एनटीपीसी हादसे में अब तक 26 की मौत, पीएम ने घोषित किया मुआवजा

एनटीपीसी हादसे में अब तक 26 की मौत, पीएम ने घोषित किया मुआवजा

लखनऊ। उत्तरप्रदेश के रायबरेली जिले के ऊंचाहार में स्थित एनटीपीसी प्लांट में बुधवार को हुए हादसे में मृतकों की संख्या बढ़कर 26 हो गई है। इस हादसे के बाद राज्य और केन्द्र सरकार ने सक्रियता दिखाते हुए घायलों को बेहतर इलाज दिलाने के लिए पुख्ता इंतजामात किए हैं। घायलों की हालत को देखते हुए 60 को लखनऊ के अलग अलग अस्पतालों में भर्ती करवाया गया है। घायलों में शामिल प्लांट के तीन जीएम को एयर एंबुलेंस से दिल्ली रवाना किया गया है। प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने हादसे में प्रभावित लोगों के प्रति संवेदना प्रकट करते हुए मृतकों के परिजनों को दो लाख रुपए और घायलों के परिजनों को 50 हजार का मुआवजा दिए जाने की घोषणा की है।

गुजरात छोड़ रायबरेली पहुंचे राहुल गांधी —

{ यह भी पढ़ें:- हिमाचल और गुजरात चुनाव परिणाम के बाद कांग्रेस के राष्ट्रीय अध्यक्ष बनेंगे राहुल गांधी }

वहीं इस हादसे के बाद कांग्रेस उपाध्यक्ष राहुल गांधी ने अपने गुजरात दौरे को स्थगित कर गुरुवार की सुबह ही रायबरेली पहुंच गए हैं। रायबरेली कांग्रेस के मुखिया परिवार का संसदीय क्षेत्र रहा है, वर्तमान में कांग्रेस की राष्ट्रीय आध्यक्ष सोनिया गांधी यहां से सांसद है। सोनिया गांधी अपने खराब स्वास्थ की वजह से रायबरेली नहीं पहुंच पाईं हैं।

रायबरेली पहुंचे राहुल गांधी ने जिला अस्पताल का दौरा कर घायलों का हालचाल लिया। वह पीड़ितों के परिवारों से भी मुलाकात की है। इसके बाद राहुल गांधी ऊंचाहार जाकर घटना स्थल का दौरा करेंगे और वहां काम करने वाले मजदूरों से भी बातचीत करेंगे।

{ यह भी पढ़ें:- बाप से दूरी बेटे के साथ लंच, ये है युवराज नीति }

केन्द्रीय ऊर्जा मंत्री भी पहुंचेगे रायबरेली —

केन्द्रीय राज्य ऊर्जा मंत्री आरके सिंह भी गुरुवार को रायबरेली पहुंच कर घटना स्थल का मुआयना करेंगे और एनटीपीसी के वरिष्ठ अधिकारियों से हादसे के कारणों के विषय में जानकारी लेंगे।

मजदूरों ने एनटीपीसी गेट पर किया बवाल —

{ यह भी पढ़ें:- कोई नहीं है टक्कर में, आज भी देश के सबसे लोकप्रिय नेता मोदी }

बुधवार को हुए ऊंचाहार एनटीपीसी में हुए हादसे में साथी मजदूरों की मौत से नाराज मजदूरों ने गुरुवार को एनटीपीसी के गेट पर जमकर हंगामा काटा है। मजदूरों का आरोप है कि जिस यूनिट में हादसा हुआ है वहां पहले से ही यांत्रिक समस्या थी। इसके बावजूद मैनेजमेंट ने इस बात को गंभीरता से नहीं लिया।

Loading...