‘मन की बात’ में बोले PM मोदी, जनता के दर्द को महसूस किया

नई दिल्ली। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने रविवार को ‘मन की बात’ में देश की जनता को संबोधित करते हुए कहा कि नोटबंदी से लोगों को हुई परेशानियों के दर्द को उन्होने महसूस किया है। हालांकि उन्होंने कहा कि भ्रष्टाचार और काले धन पर अंकुश लगाने के लिए यह जरूरी था। नोटबंदी के बाद से पीएम मोदी का ‘मन की बात’ में यह दूसरा सम्बोधन था।




मोदी ने अपने मासिक रेडियो संबोधन ‘मन की बात’ में कहा कि लोग दर्द से गुजर रहे हैं। किसने इस दर्द को महसूस नहीं किया। मैंने इस दर्द को लोगों से अधिक महसूस किया है। पीएम मोदी ने महामना मदनमोहन मालवीय और अटल बिहारी वाजपेयी के जन्मदिन के मौके पर उन्हें याद किया।

मोदी ने कहा कि उन्हें नोटबंदी पर लोगों से तीन तरह के सुझाव मिले हैं। उन्होंने कहा, कुछ लोगों ने नागरिकों के सामने आ रही समस्याओं, असुविधाओं के बारे में लिखा। दूसरी श्रेणी में लोगों ने इसे राष्ट्र के हित में अच्छे काम के रूप में चिन्हित किया। उन्होंने हालांकि कुछ हिस्सों में अनियमितताओं और भ्रष्टाचार के नए तरीकों पर भी बात की।




उन्होंने कहा, तीसरी श्रेणी में लोगों ने नोटबंदी के कदम का समर्थन किया। इसके अतिरिक्त उन्होंने काले धन और भ्रष्टाचार के खिलाफ युद्ध जारी रखने का आग्रह किया।