1. हिन्दी समाचार
  2. एस्ट्रोलोजी
  3. राधा अष्टमी व्रत 2021: राधा रानी की पूजा के बिना श्री कृष्ण की पूजा अधूरी, इस तिथि को मनाया जाता है जन्मोत्सव

राधा अष्टमी व्रत 2021: राधा रानी की पूजा के बिना श्री कृष्ण की पूजा अधूरी, इस तिथि को मनाया जाता है जन्मोत्सव

भारतीय व्रत,त्योहार की श्रृंखला में राधा अष्टमी का व्रत का विशेष महत्व है।हिंदू धर्म में मान्यता है कि राधा रानी की पूजा के बिना श्री कृष्ण की पूजा अधूरी रहती है।

By अनूप कुमार 
Updated Date

राधाअष्टमी व्रत 2021: भारतीय व्रत,त्योहार की श्रृंखला में राधा अष्टमी का व्रत का विशेष महत्व है।हिंदू धर्म में मान्यता है कि राधा रानी की पूजा के बिना श्री कृष्ण की पूजा अधूरी रहती है। इसलिए जब-जब श्री कृष्ण के नाम का स्मरण किया जाता है,तब-तब राधा रानी का नाम अवश्य लिया जाता है।हिंदू धर्म शास्त्रों के अनुसार, इस दिन भगवान श्री कृष्ण की प्रियतमा राधा रानी का जन्म हुआ था।

पढ़ें :- राधा अष्टमी व्रत 2021: राधा अष्टमी व्रत रख् कर करें राधा और भगवान श्री कृष्ण की पूजा , जानें तारीख और महत्व
Jai Ho India App Panchang

जन्माष्टमी से ठीक 15 दिन बाद राधाष्टमी पड़ती है। हिंदी पंचांग के अनुसार, राधा अष्टमी का व्रत एवं त्योहार हर साल भाद्रपद मास के शुक्ल पक्ष की अष्टमी तिथि को मनाया जाता है। इस साल राधा अष्टमी व्रत 14 सितंबर दिन मंगलवार को रखा जायेगा और इनका जन्मोत्सव मनाया जाएगा। ऐसा कहा जाता है कि राधाष्टमी पर व्रत रखने वाले जातकों को कभी धन-धान्य की कमी नहीं होती है। ‌इसके साथ इस दिन राधा रानी से मांगी गई हर एक मुराद पूरी होती है।

राधा अष्टमी तिथि एवं मुहूर्त

राधा अष्टमी तिथि: – 14 सितंबर 2021, मंगलवार
अष्टमी तिथि प्रारंभ: – 13 सितंबर 2021 दोपहर 03:10
अष्टमी तिथि समापन: – 14 सितंबर 2021 दोपहर 01:09

इन टॉपिक्स पर और पढ़ें:
Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक, यूट्यूब और ट्विटर पर फॉलो करे...