ICC के सबसे बड़े सम्मान ‘हॉल ऑफ फेम’ से नवाजे गए राहुल द्रविड़

ICC के सबसे बड़े सम्मान 'हॉल ऑफ फेम' से नवाजे गए राहुल द्रविड़
ICC के सबसे बड़े सम्मान 'हॉल ऑफ फेम' से नवाजे गए राहुल द्रविड़

नई दिल्ली। पूर्व भारतीय कप्तान राहुल द्रविड़ को आधिकारिक रूप से अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट परिषद (आईसीसी) हॉल ऑफ फेम में शामिल किया गया। इस फेहरिस्त में शामिल होने वाले दुनिया के 87वें और भारत के पांचवें क्रिकेटर हैं। इससे पहले बिशन सिंह बेदी, कपिल देव, सुनील गावस्कर और अनिल कुंबले को यह सम्मान मिल चुका है।

Rahul Dravid Officially Inducted In Icc Hall Of Fame :

क्रिकेट की दुनिया में ‘द वॉल’ (दीवार) के नाम से द्रविड़ ने 164 टेस्ट में 36 शतकों की मदद से 13288 रन, जबकि 344 वनडे में 12 शतकों की मदद से 10889 रन बनाए। उन्हें 2004 में आईसीसी का साल का सर्वश्रेष्ठ क्रिकेटर और साल का सर्वश्रेष्ठ टेस्ट क्रिकेटर भी चुना गया। एकमात्र टी-20 अंतरराष्ट्रीय मैच खेलने वाले द्रविड़ बेहतरीन स्लिप क्षेत्ररक्षक भी थे। उन्होंने 2012 में खत्म हुए अपने टेस्ट करियर के दौरान विश्व रिकॉर्ड 210 कैच लपके।

भारत के लिए यह एक बड़ी उपलब्धि है। लेकिन द्रविड़ को जगह दिए जाने के बाद अब सचिन तेंदुलकर के प्रशंसकों के बीच अब यह चर्चा शुरू हो गई है। कि आखिर उनके ‘भगवान’ को अभी तक आईसीसी हाल ऑफ फेम में क्यों शामिल नहीं किया गया। ऐसे खिलाड़ी को इस क्लब में जगह क्यों नहीं दी गई, जिसके खाते में अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट में सौ शतक जमा हैं।

नई दिल्ली। पूर्व भारतीय कप्तान राहुल द्रविड़ को आधिकारिक रूप से अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट परिषद (आईसीसी) हॉल ऑफ फेम में शामिल किया गया। इस फेहरिस्त में शामिल होने वाले दुनिया के 87वें और भारत के पांचवें क्रिकेटर हैं। इससे पहले बिशन सिंह बेदी, कपिल देव, सुनील गावस्कर और अनिल कुंबले को यह सम्मान मिल चुका है। क्रिकेट की दुनिया में 'द वॉल' (दीवार) के नाम से द्रविड़ ने 164 टेस्ट में 36 शतकों की मदद से 13288 रन, जबकि 344 वनडे में 12 शतकों की मदद से 10889 रन बनाए। उन्हें 2004 में आईसीसी का साल का सर्वश्रेष्ठ क्रिकेटर और साल का सर्वश्रेष्ठ टेस्ट क्रिकेटर भी चुना गया। एकमात्र टी-20 अंतरराष्ट्रीय मैच खेलने वाले द्रविड़ बेहतरीन स्लिप क्षेत्ररक्षक भी थे। उन्होंने 2012 में खत्म हुए अपने टेस्ट करियर के दौरान विश्व रिकॉर्ड 210 कैच लपके।भारत के लिए यह एक बड़ी उपलब्धि है। लेकिन द्रविड़ को जगह दिए जाने के बाद अब सचिन तेंदुलकर के प्रशंसकों के बीच अब यह चर्चा शुरू हो गई है। कि आखिर उनके 'भगवान' को अभी तक आईसीसी हाल ऑफ फेम में क्यों शामिल नहीं किया गया। ऐसे खिलाड़ी को इस क्लब में जगह क्यों नहीं दी गई, जिसके खाते में अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट में सौ शतक जमा हैं।