1. हिन्दी समाचार
  2. पंजाब पुलिस ने अपने बहादुर जवान को अनोखा सम्मान, डीजीपी ने पहना उनके नाम का बैच

पंजाब पुलिस ने अपने बहादुर जवान को अनोखा सम्मान, डीजीपी ने पहना उनके नाम का बैच

Punjab Police Honored Their Brave Soldier Dgp Wore Batch Of His Name

By रवि तिवारी 
Updated Date

नई दिल्ली। पटियाला में कर्फ्यू हटवाने के दौरान घायल हुए जवान हरजीत सिंह (Harjeet Singh) को सम्मान देने के लिए पंजाब पुलिस (Punjab Police) ने अनोखा कैंपेन चलाया है। डीजीपी दिनकर गुप्ता (DGP Dinkar Gupta) ने 80 हजार पुलिसकर्मियों के साथ अपनी वर्दी पर हरजीत सिंह के नाम का बैच लगाया और ‘मैं भी हरजीत’ (Mai bhi Harjeet) कैंपेन की अगुआई की।हरजीत इस समय चंडीगढ़ पीजीआई में भर्ती हैं। 12 अप्रैल को पटियाला में कर्फ्यू पास मांगने के दौरान भड़के निहंगों ने हरजीत पर हमला कर तलवार से कलाई काटकर अलग कर दी थी। हालांकि, बाद में पीजीआई चंडीगढ़ के डॉक्टरों ने साढ़े सात घंटे तक चले ऑपरेशन में कलाई को जोड़ दिया था।  
   
डीजीपी दिनकर गुप्ता ने पटियाला सब्जी मंडी में हरजीत सिंह के साथ हुए हादसे के मद्देनज़र कोरोना वॉरियर्स के प्रति सम्मान दिखाने के लिए ‘मैं भी हरजीत’ कैंपेन चलाया है। उन्होंने कहा, ‘हरजीत सिंह पुलिस और दूसरे फ्रंटलाइन वर्कर्स पर हो रहे हमले के खिलाफ सिंबल बन चुके हैं। इस मौके पर डीजीपी ने हरजीत सिंह के समर्थन में एक दिन के लिए उनके नाम का बैच अपनी यूनिफॉर्म में लगाया।

पढ़ें :- ट्रैक्टर रैली बवालः दिल्ली पुलिस कमिश्नर बोले-हिंसा में शामिल किसी को नहीं छोड़ा जायेगा

डीजीपी ने आगे बताया, ‘हरजीत सिंह को प्रमोट कर ASI से सब-इंस्पेक्टर बना दिया गया है। उनके प्रति सम्मान दिखाने के लिए ये पंजाब पुलिस का एक छोटा सा प्रयास है।’ सभी पुलिसकर्मी अपनी वर्दी पर हरजीत सिंह के नाम का बैच लगाकर ड्यूटी दे रहे हैं। इसके साथ ही ‘मैं वी हां हरजीत सिंह’ (मैं भी हूं हरजीत सिंह) के नारे भी लगा रहे हैं।

बता दें कि 12 अप्रैल को हरजीत सिंह पटियाला शहर में लॉकडाउन के लिए ड्यूटी पर तैनात थे। इसी बीच एक वाहन में सवार कुछ लोग बैरिकेडिंग के पास पहुंच गए। हरजीत की टीम के पास मांगे जाने के बाद शुरू हुए विवाद में ही निहंग सिखों ने ड्यूटी पर तैनात जवानों पर हमला किया था। इस दौरान कुछ लोगों ने तलवार से हरजीत सिंह का एक हाथ काट दिया था। इसके बाद पोस्ट ग्रैजुएट इंस्टिट्यूट ऑफ मेडिकल एजुकेशन ऐंड रिसर्च में डॉक्टर्स के तमाम प्रयासों के बाद हरजीत का हाथ जोड़ गया था। फिलहाल वह पीजीआई चंडीगढ़ में भर्ती हैं।

हरजीत सिंह के अलावा उनकी टीम के कुछ और जवान भी इस हमले में घायल हो गए थे। पंजाब सरकार ने तीन और पुलिसकर्मियों को डीजीपी मेडल से सम्मानित करने का ऐलान किया था। पंजाब पुलिस ने इस हमले के सिलसिले में एक महिला सहित 11 लोगों को गिरफ्तार किया था।  

पढ़ें :- ट्रैक्टर रैलीः कांग्रेस का आरोप, उपद्रवियों को छोड़ संयुक्त किसान मोर्चा के नेताओं पर दर्ज हो रहा मुकदमा

Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करे...