पंजाब: दलित युवक को बन्धक बनाकर पीटा, पिलाई गयी पेशाब, इलाज के दौरान मौत

Dalit youth beaten
पंजाब: दलित युवक को बन्धक बनाकर पीटा, पिलाई गयी पेशाब, इलाज के दौरान मौत

चंडीगढ़। पंजाब के संगरूर जिले में 37 वर्षीय दलित को मामूली विवाद पर विपक्षियों ने पीट पीटकर अधमरा कर दिया था और क्रूरता की हदें पार करते हए उसे पेशाब पिला दिया था। जानकारी होने के बाद पुलिस ने उसे नजदीकी अस्पताल में भर्ती करवाया था जहां शनिवार सुबह इलाज के दौरान उसकी मौत हो गयी।

Punjab Dalit Youth Beaten As A Hostage Urinating Drinking And Dying During Treatment :

बताया गया कि चांगलीवाला गांव के दलित व्यक्ति का बीते 21 अक्टूबर को गांव के ही रहने वाले कुछ लोगों से विवाद हुआ था। मामला गांव के बुजुर्गों तक पंहुचा तो मामला शान्त करवा दिया गया था। लेकिन जिन लोगो से विवाद हुआ था वो दलित युवक को सबक सिखाना चाहते थे। आरोपी युवकों ने 7 नवंबर को किसी बहाने से दलित युवक को अपने घर बुलाया और वहां मौजूद अपने साथियों के साथ मिलकर उसे एक खंभे में बांधकर जमकर पीटा साथ ही उसे जबरन पेशाब पिलाकर बाहर फेंक दिया।

पुलिस के मुताबिक तभी से उसका PGIMS में इलाज चल रहा था। इलाज के दौरान युवक के पैरों को भी काटना पड़ा था लेकिन उसकी जान नही बच सकी। शनिवार को उसने अस्पताल में दम तोड़ दिया। संगरूर के वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक संदीप गर्ग ने बताया ने बताया कि चारों आरोपियों को गिरफ्तार कर लिया गया है।

पुलिस के मुताबिक चारों के खिलाफ, हत्या, अपहरण, गलत तरीके से बंदी बनाने और भादंसं की विभिन्न धाराओं, अनुसूचित जाति और अनुसूचित जनजाति (अत्याचार निवारण) अधिनियम के तहत मुकदमा पंजीक्रत किया गया है। यही नही पंजाब राज्य अनुसूचित जाति आयोग ने इस घटना को लेकर संगरूर के वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक से रिपोर्ट भी मांगी है।

चंडीगढ़। पंजाब के संगरूर जिले में 37 वर्षीय दलित को मामूली विवाद पर विपक्षियों ने पीट पीटकर अधमरा कर दिया था और क्रूरता की हदें पार करते हए उसे पेशाब पिला दिया था। जानकारी होने के बाद पुलिस ने उसे नजदीकी अस्पताल में भर्ती करवाया था जहां शनिवार सुबह इलाज के दौरान उसकी मौत हो गयी। बताया गया कि चांगलीवाला गांव के दलित व्यक्ति का बीते 21 अक्टूबर को गांव के ही रहने वाले कुछ लोगों से विवाद हुआ था। मामला गांव के बुजुर्गों तक पंहुचा तो मामला शान्त करवा दिया गया था। लेकिन जिन लोगो से विवाद हुआ था वो दलित युवक को सबक सिखाना चाहते थे। आरोपी युवकों ने 7 नवंबर को किसी बहाने से दलित युवक को अपने घर बुलाया और वहां मौजूद अपने साथियों के साथ मिलकर उसे एक खंभे में बांधकर जमकर पीटा साथ ही उसे जबरन पेशाब पिलाकर बाहर फेंक दिया। पुलिस के मुताबिक तभी से उसका PGIMS में इलाज चल रहा था। इलाज के दौरान युवक के पैरों को भी काटना पड़ा था लेकिन उसकी जान नही बच सकी। शनिवार को उसने अस्पताल में दम तोड़ दिया। संगरूर के वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक संदीप गर्ग ने बताया ने बताया कि चारों आरोपियों को गिरफ्तार कर लिया गया है। पुलिस के मुताबिक चारों के खिलाफ, हत्या, अपहरण, गलत तरीके से बंदी बनाने और भादंसं की विभिन्न धाराओं, अनुसूचित जाति और अनुसूचित जनजाति (अत्याचार निवारण) अधिनियम के तहत मुकदमा पंजीक्रत किया गया है। यही नही पंजाब राज्य अनुसूचित जाति आयोग ने इस घटना को लेकर संगरूर के वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक से रिपोर्ट भी मांगी है।