राहुल ने वायनाड में की पहली रैली, कहा मन की बात बताने आया हूं

rahul gandhi
राहुल ने वायनाड में की पहली रैली, कहा मन की बात बताने आया हूं

नई दिल्ली। वायनाड से चुनाव लड़ रहे कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी ने पहली बार वहां किसी रैली को संबाधित करने पहुंचे हैं। इस दौरान उन्होने कहा कि आरएसएस का एजेंडा है एक देश, एक व्यक्ति और वह इसे लागू करने की कोशिश क्यों कर रहा है। इस दौरान उन्होने कहा कि जैसे देश के अन्य भाग महत्वपूर्ण हैं, वैसे ही दक्षिण भी अपना एक अहम स्थान रखता है।

Rahul Gandhi First Campaign At Voinod :

कार्यक्रम के दौरान आगे उन्होने कहा कि मैं यहां एक राजनेता की तरह यह कहने नहीं आया हूं कि क्या करना है या मैं क्या सोचता हूं। मैं यहां आपको अपने ‘मन की बात’ बताने नहीं आया हूं। मैं आपके दिल की आवाज सुनने आया हूं।

उधर महाराष्ट्र में आयोजित एक चुनावी रैली में पीएम मोदी ने बेमौसम बारिश से प्रभावित लोगों को तत्काल राहत मुहैया कराने का अधिकारियों को निर्देश दिया गया है। इस दौरान उन्होने कहा कि यहां मौजूद भगवा समर्थकों को देखकर मैं समझ गया हूं कि क्यों पवार ने चुनावी मैदान छोड़ दिया है। उन्होने कहा कि इतना बड़ा देश चलाने के लिए आपको एक मजबूत नेता चाहिए और मोदी को भारत का शासन दोबारा सौंपने के लिए लोग चिलचिलाती गर्मी की भी परवाह नहीं कर रहे।

नई दिल्ली। वायनाड से चुनाव लड़ रहे कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी ने पहली बार वहां किसी रैली को संबाधित करने पहुंचे हैं। इस दौरान उन्होने कहा कि आरएसएस का एजेंडा है एक देश, एक व्यक्ति और वह इसे लागू करने की कोशिश क्यों कर रहा है। इस दौरान उन्होने कहा कि जैसे देश के अन्य भाग महत्वपूर्ण हैं, वैसे ही दक्षिण भी अपना एक अहम स्थान रखता है। कार्यक्रम के दौरान आगे उन्होने कहा कि मैं यहां एक राजनेता की तरह यह कहने नहीं आया हूं कि क्या करना है या मैं क्या सोचता हूं। मैं यहां आपको अपने 'मन की बात' बताने नहीं आया हूं। मैं आपके दिल की आवाज सुनने आया हूं। उधर महाराष्ट्र में आयोजित एक चुनावी रैली में पीएम मोदी ने बेमौसम बारिश से प्रभावित लोगों को तत्काल राहत मुहैया कराने का अधिकारियों को निर्देश दिया गया है। इस दौरान उन्होने कहा कि यहां मौजूद भगवा समर्थकों को देखकर मैं समझ गया हूं कि क्यों पवार ने चुनावी मैदान छोड़ दिया है। उन्होने कहा कि इतना बड़ा देश चलाने के लिए आपको एक मजबूत नेता चाहिए और मोदी को भारत का शासन दोबारा सौंपने के लिए लोग चिलचिलाती गर्मी की भी परवाह नहीं कर रहे।