महाराष्ट्र में ​भड़की मराठा आरक्षण की मांग को लेकर हिंसा , प्रदर्शनकारियों ने सैकड़ों गाड़ियां फूंकी

maratha reservation
महाराष्ट्र में ​भड़की मराठा आरक्षण की मांग, प्रदर्शनकारियों ने सैकड़ों गाड़ियां फूंकी

महाराष्ट्र। मुंबई में मराठा आरक्षण की मांग को लेकर उठा बवाल थमने का नाम नहीं ले रहा है। सोमवार को भी महाराष्ट्र के कई इलाकों में जमकर हिंसक प्रदर्शन हुए। इस दौरान प्रदेश के कई हिस्सों में आगजनी, सड़क जाम और पुलिस पर हमले हुए। आरक्षण की मांग कर रहे एक व्यक्ति ट्रेन के आगे कूदकर अपनी जान भी दे दी। जिसके बाद प्रदर्शनकारी और गुस्से में आ गए और 100 से ज्यादा वाहनों में आग लगाते हुए मुंबई में जेल भरो आंदोलन करने की चेतावनी दी है।

Protest For Maratha Reservation In Maharastra One Man Attemt Suicide :

बताया जा रहा है कि पुणे के चाकन, उस्मानाबाद, सोलापुर, कोल्हापुर, नंदूरबार व औरंगाबाद में अगजनी, हिंसा, सड़क जाम करने की छिटपुट घटनाएं हुईं और पैदल व मोटरसाइकिल पर नारेबाजी के साथ जुलूस निकाले गए। हंगामे को देखते हुए यहां धारा 144 लगा दी गई है। बता दें कि प्रदर्शनकारी प्रमोद होरे पाटील ने ट्रेन के आगे कूदकर अपनी जान दे दी। इससे पहले उसने फेसबुक पर आरक्षण को लेकर एक पोस्ट भी डाली थी। उसने रविवार को ही ट्रेन के आगे छलांग लगाई थी, लेकिन उसका शव सोमवार शाम मुकुंदवाड़ी रेलवे स्टेशन के पास बरामद किया गया, जिसके बाद जिले के कुछ हिस्सों में बंद का ऐलान कर दिया गया।

बता दें कि आरक्षण की मांग कर रहे लोगों ने पुणे के चाकन, हिंजेवाड़ी, खेड़ व पुणे-नासिक राजमार्ग पर राज्य परिवहन की पांच बसों सहित दो दर्जन वाहनों को आग के हवाले कर दिया। नाराज प्रदर्शनकारियों ने चाकन पुलिस थाने में भी तोड़फोड़ व मारपीट की,जिसमें पांच पुलिसकर्मी घायल हो गए। इसके अलावा तीन स्थानीय लोग भी पथराव में घायल हो गए।

प्रदर्शनकारियों को ज्यादा हिंसक होते देख प्रशासन ने उन पर काबू पाने के लिए आंसू गैस के गोले छोड़े। सभी राजनीतिक दलों ने मराठा नेताओं से शांति व संयम की अपील की। वहीं सत्तारूढ़ सहयोगी शिवसेना और विपक्षी कांग्रेस और राष्ट्रवादी कांग्रेस पार्टी ने अपने विधायकों के साथ बैठकें की।

महाराष्ट्र। मुंबई में मराठा आरक्षण की मांग को लेकर उठा बवाल थमने का नाम नहीं ले रहा है। सोमवार को भी महाराष्ट्र के कई इलाकों में जमकर हिंसक प्रदर्शन हुए। इस दौरान प्रदेश के कई हिस्सों में आगजनी, सड़क जाम और पुलिस पर हमले हुए। आरक्षण की मांग कर रहे एक व्यक्ति ट्रेन के आगे कूदकर अपनी जान भी दे दी। जिसके बाद प्रदर्शनकारी और गुस्से में आ गए और 100 से ज्यादा वाहनों में आग लगाते हुए मुंबई में जेल भरो आंदोलन करने की चेतावनी दी है।बताया जा रहा है कि पुणे के चाकन, उस्मानाबाद, सोलापुर, कोल्हापुर, नंदूरबार व औरंगाबाद में अगजनी, हिंसा, सड़क जाम करने की छिटपुट घटनाएं हुईं और पैदल व मोटरसाइकिल पर नारेबाजी के साथ जुलूस निकाले गए। हंगामे को देखते हुए यहां धारा 144 लगा दी गई है। बता दें कि प्रदर्शनकारी प्रमोद होरे पाटील ने ट्रेन के आगे कूदकर अपनी जान दे दी। इससे पहले उसने फेसबुक पर आरक्षण को लेकर एक पोस्ट भी डाली थी। उसने रविवार को ही ट्रेन के आगे छलांग लगाई थी, लेकिन उसका शव सोमवार शाम मुकुंदवाड़ी रेलवे स्टेशन के पास बरामद किया गया, जिसके बाद जिले के कुछ हिस्सों में बंद का ऐलान कर दिया गया।बता दें कि आरक्षण की मांग कर रहे लोगों ने पुणे के चाकन, हिंजेवाड़ी, खेड़ व पुणे-नासिक राजमार्ग पर राज्य परिवहन की पांच बसों सहित दो दर्जन वाहनों को आग के हवाले कर दिया। नाराज प्रदर्शनकारियों ने चाकन पुलिस थाने में भी तोड़फोड़ व मारपीट की,जिसमें पांच पुलिसकर्मी घायल हो गए। इसके अलावा तीन स्थानीय लोग भी पथराव में घायल हो गए।प्रदर्शनकारियों को ज्यादा हिंसक होते देख प्रशासन ने उन पर काबू पाने के लिए आंसू गैस के गोले छोड़े। सभी राजनीतिक दलों ने मराठा नेताओं से शांति व संयम की अपील की। वहीं सत्तारूढ़ सहयोगी शिवसेना और विपक्षी कांग्रेस और राष्ट्रवादी कांग्रेस पार्टी ने अपने विधायकों के साथ बैठकें की।