पूर्वांचल के बाहुबली विधायक मुख्तार अंसारी पर फिर दर्ज हुआ मुकदमा, 5 अन्य के नाम भी शामिल

mukhtar
मुख्तार अंसारी और उनके परिवार पर कसेगा यूपी सरकार का शिकंजा, अब बैंक खातों की होगी जांच

मऊ। पूर्वांचल में अगर किसी माफिया या बाहुबली नेता का नाम लिया जाता है तो सबसे पहले विधायक मुख्तार अंसारी का नाम आता हैं। वैसे तो मुख्तार अंसारी काफी लम्बे अर्से से जेल में हैं लेकिन किसी न किसी मामले में वो सुर्खियों में बने रहते हैंं। सोमवार को एकबार फिर उनके खिलाफ धोखाधड़ी व साजिश रचने के तहत मुकदमा पंजीक्रत किया गया है, इस मामले में मुख्तार के साथ साथ 5 अन्य के खिलाफ भी एफआईआर दर्ज की गयी है। मुख्‍तार वर्तमान में बसपा से विधायक हैं और उनके भाई अफ़जाल अंसारी बसपा से सांसद हैं।

Purvanchals Bahubali Mla Mukhtar Ansari Has Again Filed A Case Including The Names Of 5 Others :

बाहुबली विधायक मुख्तार अंसारी मऊ की सदर सीट से विधायक बने हैं और इस समय पंजाब की रोपड़ जेल में बंद हैं। मुख्तार अंसारी समेत 6 लोगों के खिलाफ सोमवार को दक्षिण टोला थाने में धारा 419, 420 120B के तहत मुकदमा पंजीक्रत किया गया और आगे की कार्रवाई चल रही है। इस मामले में पुलिस का आरोप है कि 2001 में विधायक मुख्तार अंसारी ने अपने लेटर पैड पर चार लोगों को शस्त्र जारी करने की सिफारिश की थी। पुलिस ने जब मामले की जांच पड़ताल की तो जानकारी हुई कि चारों शस्त्र धारकों का पता फर्जी था। पुलिस द्वारा बताया गया कि फर्जी दस्तावेज और एफिडेविट लगाकर ये लोग शास्त्र लाइसेंस बनवाना चाहते थे।

बताया गया कि उन चारों में से एक शस्त्र धारक की एनकाउंटर में मौत हो चुकी हैं वहीं बाकी तीन शस्त्र धारक वर्तमान समय में फरार चल रहे हैं। हालांकि पुलिस ने उनके ठिकानो में छापेमारी की लेकिन उनका कोई सुराग नही लग सका। पुलिस का कहना है कि इस मामले में मुख्तार अंसारी, तीनो फर्जी शस्त्र लाइसेंस धारकों के साथ साथ फर्जी रिपोर्ट लगाने के मामले में तत्कालीन दरोगा व लेखपाल के खिलाफ भी मुकदमा दर्ज किया गया है। आपको बता दें कि 2005 में मऊ के विधायक कृष्णानंद राय हत्या के मामले में मुख्तार अंसारी जेल गये थे, हालांकि बीते वर्ष मुख्तार को इस मामले में कोर्ट ने बरी कर दिया गया लेकिन अभी भी अन्य मामलो में वो जेल में हैं।

मऊ। पूर्वांचल में अगर किसी माफिया या बाहुबली नेता का नाम लिया जाता है तो सबसे पहले विधायक मुख्तार अंसारी का नाम आता हैं। वैसे तो मुख्तार अंसारी काफी लम्बे अर्से से जेल में हैं लेकिन किसी न किसी मामले में वो सुर्खियों में बने रहते हैंं। सोमवार को एकबार फिर उनके खिलाफ धोखाधड़ी व साजिश रचने के तहत मुकदमा पंजीक्रत किया गया है, इस मामले में मुख्तार के साथ साथ 5 अन्य के खिलाफ भी एफआईआर दर्ज की गयी है। मुख्‍तार वर्तमान में बसपा से विधायक हैं और उनके भाई अफ़जाल अंसारी बसपा से सांसद हैं। बाहुबली विधायक मुख्तार अंसारी मऊ की सदर सीट से विधायक बने हैं और इस समय पंजाब की रोपड़ जेल में बंद हैं। मुख्तार अंसारी समेत 6 लोगों के खिलाफ सोमवार को दक्षिण टोला थाने में धारा 419, 420 120B के तहत मुकदमा पंजीक्रत किया गया और आगे की कार्रवाई चल रही है। इस मामले में पुलिस का आरोप है कि 2001 में विधायक मुख्तार अंसारी ने अपने लेटर पैड पर चार लोगों को शस्त्र जारी करने की सिफारिश की थी। पुलिस ने जब मामले की जांच पड़ताल की तो जानकारी हुई कि चारों शस्त्र धारकों का पता फर्जी था। पुलिस द्वारा बताया गया कि फर्जी दस्तावेज और एफिडेविट लगाकर ये लोग शास्त्र लाइसेंस बनवाना चाहते थे। बताया गया कि उन चारों में से एक शस्त्र धारक की एनकाउंटर में मौत हो चुकी हैं वहीं बाकी तीन शस्त्र धारक वर्तमान समय में फरार चल रहे हैं। हालांकि पुलिस ने उनके ठिकानो में छापेमारी की लेकिन उनका कोई सुराग नही लग सका। पुलिस का कहना है कि इस मामले में मुख्तार अंसारी, तीनो फर्जी शस्त्र लाइसेंस धारकों के साथ साथ फर्जी रिपोर्ट लगाने के मामले में तत्कालीन दरोगा व लेखपाल के खिलाफ भी मुकदमा दर्ज किया गया है। आपको बता दें कि 2005 में मऊ के विधायक कृष्णानंद राय हत्या के मामले में मुख्तार अंसारी जेल गये थे, हालांकि बीते वर्ष मुख्तार को इस मामले में कोर्ट ने बरी कर दिया गया लेकिन अभी भी अन्य मामलो में वो जेल में हैं।