राहुल गांधी ने सरकार पर बोला हमला, कहा-चीन योजना बनाता रहा और सोती रही सरकार

rahul gandhi
'मन की बात' कार्यक्रम पर राहुल गांधी ने कसा तंज, कहा-कब होगी राष्ट्र रक्षा और सुरक्षा की बात?

नई दिल्ली। लद्दाख के गलवां घाटी में चीनी सैनिकों के साथ झड़प में शहीद हुए 20 जवानों को लेकर पूरे देश में गुस्से का माहौल है। पूरे देश में चीन से बदला लेने की आवाज उठ रही है। वहीं, इसको लेकर बीजेपी और कांग्रेस आमने—सामने आ गयी है। कांग्रेस के पूर्व अध्यक्ष राहुल गांधी ने एक बार फिर मोदी सरकार पर हमला बोला है।

Rahul Gandhi Attacked The Government Said China Kept Planning And Government Kept Sleeping :

राहुल गांधी ने रक्षा राज्य मंत्री श्रीपद नाईक के एक बयान से जुड़ी खबर का हवाला देते हुए ट्वीट किया है। जिसमें उन्होंने कहा कि, ‘यह बात पूरी तरह स्पष्ट हो चुकी है कि गलवां घाटी में चीन का हमला पूर्व नियोजित था। सरकार सो रही थी और समस्या से इनकार किया। हमारे शहीद जवानों को इसकी कीमत चुकानी पड़ी।’

कांग्रेस नेता ने नाईक के बयान से जुड़ी जिस खबर का हवाला दिया उसके मुताबिक मंत्री ने कहा है कि भारतीय सैनिकों पर हमले की योजना चीन ने पहले से बना रखी थी और भारतीय सुरक्षा बल इसका करारा जवाब देंगे। केंद्रीय मंत्री ने अपने बयान में कहा कि यह राष्ट्रीय सुरक्षा का मामला है और इस पर कोई समझौता नहीं किया जाएगा। हम किसी को अपनी जमीन नहीं लेने देंगे। भारत की संप्रभुता और अखंडता की रक्षा की जाएगी।

नई दिल्ली। लद्दाख के गलवां घाटी में चीनी सैनिकों के साथ झड़प में शहीद हुए 20 जवानों को लेकर पूरे देश में गुस्से का माहौल है। पूरे देश में चीन से बदला लेने की आवाज उठ रही है। वहीं, इसको लेकर बीजेपी और कांग्रेस आमने—सामने आ गयी है। कांग्रेस के पूर्व अध्यक्ष राहुल गांधी ने एक बार फिर मोदी सरकार पर हमला बोला है। राहुल गांधी ने रक्षा राज्य मंत्री श्रीपद नाईक के एक बयान से जुड़ी खबर का हवाला देते हुए ट्वीट किया है। जिसमें उन्होंने कहा कि, ‘यह बात पूरी तरह स्पष्ट हो चुकी है कि गलवां घाटी में चीन का हमला पूर्व नियोजित था। सरकार सो रही थी और समस्या से इनकार किया। हमारे शहीद जवानों को इसकी कीमत चुकानी पड़ी।’ कांग्रेस नेता ने नाईक के बयान से जुड़ी जिस खबर का हवाला दिया उसके मुताबिक मंत्री ने कहा है कि भारतीय सैनिकों पर हमले की योजना चीन ने पहले से बना रखी थी और भारतीय सुरक्षा बल इसका करारा जवाब देंगे। केंद्रीय मंत्री ने अपने बयान में कहा कि यह राष्ट्रीय सुरक्षा का मामला है और इस पर कोई समझौता नहीं किया जाएगा। हम किसी को अपनी जमीन नहीं लेने देंगे। भारत की संप्रभुता और अखंडता की रक्षा की जाएगी।