पंजाब के सीएम कैप्टन अमरिंदर सिंह ने बनाए आठ सलाहकार समूह, नवजोत सिद्धू को किसी में जगह नहीं

capation
पंजाब के सीएम कैप्टन अमरिंदर सिंह ने बनाए आठ सलाहकार समूह, नवजोत सिद्धू को किसी में जगह नहीं

नई दिल्ली। पंजाब कांग्रेस में सीएम कैप्टन अमरिंदर सिंह और नवजोत सिद्धू के बीच चल रही तनातनी बढ़ती जा रही है। कैप्टन अमरिंदर सिंह ने पंजाब में विभिन्न योजनाओं और कार्यक्रम को लागू करने के लिए आठ सलाहकार समूहों का गठन किया है। लेकिन नवजोत सिद्धू को किसी भी समूह में नहीं शामिल किया है। बताया जा रहा है ​कि कैप्टन के इस कदम के बाद दोनों के बीच और दूरियां बढ़ेंगी।

Punjab Captain Amarinder Singh Created Eight Advisory Groups Navjot Sidhu Not In Any Place :

सीएम कैप्टन अमरिंदर सिंह ने आठ समूहों क गठन किया है। यह समूह कार्यक्रमों और योजनाओं की समीक्षा करके भविष्य में सुधार का ब्लूप्रिंट देगा। सलाहकार समूह चार सप्ताह में अपनी रिपोर्ट मुख्यमंत्री को देंगे। रिपोर्ट पर जुलाई 2019 में होने वाली कैबिनेट की बैठक में चर्चा की जाएगी। मुख्यमंत्री ने कहा कि मौजूदा स्कीम को प्रभावी बनाने के लिए यह निर्णय लिया गया है।

मुख्यमंत्री शहरी कायाकल्प एवं सुधार संबंधी सलाहकारी ग्रुप के प्रमुख होंगे। इसमें स्मार्ट सीटी, अमरूत, यूईआईपी और हुडको शामिल हैं। मुख्यमंत्री इस ग्रुप के चेयरमैन होंगे, जबकि स्थानीय निकाय मंत्री ब्रह्म मोहिंद्रा, वित्त मंत्री मनप्रीत सिंह बादल, भवन निर्माण एवं शहरी विकास मंत्री सुखबिंदर सिंह सरकारिया, लोक निर्माण मंत्री विजय इंदर सिंगला, खाद्य एवं सिविल सप्लाई मंत्री भारत भूषण आशू समेत अन्य सदस्य होंगे।

बता दें कि लोकसभा चुनाव के दौरान से ही कैप्टन और नवजोत सिद्धू के बीच से विवाद चल रहा है। अब किसी भी समूह में नवजोत सिद्धू को नहीं शामिल किया गया है, जिसके बाद से इनके बीच और विवाद बढ़ने की संभावना है।

नई दिल्ली। पंजाब कांग्रेस में सीएम कैप्टन अमरिंदर सिंह और नवजोत सिद्धू के बीच चल रही तनातनी बढ़ती जा रही है। कैप्टन अमरिंदर सिंह ने पंजाब में विभिन्न योजनाओं और कार्यक्रम को लागू करने के लिए आठ सलाहकार समूहों का गठन किया है। लेकिन नवजोत सिद्धू को किसी भी समूह में नहीं शामिल किया है। बताया जा रहा है ​कि कैप्टन के इस कदम के बाद दोनों के बीच और दूरियां बढ़ेंगी। सीएम कैप्टन अमरिंदर सिंह ने आठ समूहों क गठन किया है। यह समूह कार्यक्रमों और योजनाओं की समीक्षा करके भविष्य में सुधार का ब्लूप्रिंट देगा। सलाहकार समूह चार सप्ताह में अपनी रिपोर्ट मुख्यमंत्री को देंगे। रिपोर्ट पर जुलाई 2019 में होने वाली कैबिनेट की बैठक में चर्चा की जाएगी। मुख्यमंत्री ने कहा कि मौजूदा स्कीम को प्रभावी बनाने के लिए यह निर्णय लिया गया है। मुख्यमंत्री शहरी कायाकल्प एवं सुधार संबंधी सलाहकारी ग्रुप के प्रमुख होंगे। इसमें स्मार्ट सीटी, अमरूत, यूईआईपी और हुडको शामिल हैं। मुख्यमंत्री इस ग्रुप के चेयरमैन होंगे, जबकि स्थानीय निकाय मंत्री ब्रह्म मोहिंद्रा, वित्त मंत्री मनप्रीत सिंह बादल, भवन निर्माण एवं शहरी विकास मंत्री सुखबिंदर सिंह सरकारिया, लोक निर्माण मंत्री विजय इंदर सिंगला, खाद्य एवं सिविल सप्लाई मंत्री भारत भूषण आशू समेत अन्य सदस्य होंगे। बता दें कि लोकसभा चुनाव के दौरान से ही कैप्टन और नवजोत सिद्धू के बीच से विवाद चल रहा है। अब किसी भी समूह में नवजोत सिद्धू को नहीं शामिल किया गया है, जिसके बाद से इनके बीच और विवाद बढ़ने की संभावना है।