अमेरिका में बोले राहुल: भारत में वंशवाद की राजनीति, अखिलेश-अंबानी उसका उदाहरण

नई दिल्ली। कांग्रेस उपाध्यक्ष राहुल गांधी ने अमेरिका की बर्कले यूनिवर्सिटी में एक कार्यक्रम के दौरान भारत में वंशवाद की राजनीति को लेकर कई बातें कहीं। कार्यक्रम के दौरान राहुल ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की जमकर तारीफ की और कश्मीर मुद्दे को लेकर उनकी आलोचना भी की। राहुल ने कहा, देश में ज़्यादातर पार्टियां वंशवाद के आधार पर चल रही हैं और उसी को आगे बढ़ाने में लगी है। राहुल ने उदाहरण के तौर पर यूपी के पूर्व मुख्यमंत्री और समाजवादी पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष अखिलेश यादव, एमके स्टालिन (करुणानिधि के बेटे) मुकेश-अनिल अंबानी (धीरूभाई के बेटे) का नाम लिया और कहा, ये सभी अपने पिता की विरासत को आगे बढ़ाते दिख रहे हैं।

राहुल गांधी ने आगे कहा, “मैं विपक्ष का नेता हूं लेकिन मोदी मेरे भी प्रधानमंत्री हैं। प्रधानमंत्री मोदी मुझसे भी अच्छे वक्ता हैं वह लोगों को मैसेज देना जानते हैं। लेकिन वो भाजपा के नेताओं की भी नहीं सुनते हैं। स्वच्छ भारत एक अच्छा आइडिया, मुझे भी पसंद है। आज रूस पाकिस्तान को हथियार बेच रहा है, जो पहले कभी नहीं हुआ ऐसा पहले नहीं होता था।

{ यह भी पढ़ें:- ताजमहल विश्व धरोहर है, सीएम योगी ताजमहल के सामने फोटो खिंचवाएं: अखिलेश यादव }

कश्मीर मुद्दे पर बोले राहुल-

राहुल ने कश्मीर में जारी हिंसा को लेकर कहा, “मैं पर्दे के पीछे से लगातार पूर्व प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह, पी चिंदबरम, जयराम रमेश व अन्य के साथ 9 साल तक आतंकवाद को खत्म करने के लिए काम करता रहा। जब हमने शुरू किया था तो कश्मीर में आतंक बढ़ा हुआ था लेकिन 2013 तक हमने उसकी रीढ़ तोड़ दी थी। इसके बाद मैंने मनमोहन सिंह जी को गले लगाया और कहा कि यह हमारी सबसे बड़ी सफलताओं में से एक है।

{ यह भी पढ़ें:- गुजरात में भाजपा को तगड़ा झटका, खरीद फरोख्त के आरोपों से घिरी पार्टी }

अहंकार के चलते हारी कांग्रेस-

राहुल गांधी ने माना कि कांग्रेस साल 2012 के लोकसभा चुनाव के दौरान मद में चूर थी, हमने आम जनता से सीधा संवाद छोड़ दिया था। पार्टी के नेताओं से भी कई गलतियां हुई हैं। इसके बाद हमने पार्टी के पुनर्निर्माण की कोशिश की और नये विजन तलाशे, जिसकी वजह से हम अब आगे बढ़ रहे हैं। भाजपा सरकार ने कोई नया काम नहीं किया, जो काम मौजूदा सरकार कर रही है, वो हम अपनी सरकार के दौरान कर चुके हैं।

{ यह भी पढ़ें:- इस महीने तीसरी बार गुजरात पहुंचे पीएम मोदी, इन योजनाओं का हुआ शुभारंभ }