पुलवामा हमले से भारत-पाकिस्तान के मैच पर संदेह बरकरार

india-pakistan match
पुलवामा हमले से भारत-पाकिस्तान के मैच पर संदेह बरकरार

नई दिल्ली। जम्मू कश्मीर में पुलवामा जिले में हुए आतंकी हमले के बाद भारत-पाकिस्तान के बीच वर्ल्ड कप में होने वाले मुकाबले को लेकर संदेह अभी भी बना हुआ है। बीसीसीआई सूत्रों के मुताबिक, “इसे लेकर कुछ समय बाद स्थिति स्पष्ट हो जाएगी। अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट परिषद (आईसीसी) का इससे कोई लेना-देना नहीं है। अगर हमारी सरकार को लगता है कि हमें पाक से नहीं खेलना चाहिए, तो जाहिर है कि हम नहीं खेलेंगे।” इंग्लैंड और वेल्स में 30 मई से 14 जुलाई तक वर्ल्ड कप के मैच खेले जाएंगे।

Pulwama Attack Stays Suspicious Over Indo Pak Match :

रिपोर्ट के मुताबिक, अगर भारत का पाकिस्तान से मुक़ाबला नहीं होता है तो उसे अंक मिल जाएंगे। वहीं, फाइनल में भारत-पाक का सामना हुआ और टीम इंडिया नहीं खेली तो पाकिस्तानी टीम बिना खेले ही चैम्पियन बन जाएगी। भारत-पाक की टीमें पिछली बार आईसीसी टूर्नामेंट में चैंपियंस ट्रॉफी के दौरान आमने-सामने उतरी थीं। तब फाइनल जीतकर पाक टीम चैम्पियन बनी थी।

वहीं दूसरी ओर, आईसीसी के मुख्य कार्यकारी अधिकारी (सीईओ) डेव रिचर्डसन ने कहा, “हमें अभी तक दोनों बोर्ड की ओर से मैच नहीं खेलने को लेकर कोई सूचना नहीं मिली है। साथ ही हमने भी दोनों बोर्ड को इस मामले में कुछ नहीं लिखा।”

रिचर्डसन ने भारत पर हुए आतंकी हमले को मद्देनजर रखते हुए कहा, “हमारी संवेदनाएं इस घटना से प्रभावित हुए लोगों के साथ है। हम बीसीसीआई और पाकिस्तान क्रिकेट बोर्ड (पीसीबी) सहित अपने सदस्यों के साथ स्थिति पर नजर बनाए हुए हैं। फिलहाल वर्ल्ड कप के तय कार्यक्रम के अनुसार भारत-पाक मैच सहित उन्हे किसी भी अन्य मुकाबले की कोई जानकारी नहीं है।”

रिचर्डसन ने बताया कि भारत-पाक मैच के टिकट के लिए सबसे ज्यादा चार लाख आवेदन मिल चुके हैं। हालांकि, ओल्ड ट्रैफर्ड (मैनचेस्टर) की दर्शक क्षमता सिर्फ 25 हजार है। इससे कई लोगों को निराशा होगी। दर्शक सिर्फ इंग्लैंड से ही नहीं, बल्कि अन्य देशों से भी यह मैच देखने आने वाले हैं। ऑस्ट्रेलिया-इंग्लैंड मैच के टिकट के लिए ढाई लाख और फाइनल मुकाबले के लिए 2 लाख 60 हजार से ज्यादा आवेदन मिले हैं।

नई दिल्ली। जम्मू कश्मीर में पुलवामा जिले में हुए आतंकी हमले के बाद भारत-पाकिस्तान के बीच वर्ल्ड कप में होने वाले मुकाबले को लेकर संदेह अभी भी बना हुआ है। बीसीसीआई सूत्रों के मुताबिक, "इसे लेकर कुछ समय बाद स्थिति स्पष्ट हो जाएगी। अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट परिषद (आईसीसी) का इससे कोई लेना-देना नहीं है। अगर हमारी सरकार को लगता है कि हमें पाक से नहीं खेलना चाहिए, तो जाहिर है कि हम नहीं खेलेंगे।" इंग्लैंड और वेल्स में 30 मई से 14 जुलाई तक वर्ल्ड कप के मैच खेले जाएंगे। रिपोर्ट के मुताबिक, अगर भारत का पाकिस्तान से मुक़ाबला नहीं होता है तो उसे अंक मिल जाएंगे। वहीं, फाइनल में भारत-पाक का सामना हुआ और टीम इंडिया नहीं खेली तो पाकिस्तानी टीम बिना खेले ही चैम्पियन बन जाएगी। भारत-पाक की टीमें पिछली बार आईसीसी टूर्नामेंट में चैंपियंस ट्रॉफी के दौरान आमने-सामने उतरी थीं। तब फाइनल जीतकर पाक टीम चैम्पियन बनी थी। वहीं दूसरी ओर, आईसीसी के मुख्य कार्यकारी अधिकारी (सीईओ) डेव रिचर्डसन ने कहा, "हमें अभी तक दोनों बोर्ड की ओर से मैच नहीं खेलने को लेकर कोई सूचना नहीं मिली है। साथ ही हमने भी दोनों बोर्ड को इस मामले में कुछ नहीं लिखा।" रिचर्डसन ने भारत पर हुए आतंकी हमले को मद्देनजर रखते हुए कहा, "हमारी संवेदनाएं इस घटना से प्रभावित हुए लोगों के साथ है। हम बीसीसीआई और पाकिस्तान क्रिकेट बोर्ड (पीसीबी) सहित अपने सदस्यों के साथ स्थिति पर नजर बनाए हुए हैं। फिलहाल वर्ल्ड कप के तय कार्यक्रम के अनुसार भारत-पाक मैच सहित उन्हे किसी भी अन्य मुकाबले की कोई जानकारी नहीं है।" रिचर्डसन ने बताया कि भारत-पाक मैच के टिकट के लिए सबसे ज्यादा चार लाख आवेदन मिल चुके हैं। हालांकि, ओल्ड ट्रैफर्ड (मैनचेस्टर) की दर्शक क्षमता सिर्फ 25 हजार है। इससे कई लोगों को निराशा होगी। दर्शक सिर्फ इंग्लैंड से ही नहीं, बल्कि अन्य देशों से भी यह मैच देखने आने वाले हैं। ऑस्ट्रेलिया-इंग्लैंड मैच के टिकट के लिए ढाई लाख और फाइनल मुकाबले के लिए 2 लाख 60 हजार से ज्यादा आवेदन मिले हैं।