1. हिन्दी समाचार
  2. राहुल गांधी का मोदी सरकार पर हमला, लॉकडाउन हुआ फेल, पीएम बैकफुट पर

राहुल गांधी का मोदी सरकार पर हमला, लॉकडाउन हुआ फेल, पीएम बैकफुट पर

Rahul Gandhi Attacks Modi Government Lockdown Fails Pm On Backfoot

नई दिल्ली। भारत में कोरोना वायरस के मामले तेजी से बढ़ते चले जा रहे हैं, हालांकि अभी भी चौथा लॉकडाउन चल रहा है लेकिन बीते कुछ दिनो से संक्रमितों की बाढ़ सी आ गयी है. कांग्रेस नेता राहुल गांधी ने मंगलवार को प्रेस कॉन्फ्रेंस कर मोदी सरकार पर निशाना साधा और लॉकडाउन फेल होने का आरोप लगाया. राहुल गांधी ने कहा कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने दो महीने पहले कहा था कि हम 21 दिन में कोरोना वायरस को हरा देंगे, लेकिन अब 60 दिन बाद हमारे देश में कोरोना वायरस तेजी से बढ़ रहा है और लॉकडाउन को हटाया जा रहा है. राहुल बोले कि लॉकडाउन का मकसद पूरी तरह से फेल हो गया है.

पढ़ें :- बंगालः नारेबाजी से नाराज हुईं ममता बनर्जी, कहा-किसी को बुलाकर बेइज्जत करना ठीक नहीं

राहुल गांधी की बड़ी बातें…

पढ़ें :- हमारे नेताजी भारत के पराक्रम की प्रतिमूर्ति भी हैं और प्रेरणा भी : पीएम मोदी

नरेंद्र मोदी जी ने कहा था कि 21 दिनों में कोरोना की लड़ाई जीती जाएगी। लॉकडाउन के साथ 60 दिन हो गए, लेकिन भारत पहला देश है जो मामले बढ़ने के बाद लॉकडाउन बंद कर रहा है।

भारत में लॉकडाउन फेल हुआ है, नरेंद्र मोदी का जो लक्ष्य था, वो पूरा नहीं। सरकार और पीएम बताएं कि आपकी स्ट्रैटिजी क्या है?

मजदूरों, छोटे बिजनसों आदि के लिए सरकार अपनी योजना बताए। जो होना था, वो नहीं हुआ।

सरकार क्यों फेल हुई ये मुद्दा नहीं है, मुद्दा ये है कि देश में अभी क्या हो रहा है। लॉकडाउन फेल हुआ है।

लॉकडाउन से जैसी उम्मीद थी, वैसा नहीं हुआ है। सरकार के आगे की योजना क्या है?

पढ़ें :- शिल्पकारों और दस्तकारों के कला को निखार स्वदेशी के मंत्र को बल देंगे : मुख्यमंत्री

भारत में पिछले काफी समय से बेरोजगारी की समस्या है, लेकिन अभी कोरोना संकट की वजह से ये समस्या बढ़ गई है। अब कई छोटे बिजनस बंद हो जाएंगे और लोगों की नौकरियां जाएंगी।

चीन-नेपाल से सीमा विवाद पर राहुल गांधी ने कहा कि ‘इन मुद्दों की डीटेल पारदर्शिता के साथ जारी करे सरकार, हमें पता नहीं है क्या हो रहा है।’

मैंने सरकार से फरवरी में ही कहा था कि स्थिति काफी खराब होने जा रही है। अभी भी वही कह रहा हूं। सरकार से निवेदन कर रहा हूं कि आप इकनॉमिक ऐक्शन लीजिए, कैश इंजेक्शन दीजिए। छोटे उद्योगों की रक्षा कीजिएः

थोड़ी सी मेरी बातचीत जो सरकार में डिसिजन मेकर्स हैं, उनसे इनडायरेक्टली होती रहती है। उनकी राय है कि अगर हमने बहुत सारा पैसा गरीब लोगों को दे दिया, मजदूरों को दे दिया, तो बाहर के देशों में गलत इंप्रेशन चला जाएगा।

हमारी रेटिंग खराब हो जाएगी। मैं फिर से दोहरा रहा हूं, हिंदुस्तान की शक्ति बाहर से नहीं बनती है, हिंदुस्तान की शक्ति हिंदुस्तान के अंदर से बनती है। जब हिंदुस्तान मजबूत होता है, तो हिंदुस्तान की शक्ति में शक्ति होती है, तो पूरी दुनिया देखती है और इमेज बनती है हमारी।

हिंदुस्तान की शक्ति की रक्षा करने की जरूरत है। इसके लिए 50 फीसदी लोगों को डायरेक्ट कैश देना होगा। महीने का साढ़े सात हजार रुपये देना होगा।

पढ़ें :- भारत में गज़ब फीचर्स के साथ लॉन्च होगा Honor V40 5G, जानिए कीमत

Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करे...