पंजाब: तकरार का नतीजा, सीएम ने सिद्धू से छीना शहरी विकास मंत्रालय, बने रहेंगे ऊर्जा मंत्री

sidhu and captain
पंजाब: तकरार का नतीजा, सीएम ने सिद्धू से छीना शहरी विकास मंत्रालय, बने रहेंगे ऊर्जा मंत्री

नई दिल्ली। पंजाब के मुख्यमंत्री कैप्टन अमरिंदर व पंजाब सरकार के मंत्री नवजोत सिंह सिद्धू के बीच टकरार कम होने का नाम नहीं ले रही है। आलम ये है कि गुरुवार को हुई कैबिनेट की बैठक में सिद्धू शामिल नहीं हुए, जिसके बाद सीएम ने उनसे शहरी विकास मंत्रालय छीन लिया। फिलहाल उनके पास ऊर्जा मंत्रालय का जिम्मा रहेगा।

Punjab Cm Sacked Navjot Sidhu Urban Development Ministry :

बताया जा रहा है कि दोनों नेताओं के बीच तल्खी लोकसभा चुनाव के बाद और ज्यादा बढ़ गई। पंजाब में कांग्रेस के खाते में आई सिर्फ आठ सीटो के बाद कैप्टर अमरिंदर ने बयान दिया कि सिद्धू के बयानों के कारण पार्टी की कई सीटें घट गईं। उन्होने तो यहां तक कह दिया कि अगर वो पाकिस्तान जाकर सेना प्रमुख बाजवा को गले न लगाते तो कांग्रेस की सीटें और ज्यादा होतीं।

बता दें कि पंजाब सीएम ने तो यहां तक कह दिया कि चुनाव से ऐन पहले पार्टी नेता नवजोत सिंह सिद्धू के नुकसान पहुंचाने वाले बयानों का मुद्दा पार्टी हाईकमान के सामने उठाएंगे। मंत्रियों के काम के बारे में उन्होंने कहा कि राज्य में लोकसभा चुनाव नतीजों को देखते हुए इसकी समीक्षा की जाएगी।

नई दिल्ली। पंजाब के मुख्यमंत्री कैप्टन अमरिंदर व पंजाब सरकार के मंत्री नवजोत सिंह सिद्धू के बीच टकरार कम होने का नाम नहीं ले रही है। आलम ये है कि गुरुवार को हुई कैबिनेट की बैठक में सिद्धू शामिल नहीं हुए, जिसके बाद सीएम ने उनसे शहरी विकास मंत्रालय छीन लिया। फिलहाल उनके पास ऊर्जा मंत्रालय का जिम्मा रहेगा। बताया जा रहा है कि दोनों नेताओं के बीच तल्खी लोकसभा चुनाव के बाद और ज्यादा बढ़ गई। पंजाब में कांग्रेस के खाते में आई सिर्फ आठ सीटो के बाद कैप्टर अमरिंदर ने बयान दिया कि सिद्धू के बयानों के कारण पार्टी की कई सीटें घट गईं। उन्होने तो यहां तक कह दिया कि अगर वो पाकिस्तान जाकर सेना प्रमुख बाजवा को गले न लगाते तो कांग्रेस की सीटें और ज्यादा होतीं। बता दें कि पंजाब सीएम ने तो यहां तक कह दिया कि चुनाव से ऐन पहले पार्टी नेता नवजोत सिंह सिद्धू के नुकसान पहुंचाने वाले बयानों का मुद्दा पार्टी हाईकमान के सामने उठाएंगे। मंत्रियों के काम के बारे में उन्होंने कहा कि राज्य में लोकसभा चुनाव नतीजों को देखते हुए इसकी समीक्षा की जाएगी।