दिल्ली बुलाकर बिहार कांग्रेस के बागी विधायकों की क्लास लगाएंगे राहुल गांधी

क्या बिहार में बिखरती कांग्रेस को साध पाएंगे राहुल गांधी

नई दिल्ली। बिहार में महागठबंधन की सरकार के बिखराव के बाद कांग्रेस के विधायकों का पार्टी हाई कमान पर से विश्वास डगमगा गया है। करीब 25 सालों के इंतजार के बाद गठबंधन का हिस्सा बन सत्ता में आई कांग्रेस के विधायकों के बागी सुर अब जाकर हाईकमान के कानों तक पहुंचे हैं। जिसके बाद पार्टी के राष्ट्रीय उपाध्यक्ष राहुल गांधी एक्शन में आए हैं और उन्होंने पार्टी विधायकों को दिल्ली में बैठक के लिए बुलाया है।

बताया जा रहा है कि पिछले 15 दिनों से कांग्रेसी विधायकों के एक खेमें में नीतीश कुमार के प्रति आकर्षण बढ़ रहा है। 17 महीनों तक सत्ता का सुख भोगने के बाद कांग्रेस के विधायकों को विपक्ष में बैठना रास नहीं आ रहा है। विशेष कर उस खेमे को जिसके नेता कभी मंत्री हुआ करते थे।

{ यह भी पढ़ें:- राहुल गांधी के साथ कौन है ये विदेशी लड़की, सोशल मीडिया में वायरल हुई फोटो }

सूत्रों की माने तो पार्टी के इस गुट का मानना है कि बिहार में महागठबंधन के बिखराव का कारण कांग्रेस का पार्टी हाईकमान ही है। जिसने समय रहते लालू प्रसाद यादव पर दबाव न बनाकर नीतीश कुमार को बागी होने का मौका दिया। इन विधायकों का मानना है कि सोनिया गांधी और राहुल गांधी अगर चाहते तो लालू प्रसाद यादव अपने उप मुख्यमंत्री बेटे तेजस्वी यादव को इस्तीफा देने के लिए मजबूर कर सकते थे। लेकिन कांग्रेस के दोनों ही शीर्ष नेता बिहार की परिस्थिति को संभाल नहीं पाए, जिसका परिणाम बिहार कांग्रेस के विधायकों को विपक्ष में बैठकर भुगतना पड़ रहा है।

बिहार के सियासी गलियारे में चर्चा तो यह तक है कि बिहार कांग्रेस के 27 में से 14 विधायक नीतीश कुमार के संपर्क में हैं। जो किसी भी समय जदयू में शामिल होकर कांग्रेस को झटका देने की तैयारी कर चुके हैं। इनमें कुछ चेहरे ऐसे भी हैं जिनको कांग्रेस की टिकट नीतीश कुमार की सिफारिश के बाद ही मिली थी।

{ यह भी पढ़ें:- अमेरि​की एनआरआई समुदाय से राहुल गांधी की अपील भारत लौटकर बदलें देश की तस्वीर }