1. हिन्दी समाचार
  2. यूपी सरकार की बिजनेस रैंकिंग पर प्रियंका ने उठाए सवाल, यूपी में सिर्फ ‘ईज ऑफ डूइंग क्राइम’ है

यूपी सरकार की बिजनेस रैंकिंग पर प्रियंका ने उठाए सवाल, यूपी में सिर्फ ‘ईज ऑफ डूइंग क्राइम’ है

Priyanka Questions On Up Governments Business Ranking Only Ease Of Doing Crime In Up

By सोने लाल 
Updated Date

लखनऊ। यूपी की बिजनेस रैंकिंग पर सवाल करते हुए कांग्रेस महासचिव प्रियंका गांधी वाड्रा ने योगी सरकार पर साधा निशाना। राज्य की अपराधिक घटनाओं की आर इशारा करते हुए प्रियंका गांधी ने कहा कि यूपी में सिर्फ ईज ऑफ डूइंग क्राइम’ है।

पढ़ें :- बीजेपी ने जारी की लालू राज की डिक्शनरी....क से क्राइम, ख से खतरा, ग से गोली...

वहीं, ईज ऑफ डूइंग बिजनेस रैंकिंग के मामले मेें यूपी ने बड़ी छलांग लगाई थी। नरेंद्र मोदी सरकार द्वारा जारी रैंकिंग के मुताबिक यूपी सरकार 12वें पायदान से छालांग लगाकर दूसरे पायदान पर पहुंच गया है। केंद्र सरकार ने ये रैंकिंग शनिवार को जारी की थी।

सीएम योगी आदित्यनाथ के दफ्तर से एक ट्वीट जारी किया गया था और कहा गया था कि सीएम योगी आदित्यनाथ के नेतृत्व में उ.प्र. समृद्धि व सृजन के नए सोपान रच रहा है। यूपी द्वारा ‘ईज ऑफ डूइंग बिजनेस रैंकिंग’ में गत वर्ष 12वें स्थान के सापेक्ष इस वर्ष द्वितीय स्थान प्राप्त करना, इसका प्रमाण है। ‘आत्मनिर्भर भारत’ की संकल्पना साकार हो रही है।

प्रियंका गांधी ने इस रैंकिंग पर टिप्पणी करते हुए कहा कि ईज ऑफ डूइंग बिजनेस पर यूपी सरकार का खुद की पीठ थपथपाना वैसा ही है जैसे लापता MOUs के बल पर निवेश कराना। प्रियंका गांधी ने कहा कि प्रदेश में उद्योग धंधे बंद हो रहे हैं। फैक्ट्रियों में ताला है, बुनकर करघा बेच रहे हैं। वास्तव में यहां केवल ईज ऑफ डूइंग क्राइम और ईज ऑफ डूइंग घोटाला है।

केंद्र सरकार की इस रैंकिंग के मुताबिक पहले स्थान पर आंध्र प्रदेश है, जबकि दूसरे स्थान पर उत्तर प्रदेश, उसके बाद तेलंगाना, मध्य प्रदेश, झारखंड, छत्तीसगढ़, हिमाचल प्रदेश, राजस्थान, पश्चिम बंगाल और गुजरात का स्थान आता है।

पढ़ें :- संजय सिंह ने बोला यूपी सरकार पर हमला, कहा-सत्ता में आए तो दिल्ली मॉडल उत्तर प्रदेश में लागू होगा

इससे पहले 3 सितंबर को एक ट्वीट में प्रियंका ने कहा था कि युवाओं को रोजगार दिए बिना देश आत्मनिर्भर कैसे बनेगा। नोएडा में 7000 छोटी और मध्यम आकार की फैक्ट्रियां बंद होने की कगार पर हैं। नए रोजगारों का रास्ता बंद है। पुराने रोजगारों पर ताला बंद है। देश व प्रदेश का शासन झूठे विज्ञापनों और झूठ भरे भाषणों से चलाया जा रहा है।

Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करे...