स्कार्फ पहनकर आना है तो मदरसे में लो एडमिशन, अभिवावक करेंगे सीएम योगी से शिकायत

बाराबंकी। यूपी के बाराबंकी जिले में एक मुस्लिम छात्रा को सिर से स्कार्फ हटाने को कहा गया। आनंद भवन प्राइवेट स्कूल की कक्षा सात की छात्रा गुरुवार को जब स्कार्फ लगाकर स्कूल पहुंची तो स्कूल प्रशासन ने इस पर ऐतराज जताते हुए छात्रा से कहा कि सिर पर स्कार्फ पहनकर दोबारा कभी स्कूल न आए। अगर इस आदेश को मानने में दिक्कत है तो हिदायत देते हुए कहा कि अगर ऐसे ही आना है तो आप इस्लामिक स्कूल में दाखिला लें।

Principal Ordered To Girl Student To Remove Scarf Otherwise Go To Islamic School :

इस बात की जानकारी जब छात्रा ने अपने पिता को दी तब वो स्कूल को चिट्ठी भेजकर इसका कारण जानना चाहा तो स्कूल प्रबंधन ने लिखित जवाब में कहा कि इस विषय पर सवाल ना करें और आगे फिर कभी ऐसा नहीं होना चाहिए। अगर स्कूल के अनुशासन को पालन नहीं कर सकते हैं तो बच्ची का एडमिशन किसी इस्लामिक स्कूल में करवा लें।

वहीं जब मामला मीडिया तक पहुंचा तो स्कूल की प्रिन्सिपल ने अपनी सफाई में कहा कि हम किसी भी धर्म की भावनाओं को ठेस नहीं पहुंचाना चाहते। लेकिन जिसे भी यहां के अनुशासन से दिक्कत है तो वो अपनी बच्ची का एडमिशन किसी और स्कूल में करवा लें।

उन्होने आगे कहा कि स्कूल के नियम सभी के लिए एक हैं। जिनका पालन हर छात्र और उसके माता-पिता को करना पड़ता है। ये जानकारी एडमिशन फॉर्म में भी दे दी जाती है। वहीं इस बात से भड़के अभिवावक मामले की शिकायत सीएम योगी से करने की बात कर रहे हैं।

बाराबंकी। यूपी के बाराबंकी जिले में एक मुस्लिम छात्रा को सिर से स्कार्फ हटाने को कहा गया। आनंद भवन प्राइवेट स्कूल की कक्षा सात की छात्रा गुरुवार को जब स्कार्फ लगाकर स्कूल पहुंची तो स्कूल प्रशासन ने इस पर ऐतराज जताते हुए छात्रा से कहा कि सिर पर स्कार्फ पहनकर दोबारा कभी स्कूल न आए। अगर इस आदेश को मानने में दिक्कत है तो हिदायत देते हुए कहा कि अगर ऐसे ही आना है तो आप इस्लामिक स्कूल में दाखिला लें।इस बात की जानकारी जब छात्रा ने अपने पिता को दी तब वो स्कूल को चिट्ठी भेजकर इसका कारण जानना चाहा तो स्कूल प्रबंधन ने लिखित जवाब में कहा कि इस विषय पर सवाल ना करें और आगे फिर कभी ऐसा नहीं होना चाहिए। अगर स्कूल के अनुशासन को पालन नहीं कर सकते हैं तो बच्ची का एडमिशन किसी इस्लामिक स्कूल में करवा लें।वहीं जब मामला मीडिया तक पहुंचा तो स्कूल की प्रिन्सिपल ने अपनी सफाई में कहा कि हम किसी भी धर्म की भावनाओं को ठेस नहीं पहुंचाना चाहते। लेकिन जिसे भी यहां के अनुशासन से दिक्कत है तो वो अपनी बच्ची का एडमिशन किसी और स्कूल में करवा लें।उन्होने आगे कहा कि स्कूल के नियम सभी के लिए एक हैं। जिनका पालन हर छात्र और उसके माता-पिता को करना पड़ता है। ये जानकारी एडमिशन फॉर्म में भी दे दी जाती है। वहीं इस बात से भड़के अभिवावक मामले की शिकायत सीएम योगी से करने की बात कर रहे हैं।