NPA पर रघुराम राजन का संसदीय समिति को जवाब, कहा- इसके लिए UPA राज जिम्मेदार

NPA पर रघुराम राजन का संसदीय समिति को जवाब, कहा- इसके लिए UPA राज जिम्मेदार
NPA पर रघुराम राजन का संसदीय समिति को जवाब, कहा- इसके लिए UPA राज जिम्मेदार

Raghuram Rajan Npa Bad Loans Over Optimistic Bankers Policy Paralysis Parliaments Committee

नई दिल्ली। रिजर्व बैंक के पूर्व गवर्नर रघुराम राजन ने भारतीय बैंकों पर बढ़ते कर्ज (एनपीए) को लेकर संसद की एक समिति को भेजे अपने जवाब में पूर्ववर्ती यूपीए सरकार को कटघरे में खड़ा कर दिया है। सूत्रों के मुताबिक राजन ने अपने जवाब में कहा है कि घोटालों और जांच की वजह से सरकार के निर्णय लेने की गति धीमी होने की वजह से एनपीए बढ़ते गए।

गौरतलब है कि वरिष्ठ बीजेपी सांसद मुरली मनोहर जोशी की अध्यक्षता वाली संसद की प्राक्कलन समिति ने राजन को पत्र लिखकर समिति के सामने उपस्थित होकर एनपीए के मुद्दे पर जानकारी देने को कहा था। अपने जवाब में राजन ने कहा है कि बैंकों द्वारा बड़े कर्जों पर यथोचित कार्रवाई नहीं की गई और 2006 के बाद विकास की गति धीमी पड़ जाने के बाद बैंकों की वृद्धि का जो आकलन था वो अवास्तविक हो गया।

एनपीए से बचने के लिए दिए बड़े लोन

पूर्व आरबीआई गवर्नर ने ये भी बताया कि बैंकों ने लोन को नॉन परफॉर्मिंग एसेट्स में बदलने से बचाने के लिए और अधिक लोन दिए। पूर्व प्रमुख आर्थिक सलाहकार अरविंद सुब्रमण्यम ने एनपीए की पहचान करने और इसे हल करने की कोशिश के लिए राजन की तारीफ की थी, जिसके बाद संसदीय समिति ने उन्हें इस मुद्दे पर सलाह देने के लिए आमंत्रित किया था। राजन सितंबर 2016 तक तीन साल रिजर्व बैंक के गवर्नर रहे और इस वक्त शिकागो यूनिवर्सिटी में इकॉनॉमिक्स के प्रोफेसर हैं।

बैंकों का एनपीए हुआ 8.99 ट्रिलियन रुपये

मालूम हो कि इस वक्त सभी बैंक एनपीए की समस्या से जूझ रहे हैं। दिसंबर 2017 तक बैंकों का एनपीए 8.99 ट्रिलियन रुपये हो गया था जो कि बैंकों में जमा कुल धन का 10.11 फीसदी है। कुल एनपीए में से सार्वजनिक क्षेत्रों के बैंकों का एनपीए 7.77 ट्रिलियन है।

नई दिल्ली। रिजर्व बैंक के पूर्व गवर्नर रघुराम राजन ने भारतीय बैंकों पर बढ़ते कर्ज (एनपीए) को लेकर संसद की एक समिति को भेजे अपने जवाब में पूर्ववर्ती यूपीए सरकार को कटघरे में खड़ा कर दिया है। सूत्रों के मुताबिक राजन ने अपने जवाब में कहा है कि घोटालों और जांच की वजह से सरकार के निर्णय लेने की गति धीमी होने की वजह से एनपीए बढ़ते गए। गौरतलब है कि वरिष्ठ बीजेपी सांसद मुरली मनोहर जोशी की अध्यक्षता वाली…