राहुल बोले- अगर मैं नोटबंदी पर बोला, तो संसद में आयेगा भूकंप

Rahul Gandhi My Parliament Speech Will Cause Earthquake

नई दिल्ली। संसद के दोनों सदन राज्यसभा और लोकसभा में लगातार हंगामे के बाद शुक्रवार को राहुल गांधी ने बड़ा बयान दिया है। राहुल गांधी ने कहा मोदी सरकार नोटबंदी पर चर्चा होने से अब क्यों भाग रही है। राहुल ने केंद्र सरकार पर गंभीर आरोप लगाते हुए कहा कि नोटबंदी हिन्दुस्तान के इतिहास में सबसे बड़ा घोटाला है। इसी वजह से सरकार जवाब देने से भाग रही है।




राहुल गांधी ने कहा कि जनता कतार में खड़ी होकर नोट बदल रही है, आम आदमी नोटबंदी की समस्याओं  से परेशान है और मोदी जी पूरे देश में परिवर्तन यात्राएं कर रहे है लेकिन उनके पास सदन मे चर्चा के लिए समय नही है। जाहिर है मोदी जी सदन में बहस करने से कतरा रहे है, बहस से बचना इस बात की ओर इशारा करता है कि इसके पीछे एक बड़ा घोटाला छिपा हुआ है।



सदन में बोलूँगा तो आयेगा भूकंप—

राहुल बोले, ये सारी बातें अगर मैं संसद में बोलूंगा तो मोदी जी बैठ नहीं पाएंगे। जब उनसे पूछा गया कि क्या उनको बोलने से रोका जा रहा है? राहुल का जवाब था, ‘हां मुझे बोलने से रोका जा रहा है मैं पिछले एक महीने से बोलना चाहता हूं सरकार ने चर्चा कराने के लिए कहा था लेकिन अब सरकार अपने वादे से पीछे हट गई।’ राहुल यहीं नहीं रुके उन्होंने आगे कहा कि अगर उन्हें संसद में बोलने दिया जाता है तो सब देखेंगे कैसा भूकंप आता है।



पिछले 16 दिनों से नहीं चल सका सदन–

सदन पिछले 16 दिनों से हंगामे की भेट चढ़ रहा है। कल ही वित्त मंत्री अरूण जेटली ने ‘कैशलेस ट्रांजेक्शन’ पर बड़ी छूट देने का ऐलान किया है। इस पर राहुल गांधी ने कहा, ‘पहले ये लोग काउंटर फीट की ओर दौड़े, फिर कैशलेस अर्थव्यवस्था बनाने में, लेकिन इससे कोई फायदा नही मिला। राहुल ने बड़ा आरोप लगाते हुए कहा की संसद में चर्चा करिये तो पता चल जाएगा नोटबंदी क्या है और इसमें किसको फायदा होगा और किसे नुकसान।

नई दिल्ली। संसद के दोनों सदन राज्यसभा और लोकसभा में लगातार हंगामे के बाद शुक्रवार को राहुल गांधी ने बड़ा बयान दिया है। राहुल गांधी ने कहा मोदी सरकार नोटबंदी पर चर्चा होने से अब क्यों भाग रही है। राहुल ने केंद्र सरकार पर गंभीर आरोप लगाते हुए कहा कि नोटबंदी हिन्दुस्तान के इतिहास में सबसे बड़ा घोटाला है। इसी वजह से सरकार जवाब देने से भाग रही है। राहुल गांधी ने कहा कि जनता कतार में खड़ी होकर नोट…