1. हिन्दी समाचार
  2. उत्तर प्रदेश
  3. प्रियंका गांधी तो कमरे में बंद थीं, वह हमारा संघर्ष नहीं देख पाईं : अखिलेश यादव

प्रियंका गांधी तो कमरे में बंद थीं, वह हमारा संघर्ष नहीं देख पाईं : अखिलेश यादव

यूपी के लखीमपुर खीरी जिले में हुई हिंसा को लेकर बवाल भले ही थम गया हो, लेकिन प्रदेश में राजनीति अभी भी जारी है। बुधवार को समाजवादी पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष व सूबे के पूर्व मुख्यमंत्री अखिलेश यादव ने कहा कि गृहराज्य मंत्री अजय मिश्रा टेनी को तत्काल इस्तीफा देना चाहिए। लखीमपुर हिंसा पर अखिलेश यादव ने तंज कसते हुए कहा कि ये डबल इंजन की सरकार है, लेकिन एक-दूसरे को टक्कर मार रही है।

By संतोष सिंह 
Updated Date

लखनऊ। यूपी के लखीमपुर खीरी (Lakhimpur Kheri) जिले में हुई हिंसा को लेकर बवाल भले ही थम गया हो, लेकिन प्रदेश में राजनीति अभी भी जारी है। बुधवार को समाजवादी पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष व सूबे के पूर्व मुख्यमंत्री अखिलेश यादव (Akhilesh Yadav)  ने कहा कि गृहराज्य मंत्री अजय मिश्रा टेनी को तत्काल इस्तीफा देना चाहिए। लखीमपुर हिंसा पर अखिलेश यादव (Akhilesh Yadav)   ने तंज कसते हुए कहा कि ये डबल इंजन की सरकार है, लेकिन एक-दूसरे को टक्कर मार रही है।

पढ़ें :- विधानसभा में केशव मौर्य की बात पर बिफरे अखिलेश पिता तक पहुंचे, सीएम योगी ने संभाला मोर्चा

इस दौरान जब उनसे प्रियंका गांधी (Priyanka Gandhi) को लेकर लखीमपुर हिंसा (Lakhimpur Violence) पर विपक्ष के सुस्त रवैये के आरोप पर जब सवाल पूछा गया तो वह भड़क गए। उन्होंने कहा कि प्रियंका तो कमरे में बंद थीं, वो हमारा संघर्ष नहीं देख पाईं। उन्होंने कहा कि किसी भी दल को दूसरे दल पर टिप्पणी करना उचित नहीं है। सबसे ज्याद संघर्ष समाजवादी पार्टी (Samajwadi Party) के कार्यकर्ताओं ने सड़कों पर संघर्ष किया है। बता दें कि सीतापुर में हिरासत में लिए जाने के बाद प्रियंका गांधी (Priyanka Gandhi)  ने कहा था कि समाजवादी पार्टी (Samajwadi Party) और बहुजन समाज पार्टी (Bahujan samaj party मैदान में संघर्ष करती नहीं दिखतीं है।

लखीमपुर में हुई हिंसा के अगले ही दिन प्रियंका गांधी (Priyanka Gandhi)  को तड़के हरगांव के पास हिरासत में ले लिया गया था। और उसी दिन यानी सोमवार को अखिलेश यादव को भी हिरासत में ले लिया गया था। प्रियंका गांधी (Priyanka Gandhi)  को सीतापुर के गेस्ट हाउस में रखा गया था। वहां से उनका एक झाड़ू लगाते हुए वीडियो सामने आया था। इस वीडियो को लेकर जब अखिलेश से सवाल किया गया तो उन्होंने कहा कि इस पर कोई बहस नहीं है। सबको गिरफ्तार किया गया। किसी को कहीं रखा गया, जहां पुलिस ही नहीं थी। हमें ले जाया गया कि यही आपकी जेल है। उन्होंने कहा कि जब सरकार के पास इंतजाम नहीं है। सरकार तैयार ही नहीं है। केवल सरकार इसलिए तैयार है कि कोई पीड़ित परिवार से नहीं मिल ले। योगी सरकार ने विपक्ष को रोकने के लिए पूरी फोर्स लगा रखी है।

प्रियंका गांधी (Priyanka Gandhi) को लेकर राहुल गांधी (Rahul Gandhi) ने बोला था कि ये किसी महिला के साथ ठीक बर्ताव नहीं था। इस पर अखिलेश यादव (Akhilesh Yadav)  ने कहा कि बीजेपी का यही तरीका है काम करने का है। हाथरस की बेटी हो या कहीं की भी कन्या की बात हो। उन्होंने कहा कि मुख्यमंत्री के गृह जनपद गोरखपुर में हत्या होती है। अखिलेश यादव (Akhilesh Yadav)   ने कहा कि 6 पुलिसवाले जाते हैं और एक व्यापारी को पीटते हैं। पीटते-पीटते उनकी जान चली जाती है। अभी भी पुलिस के लोग फरार हैं। महोबा में एक ब्राह्मण कारोबारी की हत्या हो गई। आज तक आईपीएस फरार है। अभी लखीमपुर में कुचल दिए गए। एक पत्रकार की जान चली गई और सब फरार हैं। आज तक कोई गिरफ्तार नहीं हुआ। अखिलेश यादव (Akhilesh Yadav)   ने आगे कहा कि अगर गृह राज्यमंत्री होंगे। उनके बेटे ने अपराध किया होगा, तो कौन पकड़ेगा? इसलिए सरकार उनको बचाना चाहती है ताकि सच्चाई बाहर न आए।

पढ़ें :- क्या आजम खान और अखिलेश के बीच मिट गई दूरियां, जानिए कपिल सिब्बल में इसमें भूमिका?
इन टॉपिक्स पर और पढ़ें:
Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक, यूट्यूब और ट्विटर पर फॉलो करे...