राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद का राष्ट्र के नाम संदेश, ‘न्यू इंडिया’ में गरीबी की कोई जगह नहीं होगी

नई दिल्ली। राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद ने सोमवार को ‘न्यू इंडिया’ को भेदभाव विहीन बनाने का देशवासियों से आह्वान किया। उन्होंने कहा कि यह एक ऐसा समाज होना चाहिए, जो भविष्य की ओर तेजी से बढ़ने के साथ-साथ संवेदनशील भी हो, जिसमें कोई भेदभाव न हो। उन्होंने कहा कि ‘न्यू इंडिया’ समग्र मानवतावादी मूल्यों को समाहित करे, क्योंकि यही मानवीय मूल्य देश की संस्कृति की पहचान हैं।

स्वतंत्रता दिवस की 70वीं वर्षगांठ पर देश के नाम अपने संबोधन में राष्ट्रपति कोविंद ने कहा कि 2022 में देश अपनी आजादी के 75 साल पूरे करेगा। ‘न्यू इंडिया’ के लिए कुछ महत्वपूर्ण लक्ष्यों को प्राप्त करने का ‘राष्ट्रीय संकल्प’ है जैसे हर परिवार के लिए घर, मांग के मुताबिक बिजली, बेहतर सड़कें और संचार के माध्यम, आधुनिक रेल नेटवर्क, तेज और सतत विकास।

{ यह भी पढ़ें:- मोदी कैबिनेट फेरबदल Live: निर्मला सीतारमण बनी रक्षा मंत्री, पीयूष गोयल को रेल मंत्रालय }

कोविंद ने कहा, ‘एक ऐसा संवेदनशील समाज, जहां पारंपरिक रूप से वंचित लोग, चाहे वे अनुसूचित जाति के हों, जनजाति के हों या पिछड़े वर्ग के हों, देश के विकास प्रक्रिया में सहभागी बनें। एक ऐसा संवेदनशील समाज, जो उन सभी लोगों को अपने भाइयों और बहनों की तरह गले लगाए, जो देश के सीमांत प्रदेशों में रहते हैं, और कभी-कभी खुद को देश से कटा हुआ सा महसूस करते हैं।’

उन्होंने कहा, ‘एक ऐसा संवेदनशील समाज, जहां अभावग्रस्त बच्चे, बुजुर्ग और बीमार वरिष्ठ नागरिक, और गरीब लोग, हमेशा हमारे विचारों के केंद्र में रहें। अपने दिव्यांग भाई-बहनों पर हमें विशेष ध्यान देना है और यह देखना है कि उन्हें जीवन के हर क्षेत्र में अन्य नागरिकों की तरह आगे बढ़ने के अधिक से अधिक अवसर मिलें। एक ऐसा संवेदनशील और समानता पर आधारित समाज, जहां बेटा-बेटी में कोई भेदभाव न हो, धर्म के आधार पर कोई भेदभाव न हो।’

{ यह भी पढ़ें:- मोदी कैबिनेट विस्तार: चार को प्रमोशन के साथ नौ नए चेहरों को मिला स्थान }