रघुवंश बोले, पुराने जमाने में ऋषि-महर्षि भी खाते थे बीफ, गिरिराज और साक्षी महाराज ने किया पलटवार

नई दिल्ली: गौमांस को लेकर राजनीतिक दलों में बहस छिड़ गई है| राजद के वरिष्ठ नेता रघुवंश प्रसाद सिंह ने शनिवार को कहा कि पुराने जमाने में ऋषि-महर्षि भी बीफ खाते थे। रघुवंश प्रसाद सिंह ने कहा कि बीफ मामले को बेवजह तूल दिया जा रहा है जबकि पुराने जमाने में ऋषि-महर्षि भी बीफ खाते थे। उन्होंने अपनी बात को साबित करने के लिए वेद पुराणों का भी हवाला दिया।

रघुवंश के इस बयान पर भाजपा नेता और केंद्रीय मंत्री गिरिराज सिंह ने पलटवार में कहा कि आरजेडी का पूरा कुनबा पगला गया है। उन्होंने कहा कि हिंदुओं का अपमान बर्दाश्त नहीं किया जाएगा, नीतीश और लालू जानबूझकर हिंदू को गाली दे रहे हैं। पहले लालू फिर रघुवंश ने हिंदुओं को गौमांस खाने की बात कही। इस मामले पर नीतीश की चुप्पी से साबित होता है कि हिंदू को जबरन गौमांस खिलाया जाएगा। संतों ने भी रघुवंश के बयान का विरोध किया।

इससे पहले केंद्रीय मंत्री और भाजपा नेता गिरिराज सिंह ने कहा कि किसी भी आदमी का अपनी पत्नी और बहन से अलग-अलग रिश्ता होता है। बिल्कुल यही अंतर गाय के मांस और बकरी के मांस में है। गिरिराज सिंह ने यह भी कहा है कि जो लोग बकरे का मांस खाते हैं, अगर उन्हें कुत्ते का मांस दिया जाए तो क्या वो खा लेंगे? भारतीय लोग अपनी मां और बहन के साथ एक धार्मिक रिश्ता रखते हैं। हमें गोमाता के साथ भी वैसा ही रिश्ता रखना चाहिए।

उधर, रघुवंश प्रसाद सिंह के इस बयान पर भाजपा नेता साक्षी महाराज ने भी पलटवार किया है| साक्षी महाराज ने कहा है कि लगता है रघुवंश रघु वंश के नहीं रावण के वंश हैं|उधर, कांग्रेस प्रवक्ता राशिद अल्वी ने कहा कि हमें बयान देते समय इस बात का ध्यान रखना चाहिए कि हमारे बयान से किसी धर्म का अनादर ना हो| वहीं भाजपा नेता नंदकिशोर यादव ने कहा कि यह बेहद शर्मनाक है कि जो समाज गाय की पूजा करता है, उसके लिए इस तरह के बयान दिए जा रहे हैं| इस तरह के बयानों की हर तरफ निंदा की जानी चाहिए|

आपको बता दें कि यह बीफ विवाद तब शुरू हुआ जब उत्तर प्रदेश के ग्रेटर नोएडा के दादरी इलाके में एक अधेड़ की हत्या सिर्फ इस आरोप पर कर दी गयी थी उसके घर में बीफ पका था| इस कांड के बाद राजद सुप्रीमो लालू यादव ने यह बयान दिया था कि क्या हिंदू बीफ नहीं खाते जो इस पर इतना हंगामा मचाया गया और एक व्यक्ति की हत्या तक कर दी गयी| उन्होंने कहा कि यह भाजपा की साजिश है| वह देश में सांप्रदायिक तनाव फैलाना चाहती है| उसके बाद से इस मामले पर लगातार बयानबाजी हो रही है|