1. हिन्दी समाचार
  2. प्रियंका गांधी बोलीं मेरी सुरक्षा छोटी सी बात, बदले की भावना छोड़ें भगवाधारी योगी

प्रियंका गांधी बोलीं मेरी सुरक्षा छोटी सी बात, बदले की भावना छोड़ें भगवाधारी योगी

Priyanka Gandhi Said My Security Is A Small Matter Leave The Spirit Of Revenge

लखनऊ। उत्तर प्रदेश कांग्रेस द्वारा लखनऊ में प्रेस वार्ता का आयोजन किया गया। वहीं बताया गया कि प्रदेश में चल रही अराजकता को लेकर कांग्रेस का प्रतिनिधि मंडल आज उत्तर प्रदेश की राज्यपाल आनंदी बेन पटेल से मिला है।  वहीं इस दौरान प्रियंका गांधी ने कहा कि मेरी सुरक्षा की कोई बात नही है हम सिर्फ प्रदेश की सुरक्षा की बात कर रहे हैं, इस दौरान उन्होने योगी आदित्यनाथ पर भी हमला करते हुए कहा कि योगी जी ने जो भगवा कपड़े पहन रखे हैं, ये कपड़े हिन्दू धर्म के है, उस धर्म में हिंसा और बदले की भावना नही है। इस दौरान कांग्रेस महासचिव प्रियंका गांधी, प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष अजय कुमार लल्लू, विधायक मोना, सलमान खुर्शीद, प्रमोद तिवारी भी मौजूद रहे।

पढ़ें :- नेपाल के पीएम केपी शर्मा ओली को कम्युनिस्ट पार्टी से किया गया बाहर

प्रियंका बोलीं कुछ दिनो से हम देख रहे है प्रदेश सरकार, पुलिस द्वारा कई जगह अराजकता फैलाई जा रही है। ऐसे कदम उठाये हैं जिनका कोई लीगल आधार नही है। आप जानते है कि मै बिजनौर गई थी, दो युवको की मोत हुई थी। एक लड़का अनस काफी मशीन चलाता था, घर के बाहर खड़ा था, दूध लेने गया था, पिता इंतजार करता रहा तभी पता चला कि उनके बेटे का शव पड़ा था, अस्पताल ले गये तो वहां भी मदद नही मिली। परिवार को एफआईआर न करने के लिए धमकाया गया। मुझसे पिता रोते हुए बोले कि मैं अपने ​बेटे की कब्र भी न देख पाउंगा।

वहीं उन्होने बताया कि बिजनौर का दूसरा लड़का 21 वर्षीय सुलेमान घर आया हुआ था, मस्जिद गया था नमाज पढ़ने, निकला तो पता चला पुलिस उठा ले गये। बाद में लड़का घर वालों को म्रत मिला और उस समय उसके शरीर पर कपड़े भी नही थे। एकबार फिर शाम को पुलिस आयी और धमकाया कि कोई कार्रवाई नही होगी।

उन्होने कहा कि लखनऊ में रिटायर्ड आईपीएस 77 साल के दारापुरी जो की अम्बेडकरवादी है, उनके कमरे में सिर्फ किताबें रखी है, शनिवार को मै उनके घर ही जा रही थी तो मुझे रोक दिया गया था। उन्होने फेसबुक पर एक पोस्ट डाली थी नागरिकता कानून के खिलाफ और दूसरी पोस्ट में उन्होने लिखा था कि नागरिकता लिस्ट में डाल दिया गया। वहीं कांग्रेस की कार्यकर्ता सदफ जफर के खिलाफ भी कार्यवाही हुई है। उनके बच्चे मां का इंतजार कर रहे हैं, उनकी गलती थी कि वो सिर्फ प्रदर्शन का वीडियो बना रही थी। वहीं दीपक कबीर सिर्फ थाने सदफ जफर के बारे में जानकारी लेने गये थे तो उन्हे भी बंद कर दिया गया।

उन्होने कहा कि वाराणसी में कुछ बच्चे शांति पूर्वक प्रदर्शन कर रहे थे तो वहां पर उन्हे भी जेल में डाल दिया गया। इन बच्चों में दिवाकर सिंह, धनंजय त्रिपाठी, दीपक सिंह, रवेन्द्र भारती, एकता, रवी शेखर, जैसे बच्चे अभी पढ़ाई कर रहे हैं। कई वीडियो ऐसे आये जहां पुलिस ने तोड़फोड़ किया। उन्होने योगी आदित्यनाथ पर हमला करते हुए कहा कि ऐसा पहला मुख्यमंत्री होगा जिसने कहा जनता से बदला लिया जायेगा। दारापुरी जैसे लोगों ने मेहनत से पैसा कमाया उन्हे नोटिस भेजा गया।

पढ़ें :- उत्तर प्रदेश स्थापना दिवसः पीएम मोदी, रक्षामंत्री राजनाथ से लेकर कई नेताओं ने दी बधाई

उन्होने कहा कि ये कृष्ण और राम का देश है, यहां शिव जी की बारात में लोग नाचते हैं। देश की आत्मा में हिंसा, बदले की भावना नही है। उन्होने बताया कि जब श्रीकृष्ण ने अर्जुन को उपदेश दिया तो श्रीकृष्ण ने बदले की भावना नही बताई। योगी जी ने जो भगवा धारण किया वो उनका नही बल्कि हिंदू धर्म का चिन्ह है, उस धर्म में हिंसा और बदले की भावना की कोई जगह नही है।

इस दौरान उन्होने अपनी कुछ मांगो के बारे में भी बताया, उन्होने कहा कि हमारी मांगे है कि उत्तर प्रदेश सरकार के ग्रह विभाग व पुलिस द्वारा तुरन्त अपराधिक कार्रवाई बंद किये जाये। हाईकोर्ट के जज द्वारा जांच की जाये। सम्पत्ति न जब्त की जायें। शान्ति पूर्वक प्रदर्शन करने वाले छात्रो पर कोई कार्यवाही न की जाये। जब उनकी सुरक्षा के बारे में बात की गयी तो उन्होने कहा मेरी सुरक्षा का सवाल बड़ा नही है, उसपर कोई बात न हो, हम सिर्फ प्रदेश की सुरक्षा की बात कर रहे है। वहीं सलमान खुर्शीद ने कहा कि नागरिकता संशोधन कानून के खिलाफ प्रदर्शन करने वालों पर गलत कार्रवाई हुई है। पुलिस के भी कई वीडियो सामने आये हैं, हम हाईकोर्ट जायेंगे।

Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करे...