मामा-मामी ने मिलकर गर्भवती भांजी को उतारा मौत के घाट

a.jpeg

लखनऊ। उत्तर प्रदेश की राजधानी लखनऊ के विभूतिखण्ड के विजयंत खंड में रहने वाली सात माह की एक गर्भवती को उसके मामा-मामी और ममेरे भाई ने बुरी तरह पीटा। मारपीट के दौरान महिला अचानक गिर पड़ी और कान और मुंह से खून निकालने लगे। परिवार वालों ने उसको इलाज के लिए राम मनोहर लोहिया अस्पताल में भर्ती कराया, जहां से उसको ट्रामा सेंटर रिफर कर दिया गया। ट्रामा सेंटर ले जाते वक्त गर्भवती की मौत हो गयी। अब इस मामले में पुलिस ने आरोपियों के खिलाफ गैर इरादतन हत्या की रिपोर्ट दर्ज कर ली है।

Pregnant Woman Murdered In Lucknow :

बहराइच जनपद के हुजूरपुर निवासी शुभम की फरवरी 2017 में 22 वर्षीय आरती से शादी हुई थी। दोनों पति पत्नी मौजूदा समय में विभूतिखण्ड के विजयंतखण्ड इलाके में झोपड़-पट्टी में रह रहे थे। शुभम विजयीपुर अडंरपास के पास अण्डा का ठेला लगाता था। उसके घर के पास ही आरती का मामाा बहराइच खपरौली गांव निवासी हुकुम सिंह भी अपने परिवार संग रहता है। हुकुम सिंह भी विजयीपुर अण्डरपास के पास ठेला लगाता है। शुभम की पत्नी मौजूदा समय में सात माल की गर्भवती थी।

ठेला लगाने को लेकर हुआ था विवाद
बताया जाता है कि शनिवार को हुकुम सिंह और शुभम के बीच अण्डा का ठेला लगाने को लेकर विवाद हुआ था। हुकुम सिंह ने शुभम के साथ मारपीट भी की थी। इस पर आसपास के दुकानदारों ने बीच में पड़कर मामले को शांत करा दिया था।

शुभम के घर पहुंचकर फिर किया झगड़ा
विजयीपुर में हुए विवाद के बाद हुकुम सिंह अपने घर पहुंचा और पत्नी मीनू को शुभम से हुए झगड़े के बारे में बताया। आरोप है कि हुकुम सिंह और उसके परिवार के लोग शुभम के घर जा धमके और गाली-गलौज शुरू कर दी। उस वक्त शुभम की पत्नी आरती अकेली थी। दोनों पक्षों में तीखी नोकझोंक हुई। हाथापाई के दौरान गर्भवती आराती जमीन पर गिर गयी। आरोप है कि इस दौरान आरोपी हुकुम सिंह और पत्नी मीनू ने पीट पीटकर लहूलुहान कर दिया।

इससे गर्भवती आरती के मुंह और नाक से खून निकलने लगा। घटना के बाद आरोपी वहां से भाग निकले। सूचना पाकर पहुंचा शुभम ने पुलिस को घटना की जानकारी दी। शुभम पत्नी को इलाज के लिए राम मनोहर लोहिया अस्पताल लेकर पहुंचे, जहां से डाक्टरों ने आरती को ट्रामा सेंटर रिफर कर दिया। ट्रामा सेंटर ले जाते वक्त आरती की रास्ते में ही मौत हो गयी। शुभम ने फौरन सूचना पुलिस कंट्रोल रूम को दी। मौके पर पहुंची पुलिस ने छानबीन के बाद आराती के शव को पोस्टमार्टम के लिए भेज दिया। इंस्पेक्टर विभूतिखण्ड राजीव द्विवेदी ने बताया इस मामले में हुकुम सिंह और उसकी पत्नी मीनू के खिलाफ गैर इरादतन हत्या की रिपोर्ट दर्ज कर ली है और उनकी तलाश की जा रही है।

लखनऊ। उत्तर प्रदेश की राजधानी लखनऊ के विभूतिखण्ड के विजयंत खंड में रहने वाली सात माह की एक गर्भवती को उसके मामा-मामी और ममेरे भाई ने बुरी तरह पीटा। मारपीट के दौरान महिला अचानक गिर पड़ी और कान और मुंह से खून निकालने लगे। परिवार वालों ने उसको इलाज के लिए राम मनोहर लोहिया अस्पताल में भर्ती कराया, जहां से उसको ट्रामा सेंटर रिफर कर दिया गया। ट्रामा सेंटर ले जाते वक्त गर्भवती की मौत हो गयी। अब इस मामले में पुलिस ने आरोपियों के खिलाफ गैर इरादतन हत्या की रिपोर्ट दर्ज कर ली है। बहराइच जनपद के हुजूरपुर निवासी शुभम की फरवरी 2017 में 22 वर्षीय आरती से शादी हुई थी। दोनों पति पत्नी मौजूदा समय में विभूतिखण्ड के विजयंतखण्ड इलाके में झोपड़-पट्टी में रह रहे थे। शुभम विजयीपुर अडंरपास के पास अण्डा का ठेला लगाता था। उसके घर के पास ही आरती का मामाा बहराइच खपरौली गांव निवासी हुकुम सिंह भी अपने परिवार संग रहता है। हुकुम सिंह भी विजयीपुर अण्डरपास के पास ठेला लगाता है। शुभम की पत्नी मौजूदा समय में सात माल की गर्भवती थी। ठेला लगाने को लेकर हुआ था विवाद बताया जाता है कि शनिवार को हुकुम सिंह और शुभम के बीच अण्डा का ठेला लगाने को लेकर विवाद हुआ था। हुकुम सिंह ने शुभम के साथ मारपीट भी की थी। इस पर आसपास के दुकानदारों ने बीच में पड़कर मामले को शांत करा दिया था। शुभम के घर पहुंचकर फिर किया झगड़ा विजयीपुर में हुए विवाद के बाद हुकुम सिंह अपने घर पहुंचा और पत्नी मीनू को शुभम से हुए झगड़े के बारे में बताया। आरोप है कि हुकुम सिंह और उसके परिवार के लोग शुभम के घर जा धमके और गाली-गलौज शुरू कर दी। उस वक्त शुभम की पत्नी आरती अकेली थी। दोनों पक्षों में तीखी नोकझोंक हुई। हाथापाई के दौरान गर्भवती आराती जमीन पर गिर गयी। आरोप है कि इस दौरान आरोपी हुकुम सिंह और पत्नी मीनू ने पीट पीटकर लहूलुहान कर दिया। इससे गर्भवती आरती के मुंह और नाक से खून निकलने लगा। घटना के बाद आरोपी वहां से भाग निकले। सूचना पाकर पहुंचा शुभम ने पुलिस को घटना की जानकारी दी। शुभम पत्नी को इलाज के लिए राम मनोहर लोहिया अस्पताल लेकर पहुंचे, जहां से डाक्टरों ने आरती को ट्रामा सेंटर रिफर कर दिया। ट्रामा सेंटर ले जाते वक्त आरती की रास्ते में ही मौत हो गयी। शुभम ने फौरन सूचना पुलिस कंट्रोल रूम को दी। मौके पर पहुंची पुलिस ने छानबीन के बाद आराती के शव को पोस्टमार्टम के लिए भेज दिया। इंस्पेक्टर विभूतिखण्ड राजीव द्विवेदी ने बताया इस मामले में हुकुम सिंह और उसकी पत्नी मीनू के खिलाफ गैर इरादतन हत्या की रिपोर्ट दर्ज कर ली है और उनकी तलाश की जा रही है।