोज में निमंत्रण खाने गए थे और वहीं से लौटने के बाद कमरे में आकर सो गए।

प्रयागराज। आर्थिक तंगी के चलते एक बे​बश और लाचार मां ने अपनी दो बेटियों और एक बेटे के साथ आत्महत्या कर ली। बता दें कि महिला के पति की डेंगू की चपेट में आने से मोत हो गयी थी तभी से महिला किसी तरह अपने बच्चों का पेट पाल रही थी। वहीं जैसे ही एकसाथ 4 मौतों की सूचना मिली तो इलाके में सनसनी फैल गयी। घटना ओसावा दाउदपुर हंडिया ​की है। मरने वालों में 40 वर्षीय मृतक महिला मंजू देवी, उसकी 10 वर्षीय बेटी प्रिया, दूसरी बेटी अन्नू 6 साल, व 3 वर्षीय बेटा रितिक शामिल हैं। महिला बीड़ी मजदूर थी। महिला के परिवार में सास, ससुर और देवर रहते है। बताया गया कि तीन वर्ष पहले उसके पति रत्नेश की डेंगू की बीमारी के चलते मोत हो गयी थी। सूचना मिलते ही मौके पर कई थानों की पुलिस पहुंच गई है। वहीं आस पास के लोगों ने हत्या की भी आंशका जताई है। स्थानीय लोगों के मुताबिक गुरूवार सुबह से घर में कोई चहल-पहल नही हो रही थी, इसी बात पर आस पास के लोगों को शक हुआ। जिसके बाद ग्रामीणों ने घर के अंदर जाकर देखा तो परिवार के चार सदस्यों की मौत हो चुकी थी। ग्रामीणों के मुताबिक परिवार के लोग बुधवार शाम को कहीं भोज में निमंत्रण खाने गए थे और वहीं से लौटने के बाद कमरे में आकर सो गए।