1. हिन्दी समाचार
  2. संविदा सिस्टम पर भड़की प्रियंका गांधी बोल- संविदा नौकरियों से सम्मान विदा

संविदा सिस्टम पर भड़की प्रियंका गांधी बोल- संविदा नौकरियों से सम्मान विदा

Priyanka Gandhi Speaks Out On Contract System Farewell From Contract Jobs

By सोने लाल 
Updated Date

लखनऊ। कांग्रेस महासचिव प्रियंका गांधी (Priyanka Gandhi) ने सरकारी नौकरियों (Government Job) में संविदा सिस्टम और स्पेशल फोर्स को लेकर योगी सरकार (Yogi Government) पर निशाना साधा है। मंगलवार को उन्होंने ट्वीट कर योगी सरकार पर संविदा के जरिए युवाओं के अपमान का आरोप लगाया है। कांग्रेस महासचिव ने ट्वीट करते हुए लिखा, ”संविदा की नौकरियों से सम्मान विदा, 5 साल की संविदा, युवा अपमान कानून, माननीय सर्वोच्च न्यायालय ने पहले भी इस तरह के कानून पर अपनी तीखी टिप्पणी की है। इस सिस्टम को लाने का उद्देश्य क्या है? सरकार युवाओं के दर्द पर मरहम न लगाकर दर्द बढ़ाने की योजना ला रही है। इस ट्वीट के बाद उन्होंने #नहीं_चाहिए_संविदा का हैशटैग भी इस्तेमाल किया।

पढ़ें :- Mi Smart स्पीकर भारत में हुआ लॉन्च, कुछ इस तरह करता है काम

दरअसल, सरकारी नौकरियों (Government Job) में भर्ती को लेकर योगी सरकार (Yogi Government) बड़े बदलाव की तैयारी है। इसके तहत समूह ‘ख’ व ‘ग’ की भर्तियों में चयन के बाद पांच वर्ष तक संविदा कर्मचारी के तौर पर काम करना होगा। इस दौरान हर छह माह में कर्मचारी का मूल्यांकन किया जाएगा और साल में 60 फ़ीसदी से कम अंक पाने वाले सेवा से बाहर हो जाएंगे। लिहाजा पांच साल बाद उन्हीं कर्मचारी को नियमित सेवा में रखा जाएगा जिन्हें 60 फ़ीसदी अंक मिलेंगे। इस दौरान कर्मचारियों को नियमित सेवकों की तरह मिलने वाले अनुमन्य सेवा संबंधी लाभ नहीं मिलेंगे।

जानकारी के मुताबिक कार्मिक विभाग इस प्रस्ताव को जल्द कैबिनेट के समक्ष लाने की तैयारी कर रहा है। इसके लिए हर विभाग से सुझाव मांगे जा रहे हैं। सभी विभागों से सुझाव लेने के बाद इसे कैबिनेट में लाया जा सकता है। इसके पीछे का तर्क यह है कि इस व्यवस्था से कर्मचारियों की दक्षता बढ़ेगी। साथ ही नैतिकता देशभक्ति और कर्तव्यपरायणता के मूल्यों का विकास होगा। इतना ही नहीं सरकार पर वेतन का खर्च भी कम होगा।

मृतक आश्रित कोटे पर भी होगी लागू

मीडिया रिपोर्ट के मुताबिक प्रस्तावित व्यवस्था समस्त सरकारी विभागों के समूह ख व समूह ग के पदों पर लागू होगी। यह मृतक आश्रित कोटे से से भर्ती होने वाले कर्मचारियों पर भी लागू होगी। हालांकि इसके दायरे से केवल पीसीएस, पीपीएस और पीसीएस-जे के पद ही बाहर होंगे।

पढ़ें :- यूपी विधान परिषद् में हर स्तर पर निकलीं नौकरियां, 5वीं पास को भी 57 हजार तक सैलरी

Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करे...