1. हिन्दी समाचार
  2. उत्तर प्रदेश
  3. प्रियंका वाड्रा ने की ने की हाथरस दुष्कर्म पीड़िता के परिजनों से फोन पर बात, जल्द ही जाएंगी उनके घर

प्रियंका वाड्रा ने की ने की हाथरस दुष्कर्म पीड़िता के परिजनों से फोन पर बात, जल्द ही जाएंगी उनके घर

Priyanka Vadra Has Spoken On The Phone To The Family Of Hathras Rape Victim Will Soon Go To Her House

By टीम पर्दाफाश 
Updated Date

लखनऊ: उत्तर प्रदेश में हाथरस प्रकरण को लेकर विरोधी दल सरकार को घेरने में जुटे हैं। प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष अजय कुमार लल्लू के नेतृत्व में प्रदेश मुख्यालय से मोमबत्ती जुलूस निकालकर पीड़ित लड़की को श्रद्धांजलि अर्पित करते हुए न्याय दिलाने की मांग की गयी। वहीं अजयलल्लू ने मंगलवार को वर्चुअल प्रेसवार्ता में कहा कि आज का दिन बहुत दुःखद है जब यूपी की एक और दलित बेटी हाथरस में हैवानियत का शिकार होकर जिन्दगी की जंग हार गयी। उन्होंने कहा कि कांग्रेस महासचिव प्रियंका वाड्रा ने पीड़ित परिवारजनों से फोन पर बात की है वह शीघ्र ही उनके घर भी जायेंगी।

पढ़ें :- काम न आया अखिलेश का दांव, बसपा में सेंधमारी के बावजूद सपा समर्थित प्रत्याशी का पर्चा निरस्त

प्रदेश अध्यक्ष ने कहा कि आज उत्तर प्रदेश में अपराध सिर चढ़कर बोल रहा है। जंगलराज एवं गुण्डाराज कायम हो चुका है, यह अधिकारी, अपराधी और सरकार के गठजोड़ का भयावह परिणाम है। उन्होंने एनसीआरबी के आंकड़ों का हवाला देते हुए कहा कि महिलाओं पर पर होने वाले अपराधों में 20 प्रतिशत का इजाफा हो रहा है और लगभग 11 बलात्कार की घटनाएं औसतन प्रतिदिन हो रही हैं। प्रदेश अध्यक्ष ने राज्यपाल से सीधा प्रश्न करते हुए कहा कि वह राज्य की कानून की दुर्व्यवस्था पर चुप क्यों हैं? आखिर महिलाओं पर लगातार हो रहे अत्याचार पर उनका एक भी बयान क्यों नहीं आया?

अजय लल्लू ने कहा कि मुख्यमंत्री ने सदन में ऐसी घटनाओं को रोकने के लिए फास्ट ट्रैक कोर्ट बनाने का वादा किया था उस वादे का क्या हुआ? उन्होंने कहा कि यह वीभत्स काण्ड योगी सरकार की अपराधी, अधिकारी और सरकार के गठजोड़ का परिणाम है। ऐसे में इस पूरे प्रकरण का फास्ट ट्रैक कोर्ट में मुकदमा चलाकर दोषियों को अविलम्ब सजा दिलायी जाए ।

वर्चुअल प्रेसवार्ता में कांग्रेस की राष्ट्रीय प्रवक्ता सुप्रिया श्रीनेत ने कहा कि आठ दिनों तक पीड़ित की एफआईआर दर्ज नहीं की गयी और पीड़ित को समुचित इलाज के लिए एयरलिफ्ट करके एम्स भी नहीं ले जाया गया जो सरकार की संवेदनहीनता दर्शाती है। सरकार अपराधियों को लगातार बचाती रही और सरकार आधिकारिक तौर पर घटना को फर्जी बताती रही।

उन्होंने कहा कि मुख्यमंत्री के सूचना सलाहकार घटना को लगातार फेक न्यूज साबित करने में जुटे रहे। उन्होंने मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ से पूछा कि आखिर इस घटना पर वे चुप क्यों हैं? बात-बात पर ट्वीट करने वाले प्रदेश के सांसद एवं देश के प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी जी इस वीभत्स एवं दुःखद घटना पर मौन क्यों हैं?

पढ़ें :- बसपा में फूट, अखिलेश से मिले 5 विधायक, माया का बिगड़ सकता है गणित

कांग्रेस विधानमंडल दल की नेता आराधना मिश्रा ने हुए कहा कि सरकार का दोहरा चेहरा बेनकाब हो गया है। बेटी बचाओ-बेटी पढ़ाओ का नारा देने वाली इस सरकार के तीन सालों में अन्याय चरम पर पहुंच गया है और निर्भया काण्ड की पुनरावृत्ति हुई है। उन्होंने कहा कि सरकार द्वारा स्वयं प्रेस विज्ञप्ति जारी कर पीड़ित के मेडिकल रिपोर्ट में कोई गंभीर चोट न होना बताया जाना सरकार की संवेदनहीनता की पराकाष्ठा है। उन्होंने महिला आयोग और एससी-एसटी आयोग की चुप्पी पर भी सवाल उठाया।

इन टॉपिक्स पर और पढ़ें:
Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करे...