संगम में सियासी आस्था की डुबकी लगाएंगे कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी

संगम में सियासी आस्था की डुबकी लगाएंगे कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी

लखनऊ। भारतीय जनता पार्टी से लगातार पटखनी खा रही देश की सबसे पुरानी और सबसे लंबे समय तक देश की सत्ता का सुख पाने वाली पार्टी कांग्रेस में नई जान फूंकने के लिए पार्टी के नए राष्ट्रीय अध्यक्ष राहुल गांधी अब नए रास्ते पर चल पड़े हैं। गुजरात के विधानसभा चुनावों में मंदिर मंदिर मत्था टेकने के बाद भाजपा और प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी को बीते चार सालों में पहली चुनौती देने में सफल रहे राहुल गांधी को अब देश की राजनीति समझ आने लगी है। शायद अब वह समझ चुके हैं कि सेक्युलर राजनीति के दिन बहुर चुके हैं। अगर भारत जैसे देश की राजनीति में अपनी मौजूदगी बनाए रखनी है तो हिन्दुत्व को नजरंदाज करना गलत होगा। यही वजह रही कि गुजरात में जनेऊधारी बनने से लेकर शिवभक्त बनने का तक का सफर करने के बाद वह संगम में सियासी आस्था की डुबकी लगाने की तैयारी कर चुके हैं।

सूत्रों की माने तो राहुल गांधी माघ महीने में संगम पर लगाने वाले मेले के दौरान संगम पर स्नान करने पहुंच सकते हैं। माना जा रहा है कि अपने इस स्नान से राहुल गांधी यूपी की हिन्दुत्ववादी राजनीति की अकेली झंडाबरदार भाजपा को चुनौती देना चाहते है। संगम पर डुबकी लगाने की योजना 2019 की चुनावी लड़ाई में अपने पैरे जमाने के लिए लगाई जाएगी। यूपी की 80 लोकसभा सीटों में से कांग्रेस के पास मात्र दो सीटें हैं। जिनमें से एक सीट से स्वयं राहुल गांधी सांसद है तो दूसरी सीट से उनकी मां सोनिया गांधी।

{ यह भी पढ़ें:- चार आतंकियों के लिए मारे जाते हैं 20 सिविलियन्स : गुलाम नबी आजाद }

सियासी जानकारों की माने तो राहुल गांधी मंदिरों और शिवालयों के माध्यम से देश की राजनीति में अपने लिए नई जमीन तैयार करने में लगे हैं। निश्चित ही इससे उनकी राजनीतिक छवि तो बदलेगी लेकिन यह रणनीति यूपी की सियासी जमीन पर उन्हें कितनी सफलता देगी यह तो 2019 के लोकसभा चुनाव के परिणाम ही बताएंगे।

{ यह भी पढ़ें:- राहुल गांधी के 48वें जन्मदिन पर कांग्रेसी नेता व एमएलसी का ये पोस्ट बना चर्चा का विषय }

लखनऊ। भारतीय जनता पार्टी से लगातार पटखनी खा रही देश की सबसे पुरानी और सबसे लंबे समय तक देश की सत्ता का सुख पाने वाली पार्टी कांग्रेस में नई जान फूंकने के लिए पार्टी के नए राष्ट्रीय अध्यक्ष राहुल गांधी अब नए रास्ते पर चल पड़े हैं। गुजरात के विधानसभा चुनावों में मंदिर मंदिर मत्था टेकने के बाद भाजपा और प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी को बीते चार सालों में पहली चुनौती देने में सफल रहे राहुल गांधी को अब देश की…
Loading...