अयोध्या पर फैसले से पहले पीएम मोदी बोले-2010 में सभी ने किया था निर्णय का सम्मान

pm modi
अयोध्या पर फैसले से पहले पीएम मोदी बोले-2010 में सभी ने किया था निर्णय का सम्मान

नई दिल्ली। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी रविवार को मन की बात को संबोधित करते हुए अयोध्या पर आने वाले फैसले से पहले बयान दिया। उन्होंने कहा कि अयोध्या में राममंदिर—बाबरी मस्जिद मामले पर सुप्रीम कोर्ट में सुनवाई पूरी हो चुकी है। उम्मीद है कि नवंबर माह में इस पर फैसला आ जायेगा।

Prior To The Decision On Ayodhya Pm Modi Said That In 2010 Everyone Had Respected The Decision :

पीएम मोदी ने कहा कि 2010 में इलाहाबाद हाईकोर्ट का राम मंदिर मामले पर जब फैसला आना था तो देश में कुछ बड़बोले लोगों ने क्या-क्या बोला था और कैसा माहौल बनाया गया था। लेकिन यह सब दो—चार दिन चलता रहा। हालांकि, जैसे ही फैसला आया सभी राजनैतिक दल, सामाजिक संगठनों, सभी संप्रदाय के लोगों और राजनीतिक दलों ने बहुत ही संतुलित बयान दिया था।

उन्होंने कहा कि, न्यायपालिका के गौरव का सम्मान किया। एकता का स्वर, देश को, कितनी बड़ी ताकत देता है उसका यह उदाहरण है। मन की बात को संबोधित करते हुए पीएम ने कहा कि, मुझे विश्वास है कि 31 अक्टूबर की तारीख सभी को याद होगी। यह दिन भारत के लौहपुरुष सरदार वल्लभभाई पटेल की जन्म जयंती का है। सरदार पटेल बारीक से बारीक चीजों को भी बहुत गहराई से देखते थे, परखते थे।

सही मायने में वे मैन ऑफ डिटेल थे। इसके साथ ही वे संगठन कौशल में भी निपुण थे। इसके साथ ही पीएम मोदी ने देशवासियों को दीप पर्व दीपावली की बधाई दी। उन्होंने कहा कि आजकल दुनिया के अनेक देशों में दिवाली मनाई जाती है। विशेष बात यह है कि इसमें सिर्फ भारतीय समुदाय ही शामिल नहीं होता बल्कि अब कई देशों की सरकारें और वहां के नागरिक दिवाली में शामिल होते हैं।

नई दिल्ली। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी रविवार को मन की बात को संबोधित करते हुए अयोध्या पर आने वाले फैसले से पहले बयान दिया। उन्होंने कहा कि अयोध्या में राममंदिर—बाबरी मस्जिद मामले पर सुप्रीम कोर्ट में सुनवाई पूरी हो चुकी है। उम्मीद है कि नवंबर माह में इस पर फैसला आ जायेगा। पीएम मोदी ने कहा कि 2010 में इलाहाबाद हाईकोर्ट का राम मंदिर मामले पर जब फैसला आना था तो देश में कुछ बड़बोले लोगों ने क्या-क्या बोला था और कैसा माहौल बनाया गया था। लेकिन यह सब दो—चार दिन चलता रहा। हालांकि, जैसे ही फैसला आया सभी राजनैतिक दल, सामाजिक संगठनों, सभी संप्रदाय के लोगों और राजनीतिक दलों ने बहुत ही संतुलित बयान दिया था। उन्होंने कहा कि, न्यायपालिका के गौरव का सम्मान किया। एकता का स्वर, देश को, कितनी बड़ी ताकत देता है उसका यह उदाहरण है। मन की बात को संबोधित करते हुए पीएम ने कहा कि, मुझे विश्वास है कि 31 अक्टूबर की तारीख सभी को याद होगी। यह दिन भारत के लौहपुरुष सरदार वल्लभभाई पटेल की जन्म जयंती का है। सरदार पटेल बारीक से बारीक चीजों को भी बहुत गहराई से देखते थे, परखते थे। सही मायने में वे मैन ऑफ डिटेल थे। इसके साथ ही वे संगठन कौशल में भी निपुण थे। इसके साथ ही पीएम मोदी ने देशवासियों को दीप पर्व दीपावली की बधाई दी। उन्होंने कहा कि आजकल दुनिया के अनेक देशों में दिवाली मनाई जाती है। विशेष बात यह है कि इसमें सिर्फ भारतीय समुदाय ही शामिल नहीं होता बल्कि अब कई देशों की सरकारें और वहां के नागरिक दिवाली में शामिल होते हैं।