देश भर में दिखा रहा जनता कर्फ्यू का असर, सड़कों पर पसरा सन्नाटा- घरों में कैद हुए लोग

4824Public_curfew_effect_seen_across_the_country_silence_spread_on_the_streets_people_imprisoned_in_homes

नई दिल्ली: देशभर में जनता कर्फ्यू लगा है। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के सुझाव पर आज पूरा देश जनता कर्फ्यू के समर्थन में उतर रहा है। कोरोना वायरस यानी कोविड-19 से लड़ाई के लिए जनता कर्फ्यू के आह्वान पर सुबह 7 बजे से रात के 9 बजे तक किसी को भी अनावश्यक घर से बाहर नहीं निकलना है। हम सबको शाम 5 बजे पांच मिनट तक उन लोगों के प्रति आभार प्रकट करना है जो इस भीषण महामारी का मुकाबला करने के लिए अपनी ड्यूटी पर डटे हैं। पूरे देश ने इसका संकल्प लेते हुए पहले से ही इसकी प्रैक्टिस शुरू कर दी।

Public Curfew Effect Seen Across The Country Silence Spread On The Streets People Imprisoned In Homes :

इस कड़ी में देश में रविवार की सुबह सात बजे से रात नौ बजे तक जनता कर्फ्यू शुरू हो चुका है। प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने लोगों से सामाजिक मेल जोल से दूर रहने की अपील करते हुए कहा कि आवश्यक सेवाओं को छोड़ कर अन्य लोग घरों से बाहर नहीं निकलें। लुधियाना के घंटाघर इलाके में रविवार को सुबह सन्नाटा पसरा रहा। आमतौर पर यहां भारी भीड़ रहती है। इसी बीच कोरोनावायरस से जंग के खिलाफ बुलाए गए जनता कर्फ्यू को पंजाब के लोगों ने पूरा समर्थन किया। लुधियाना, जालंधर में सड़कों पर सुबह से सन्नाटा पसरा है। लुधियाना में घंटाघर चौक के आसपास जिस इलाके में भारी भीड़ रहती है, वहां भी सन्नाटा है। लोग घरों में हैं। जरूरतमंद चीजें यानी दूध और दवाई की इक्का-दुक्का दुकानें ही खुली हैं। हालांकि, रविवार को जनता कर्फ्यू को देखते हुए पहले से ही लोगों ने इसकी तैयारी कर ली थी।

वहीं स्वास्थ्य विभाग के मेडिकल बुलेटिन के मुताबिक, शनिवार शाम तक 13 लोग कोरोनावायरस से संक्रमित हैं। पंजाब में पहली बार शनिवार को एक दिन में 11 लोगों की रिपोर्ट पॉजिटिव आई है। इससे पहले शनिवार से ही कई छोटे शहरों में जनता कर्फ्यू जैसे हालात रहे। लोग घरों से बाहर कम ही निकल रहे हैं।

दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने कहा कि सरकार ने फिलहाल दिल्ली में बंद की घोषणा नहीं की है लेकिन कोरोना वायरस के फैलने को देखते हुए जरूरत पड़ने पर ऐसा करना पड़ेगा। छत्तीसगढ़ सरकार ने अपने सभी कार्यालयों को 31 मार्च तक बंद करने के आदेश दिए हैं जिसमें आवश्यक एवं आपात सेवाएं शामिल नहीं हैं। ओडिशा के मुख्यमंत्री नवीन पटनायक ने पांच जिलों और आठ अन्य महत्वपूर्ण शहरों में रविवार से एक हफ्ते के लिए लगभग पूरी तरह बंद की घोषणा की है। इन जिलों और शहरों की पहचान की गई है क्योंकि तीन हजार से अधिक निवासी पिछले कुछ दिनों में विदेशों से इन स्थानों पर लौटे हैं। गोवा की सरकार ने अपराध दंड संहिता (सीआरपीसी) की धारा 144 के तहत राज्य भर में लोगों के ज्यादा संख्या में इकट्ठा होने पर पाबंदी लगाई है।

अरूणाचल प्रदेश के राज्य चुनाव आयोग ने घोषणा की कि अप्रैल-मई में होने वाले निगम और पंचायत चुनावों पर अस्थायी रूप से रोक लगा दी गई है। महाराष्ट्र में नासिक प्रशासन ने शनिवार से अगले आदेश तक शराब की बिक्री पर प्रतिबंध लगा दिया। कलेक्टर सूरज मंधारे ने होटलों और रिसॉर्ट में स्थित बार सहित अन्य बार और शराब की दुकानों को बंद करने के आदेश दिए। अकोला जिला प्रशासन ने 22 मार्च से 24 मार्च के बीच तालाबंदी के आदेश दिए हैं जिस दौरान आवश्यक सामग्री बेचने वालों को छोड़कर सभी प्रतिष्ठान बंद रहेंगे। पश्चिम बंगाल में ममता बनर्जी सरकार ने सभी रेस्तरां, बार, पब, नाइटक्लब, मनोरंजन पार्क, म्यूजियम और चिड़ियाघर को 31 मार्च तक बंद करने के आदेश दिए हैं। बिहार सरकार ने समूचे राज्य में 31 मार्च तक बस सेवाएं, रेस्तरां और विवाह भवन बंद करने का आदेश दिया है।

