बाहुबली नेता राजा भैया आज लखनऊ में दिखाएंगे अपनी सियासी ताकत

बाहुबली नेता राजा भैया आज लखनऊ में दिखाएंगे अपनी सियासी ताकत
बाहुबली नेता राजा भैया आज लखनऊ में दिखाएंगे अपनी सियासी ताकत

लखनऊ। यूपी के बाहुबली नेता और प्रतापगढ़ जिले की कुंडा सीट से निर्दलीय विधायक रघुराज प्रताप सिंह उर्फ राजा भैया शुक्रवार को अपने नए राजनीतिक सफर की हुंकार भरेंगे। वैसे तो रघुराज के समर्थकों ने इस रैली को ‘राजा भइया रजत जंयती अभिनंदन समारोह’ का नाम दिया है, लेकिन इस कार्यक्रम में राजा भइया अपनी प्रस्तावित नई पार्टी के नाम और एजेंडे की घोषणा कर सकते हैं। इस समारोह का आयोजन राजा भइया के राजनीतिक जीवन के 30 साल पूरे होने के उपलक्ष्य में किया जा रहा है।

Raghuraj Pratap Singh Raja Bhaiya Mla Lucknow Rally New Party :

राजा भैया की इस रैली में दावा किया गया है कि तीन से चार लाख लोग रमाबाई मैदान में जुटेंगे। समर्थकों को रैली में लाने के लिए बाकायदा एक ट्रेन भी बुक कराई गई है। राजा भैया के गृह जिले प्रतापगढ़ के लिए अलावा प्रदेश के कई जिलों से लोग आ रहे हैं। इसके लिए प्रदेश के अलग-अलग जिलों के नेताओं को भीड़ जुटाने की जिम्मेदारी दी गई है।

इस दौरान उन्होंने नई पार्टी के गठन का ऐलान भी किया था। उन्होंने बताया था कि जनसत्ता पार्टी, जनसत्ता लोकतांत्रिक पार्टी और जनसत्ता दल के नाम से पार्टी के लिए तीन नाम चुनाव आयोग को भेजे गए हैं। पार्टी सिंबल के लिए चुनाव आयोग को लेटर लिखा गया है।

लगातार छठी बार विधायक हैं राजा भैया

राजा भैया ने 26 साल की उम्र में 1993 में पहली बार कुंडा विधानसभा सीट से निर्दलीय उम्मीदवार के तौर पर जीत हासिल की थी। इसके बाद से वह कभी भी हारे नहीं। लगातार इसी सीट से निर्दलीय प्रत्याशी के तौर पर जीत हासिल करते आ रहे हैं। वह कुंडा सीट से लगातार छठवीं बार विधायक हैं।

पूर्वी उत्तर प्रदेश में खासा प्रभाव

राजा भैया का अच्छा खासा प्रभाव प्रतापगढ़ और इलाहाबाद जिले के कुछ हिस्से में हैं। उनकी छवि एक दबंग और क्षत्रिय नेता के तौर पर है। ऐसे में अलग-अलग पार्टियों के क्षत्रिय विधायकों से उनके रिश्ते काफी बेहतर हैं। राजाभैया, राज्य की सपा सरकार में मंत्री भी रहे हैं।

लखनऊ। यूपी के बाहुबली नेता और प्रतापगढ़ जिले की कुंडा सीट से निर्दलीय विधायक रघुराज प्रताप सिंह उर्फ राजा भैया शुक्रवार को अपने नए राजनीतिक सफर की हुंकार भरेंगे। वैसे तो रघुराज के समर्थकों ने इस रैली को ‘राजा भइया रजत जंयती अभिनंदन समारोह’ का नाम दिया है, लेकिन इस कार्यक्रम में राजा भइया अपनी प्रस्तावित नई पार्टी के नाम और एजेंडे की घोषणा कर सकते हैं। इस समारोह का आयोजन राजा भइया के राजनीतिक जीवन के 30 साल पूरे होने के उपलक्ष्य में किया जा रहा है। राजा भैया की इस रैली में दावा किया गया है कि तीन से चार लाख लोग रमाबाई मैदान में जुटेंगे। समर्थकों को रैली में लाने के लिए बाकायदा एक ट्रेन भी बुक कराई गई है। राजा भैया के गृह जिले प्रतापगढ़ के लिए अलावा प्रदेश के कई जिलों से लोग आ रहे हैं। इसके लिए प्रदेश के अलग-अलग जिलों के नेताओं को भीड़ जुटाने की जिम्मेदारी दी गई है। इस दौरान उन्होंने नई पार्टी के गठन का ऐलान भी किया था। उन्होंने बताया था कि जनसत्ता पार्टी, जनसत्ता लोकतांत्रिक पार्टी और जनसत्ता दल के नाम से पार्टी के लिए तीन नाम चुनाव आयोग को भेजे गए हैं। पार्टी सिंबल के लिए चुनाव आयोग को लेटर लिखा गया है। लगातार छठी बार विधायक हैं राजा भैया राजा भैया ने 26 साल की उम्र में 1993 में पहली बार कुंडा विधानसभा सीट से निर्दलीय उम्मीदवार के तौर पर जीत हासिल की थी। इसके बाद से वह कभी भी हारे नहीं। लगातार इसी सीट से निर्दलीय प्रत्याशी के तौर पर जीत हासिल करते आ रहे हैं। वह कुंडा सीट से लगातार छठवीं बार विधायक हैं। पूर्वी उत्तर प्रदेश में खासा प्रभाव राजा भैया का अच्छा खासा प्रभाव प्रतापगढ़ और इलाहाबाद जिले के कुछ हिस्से में हैं। उनकी छवि एक दबंग और क्षत्रिय नेता के तौर पर है। ऐसे में अलग-अलग पार्टियों के क्षत्रिय विधायकों से उनके रिश्ते काफी बेहतर हैं। राजाभैया, राज्य की सपा सरकार में मंत्री भी रहे हैं।