जब सबूत तलाशने तालाब में उतर गये एसपी रायबरेली

रायबरेली। ज्यादातर मौके जहां पुलिस की छवि की बात होती है तो लोग नकारात्मक टिप्पड़ी ही करते हैं और काफी हद तक ये सही भी है। आए दिन पुलिस की अमानवीयता भरी कार्यशैली ये साबित भी कर देती है। उनकी ऐसी करतूत से पूरा पुलिस महकमा बदनाम होता है, लेकिन ऐसा नहीं है पुलिस विभाग में कुछ अधिकारी भी है जो अपना फर्ज पूरी ईमानदारी से निभाते हैं। इसकी बानगी एसपी रायबरेली शिव हरी मीणा ने शुक्रवार ने तब पेश की जब एक लापता बच्चे का शव संदिग्ध हालत में एक तालाब में मिला। घटना की सूचना जैसे ही एसपी को मिली वो मौके पर पहुंच गए। एसपी पुलिस विभाग के विरोध में प्रदर्शन कर रहे लोगो से बिना कुछ बोले तालाब में सुबूत खोजने उतर गए। उनको ऐसा करते देख नाराज लोगो का गुस्सा तुरंत शांत हो गया और सभी एसपी की तारीफ के पुल बांधने लगे।

बता दें कि शहर के अनवर नगर निवासी सगीर अहमद और उनकी पत्नी मैसर जहां बुधवार सुबह लगभग 9 बजे अपनी इकलौती संतान नोमान का एडमिशन कराने अहिया रायपुर में संचालित अलहम्द पब्लिक स्कूल पहुंचे। दंपती को रिसेप्शन कक्ष में बैठाकर नोमान को टेस्ट के लिए भेज दिया गया। लगभग दो घंटे गुजर जाने के बाद भी बच्चे के वापस न लौटने पर दंपती को फिक्र हुई। उन्होंने स्कूल स्टाफ से नोमान के बारे में पूछा। प्रबंधन ने बताया कि टेस्ट तो काफी देर पहले खत्म हो गया। बच्चा शायद दूसरे गेट से बाहर निकल गया हो।

{ यह भी पढ़ें:- अब मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ की सुरक्षा में तैनात होगी 'यूथ ब्रिगेड' }

स्कूल के अंदर और बाहर खोजबीन की गई लेकिन नोमान का पता नहीं चल सका। स्कूल प्रबंधन की लापरवाही का आलम ये रहा है कि उसने बच्चे के गायब होने पर अपनी जिम्मेदारियों से भी पल्ला झाड़ लिया। बदहवास अभिभावकों ने पुलिस को सूचना दी। बच्चे को खोजने के लिए परिवार के लोगों के साथ ही पुलिस की टीमें भी निकली। गुरुवार देर शाम तक नोमान के बारे में जानकारी नहीं मिल सकी थी। कोतवाल एके सिह परिहार ने बताया कि अपहरण का मुकदमा दर्ज कर तहकीकात शुरू कर दी गई थी। पुलिस की कई टीमें बच्चे की खोज में लगी थी। लेकिन शुक्रवार सुबह एक तालाब में बच्चा मिलने की सूचना मिली।

इसके बाद पुलिस मौके पर पहुंची और शव बाहर निकालकर पोस्टमार्टम के लिए भेज दिया। सोशल मीडिया पर भी बच्चे की फोटो पोस्ट कर जानकारी मांगी जा रही थी। तभी नोमान के परिजन वह पहुंचे गए। नाराज लोगो ने मौके पर ही प्रदर्शन करना शुरू कर दिया, जिसके बाद एसपी रायबरेली शिव हरी मीणा मौके पर पहुंचे थे।

{ यह भी पढ़ें:- योगीराज में 'महिला का चीरहरण', वायरल कर दिया वीडियो }

रायबरेली। ज्यादातर मौके जहां पुलिस की छवि की बात होती है तो लोग नकारात्मक टिप्पड़ी ही करते हैं और काफी हद तक ये सही भी है। आए दिन पुलिस की अमानवीयता भरी कार्यशैली ये साबित भी कर देती है। उनकी ऐसी करतूत से पूरा पुलिस महकमा बदनाम होता है, लेकिन ऐसा नहीं है पुलिस विभाग में कुछ अधिकारी भी है जो अपना फर्ज पूरी ईमानदारी से निभाते हैं। इसकी बानगी एसपी रायबरेली शिव हरी मीणा ने शुक्रवार ने तब पेश…
Loading...