बता दें कि कोरोना वायरस से प्रभावित लोगों की संख्या बढ़ने के साथ एक दंपति को दिल्ली जाने वाली राजधानी एक्सप्रेस से उतार दिया गया। उसके साथ यात्रा कर रहे यात्रियों ने पति के हाथ पर घर में पृथक रहने का मोहर देखा, जिसके बाद उन्हें उतारा गया। रेलवे ने लोगों ने गैर जरूरी यात्रा से बचने की सलाह दी है। स्वास्थ्य मंत्रालय ने एक संवाददाता सम्मेलन में कहा कि उसने वीडियो कांफ्रेंस के माध्यम से 1000 स्थानों पर गंभीर चिकित्सा प्रबंधन के लिए प्रशिक्षण चलाया और रविवार को वह कोरोना वायरस की आपात स्थिति से निपटने के लिए पूरे देश में मॉक ड्रिल चलाएंगे। स्वास्थ्य मंत्रालय के संयुक्त सचिव लव अग्रवाल ने कहा कि कोरोना वायरस के लिए दिशानिर्देश की समीक्षा की गई है और निर्देश दिया गया है कि पॉजिटिव मामलों के संपर्क में आने वालों का संक्रमित व्यक्ति के संपर्क में आने के पांचवें और 14वें दिन के बीच एक बार जांच की जानी चाहिए।

बता दें कि भारत में कोरोना वायरस संक्रमण के 60 से अधिक नये मामले सामने आने के साथ शनिवार को यह संख्या बढ़ कर 315 हो गई। केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय ने यह जानकारी दी। मंत्रालय ने शनिवार को देर रात कहा कि 21 मार्च को देश में अब तक सत्यापित मामलों की कुल संख्या 315 हो गयी है जिनमें विदेश नागरिक भी हैं। भारतीय चिकित्सा अनुसंधान परिषद (ICMR) ने एक बयान में कहा कि 21 मार्च शाम छह बजे को सार्स को वी 2 को लेकर 16021 व्यक्तियों के कुल 16911 नमूनों का परीक्षण किया गया। इस बीच कई राज्यों ने इस महामारी को फैलने से रोकने के लिए लोगों की आवाजाही और भीड़भाड़ को सीमित करने के अलावा कई एहतियाती उपायों की घोषणा की है।

