नौकरी दिलाने का झांसा देकर लड़कियों से करवाता था देह व्यापार, क्राइम ब्रांच ने किया गिरफ्तार

नई दिल्ली। नौकरी दिलाने का झांसा देकर उत्तर पूर्वी राज्यों में आर्थिक रूप से कमजोर लड़कियों को बहलाकर उनसे जबरन देह व्यापार कराने के आरोप में क्राइम ब्रांच ने दो आरोपियों को गिरफ्तार किया है। दबोचे गए दोनो आरोपी नेपाली है और इनकी पहचान निखिल उर्फ कमल उर्फ सुमित राना और रेम बहादुर उर्फ दीपक के तौर पर की गई। दिल्ली पुलिस ने आरोपियो पर पचास हजार रुपये का इनाम भी घोषित कर रखा था।




संयुक्त पुलिस आयुक्त प्रवीर रंजन के मुताबिक गिरोह उत्तर पूर्वी राज्यों मेघालय, त्रिपुरा, असम, मणिपुर और मिजोरम से गरीब लड़कियों को नौकरी का झांसा देकर दिल्ली लाता था और बाद में उनका शारीरिक शोषण किया जाता था। इस गिरोह के मामले में पिछले साल अगस्त महीने में विभिन्न धाराओं में एक मामला दर्ज किया था। शिकायत के आधार पर पुलिस ने कार्रवाई कर पूर्वी दिल्ली से मेघालय की एक लड़की को मुक्त कराया था। उस दौरान निखिल नामक आरोपी के नाम का खुलासा हुआ था। उस पर आरोप था कि वह लड़कियों को बंधक बनाकर उसे मारता पीटता था और नौकरी दिलाने के बहाने बंधक बनाई गई लड़कियों से अनैतिक कार्य कराता था।

इस जानकारी पर पुलिस टीमें लगातार आरोपियों की तलाश में जुटी थी। इससे पहले भी इस गैंग से तालुक्क रखने वाले दो लोग पकड़े गए थे। इस बीच इंस्पेक्टर रामनिवास की टीम को जानकारी मिली कि इस मामले के आरोपी निखिल समेत एक अन्य आरोपी दक्षिणी दिल्ली में मौजूद हैं इस जानकारी पर दोनो को धर दबोचा गया। आरोपी निखिल ने बताया कि वह साल 2002 में भारत आया था होटल व ढाबे में नौकरी करता था।




बाद में उसका परिचय सेक्स रैकेट चलाने वाले बीरू और जीवन से हुआ और वह इस गोरखधंधे में आ गया था। उसने यह भी खुलासा किया कि बीरू से झगड़ा होने के बाद उसने अपना काम शुरू कर दिया। धनराज, कुसुम और सूरज आदि उसके गिरोह के लिए काम करते थे। फिलहाल पुलिस अन्य आरोपियों की तलाश में है।