नई दिल्ली: देशभर में जनता कर्फ्यू लगा है। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के सुझाव पर आज पूरा देश जनता कर्फ्यू के समर्थन में उतर रहा है। कोरोना वायरस यानी कोविड-19 से लड़ाई के लिए जनता कर्फ्यू के आह्वान पर सुबह 7 बजे से रात के 9 बजे तक किसी को भी अनावश्यक घर से बाहर नहीं निकलना है। हम सबको शाम 5 बजे पांच मिनट तक उन लोगों के प्रति आभार प्रकट करना है जो इस भीषण महामारी का मुकाबला करने के लिए अपनी ड्यूटी पर डटे हैं। पूरे देश ने इसका संकल्प लेते हुए पहले से ही इसकी प्रैक्टिस शुरू कर दी। इस कड़ी में देश में रविवार की सुबह सात बजे से रात नौ बजे तक जनता कर्फ्यू शुरू हो चुका है। प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने लोगों से सामाजिक मेल जोल से दूर रहने की अपील करते हुए कहा कि आवश्यक सेवाओं को छोड़ कर अन्य लोग घरों से बाहर नहीं निकलें। लुधियाना के घंटाघर इलाके में रविवार को सुबह सन्नाटा पसरा रहा। आमतौर पर यहां भारी भीड़ रहती है। इसी बीच कोरोनावायरस से जंग के खिलाफ बुलाए गए जनता कर्फ्यू को पंजाब के लोगों ने पूरा समर्थन किया। लुधियाना, जालंधर में सड़कों पर सुबह से सन्नाटा पसरा है। लुधियाना में घंटाघर चौक के आसपास जिस इलाके में भारी भीड़ रहती है, वहां भी सन्नाटा है। लोग घरों में हैं। जरूरतमंद चीजें यानी दूध और दवाई की इक्का-दुक्का दुकानें ही खुली हैं। हालांकि, रविवार को जनता कर्फ्यू को देखते हुए पहले से ही लोगों ने इसकी तैयारी कर ली थी। वहीं स्वास्थ्य विभाग के मेडिकल बुलेटिन के मुताबिक, शनिवार शाम तक 13 लोग कोरोनावायरस से संक्रमित हैं। पंजाब में पहली बार शनिवार को एक दिन में 11 लोगों की रिपोर्ट पॉजिटिव आई है। इससे पहले शनिवार से ही कई छोटे शहरों में जनता कर्फ्यू जैसे हालात रहे। लोग घरों से बाहर कम ही निकल रहे हैं। दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने कहा कि सरकार ने फिलहाल दिल्ली में बंद की घोषणा नहीं की है लेकिन कोरोना वायरस के फैलने को देखते हुए जरूरत पड़ने पर ऐसा करना पड़ेगा। छत्तीसगढ़ सरकार ने अपने सभी कार्यालयों को 31 मार्च तक बंद करने के आदेश दिए हैं जिसमें आवश्यक एवं आपात सेवाएं शामिल नहीं हैं। ओडिशा के मुख्यमंत्री नवीन पटनायक ने पांच जिलों और आठ अन्य महत्वपूर्ण शहरों में रविवार से एक हफ्ते के लिए लगभग पूरी तरह बंद की घोषणा की है। इन जिलों और शहरों की पहचान की गई है क्योंकि तीन हजार से अधिक निवासी पिछले कुछ दिनों में विदेशों से इन स्थानों पर लौटे हैं। गोवा की सरकार ने अपराध दंड संहिता (सीआरपीसी) की धारा 144 के तहत राज्य भर में लोगों के ज्यादा संख्या में इकट्ठा होने पर पाबंदी लगाई है। अरूणाचल प्रदेश के राज्य चुनाव आयोग ने घोषणा की कि अप्रैल-मई में होने वाले निगम और पंचायत चुनावों पर अस्थायी रूप से रोक लगा दी गई है। महाराष्ट्र में नासिक प्रशासन ने शनिवार से अगले आदेश तक शराब की बिक्री पर प्रतिबंध लगा दिया। कलेक्टर सूरज मंधारे ने होटलों और रिसॉर्ट में स्थित बार सहित अन्य बार और शराब की दुकानों को बंद करने के आदेश दिए। अकोला जिला प्रशासन ने 22 मार्च से 24 मार्च के बीच तालाबंदी के आदेश दिए हैं जिस दौरान आवश्यक सामग्री बेचने वालों को छोड़कर सभी प्रतिष्ठान बंद रहेंगे। पश्चिम बंगाल में ममता बनर्जी सरकार ने सभी रेस्तरां, बार, पब, नाइटक्लब, मनोरंजन पार्क, म्यूजियम और चिड़ियाघर को 31 मार्च तक बंद करने के आदेश दिए हैं। बिहार सरकार ने समूचे राज्य में 31 मार्च तक बस सेवाएं, रेस्तरां और विवाह भवन बंद करने का आदेश दिया है। बता दें कि कोरोना वायरस से प्रभावित लोगों की संख्या बढ़ने के साथ एक दंपति को दिल्ली जाने वाली राजधानी एक्सप्रेस से उतार दिया गया। उसके साथ यात्रा कर रहे यात्रियों ने पति के हाथ पर घर में पृथक रहने का मोहर देखा, जिसके बाद उन्हें उतारा गया। रेलवे ने लोगों ने गैर जरूरी यात्रा से बचने की सलाह दी है। स्वास्थ्य मंत्रालय ने एक संवाददाता सम्मेलन में कहा कि उसने वीडियो कांफ्रेंस के माध्यम से 1000 स्थानों पर गंभीर चिकित्सा प्रबंधन के लिए प्रशिक्षण चलाया और रविवार को वह कोरोना वायरस की आपात स्थिति से निपटने के लिए पूरे देश में मॉक ड्रिल चलाएंगे। स्वास्थ्य मंत्रालय के संयुक्त सचिव लव अग्रवाल ने कहा कि कोरोना वायरस के लिए दिशानिर्देश की समीक्षा की गई है और निर्देश दिया गया है कि पॉजिटिव मामलों के संपर्क में आने वालों का संक्रमित व्यक्ति के संपर्क में आने के पांचवें और 14वें दिन के बीच एक बार जांच की जानी चाहिए। बता दें कि भारत में कोरोना वायरस संक्रमण के 60 से अधिक नये मामले सामने आने के साथ शनिवार को यह संख्या बढ़ कर 315 हो गई। केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय ने यह जानकारी दी। मंत्रालय ने शनिवार को देर रात कहा कि 21 मार्च को देश में अब तक सत्यापित मामलों की कुल संख्या 315 हो गयी है जिनमें विदेश नागरिक भी हैं। भारतीय चिकित्सा अनुसंधान परिषद (ICMR) ने एक बयान में कहा कि 21 मार्च शाम छह बजे को सार्स को वी 2 को लेकर 16021 व्यक्तियों के कुल 16911 नमूनों का परीक्षण किया गया। इस बीच कई राज्यों ने इस महामारी को फैलने से रोकने के लिए लोगों की आवाजाही और भीड़भाड़ को सीमित करने के अलावा कई एहतियाती उपायों की घोषणा की है।