मनमोहन सरकार में 3 बार सर्जिकल स्ट्राइक हुई, लेकिन मोदी की तरह नहीं लिया श्रेय : राहुल

मनमोहन सरकार में 3 बार सर्जिकल स्ट्राइक हुई, लेकिन मोदी की तरह नहीं लिया श्रेय : राहुल
मनमोहन सरकार में 3 बार सर्जिकल स्ट्राइक हुई, लेकिन मोदी की तरह प्रचार नहीं किया: राहुल

जयपुर। राजस्थान विधानसभा चुनाव से पहले भारतीय जनता पार्टी (बीजेपी) और कांग्रेस के एक-दूसरे पर हमले जारी हैं। एक चुनावी कार्यक्रम में राहुल गांधी ने कहा कि पीएम मोदी ने इस कार्रवाई का श्रेय लेने के लिए सर्जिकल स्ट्राइक को राजनीतिक हथियार में बदल दिया, जबकि यह शुद्ध रूप से सेना का फैसला था। राहुल गांधी ने यहां प्रोफेशनल्स के सवालों का जवाब दे रहे थे।

Rahul Gandhi Targeted Pm Narendra Modi During Interaction With Business Community Udaipur :

उन्होंने एक सवाल के जवाब में कहा, ‘क्या आपको पता है कि पीएम मोदी की तरह, मनमोहन सिंह ने भी तीन बार सर्जिकल स्ट्राइक करवाई?. सेना पीएम मनमोहन सिंह के पास आई और कहा कि वे पाकिस्तान ने जो कुछ किया है, उसके मुंहतोड़ जवाब देना चाहते हैं। साथ ही उन्होंने ये भी कहा कि किन्हीं खास वजहों से इस बात को सीक्रेट भी रखना चाहते हैं।’

राहुल ने आगे कहा, “असल में पीएम मोदी सेना के अधिकार क्षेत्र में चले गए और उनकी सर्जिकल स्ट्राइक को आकार दिया। उन्होंने, इस सर्जिकल स्ट्राइक को एक राजनीतिक हथियार बना दिया जबकि असल में यह सेना का फैसला था।’

राहुल ने कहा कि असल में सेना की पसंद ये होती कि इस बारे में किसी को पता न चले। जबकि पीएम मोदी ने ये नहीं किया। उस वक्त उत्तर प्रदेश में चुनाव चल रहे थे तो पीएम मोदी ने हार के डर से सेना की कार्रवाई को राजनीतिक हथियार की तरह इस्तेमाल किया, ताकि चुनाव जीत सकें।

घोटाला है नोटबंदी : राहुल

राहुल ने कहा- “नोटबंदी एक स्कैम है। इसका लक्ष्य छोटे उद्योगों को खत्म करना था। चाहे नोटबंदी हो या गब्बर सिंह टैक्स, इनका लक्ष्य बड़ी-बड़ी कंपनियों का रास्ता खोलना था। इसका मकसद था कि हिंदुस्तान के बड़े 15 उद्योगपतियों को मौका दिया जाए।”

इस दौरान एक सवाल के जवाब में राहुल ने कहा कि आयुष्मान भारत योजना में एक समस्या है। जितना पैसा पब्लिक हेल्थ केयर में जाना चाहिए, उतना जाता नहीं है। इसका ठेका अनिल अंबानी जैसे लोगों को दिया गया। अगर यूजर को किसी से इंश्योरेंस लेना है, तो अनिल अंबानी से ही लेना पड़ेगा।

जयपुर। राजस्थान विधानसभा चुनाव से पहले भारतीय जनता पार्टी (बीजेपी) और कांग्रेस के एक-दूसरे पर हमले जारी हैं। एक चुनावी कार्यक्रम में राहुल गांधी ने कहा कि पीएम मोदी ने इस कार्रवाई का श्रेय लेने के लिए सर्जिकल स्ट्राइक को राजनीतिक हथियार में बदल दिया, जबकि यह शुद्ध रूप से सेना का फैसला था। राहुल गांधी ने यहां प्रोफेशनल्स के सवालों का जवाब दे रहे थे।उन्होंने एक सवाल के जवाब में कहा, 'क्या आपको पता है कि पीएम मोदी की तरह, मनमोहन सिंह ने भी तीन बार सर्जिकल स्ट्राइक करवाई?. सेना पीएम मनमोहन सिंह के पास आई और कहा कि वे पाकिस्तान ने जो कुछ किया है, उसके मुंहतोड़ जवाब देना चाहते हैं। साथ ही उन्होंने ये भी कहा कि किन्हीं खास वजहों से इस बात को सीक्रेट भी रखना चाहते हैं।'राहुल ने आगे कहा, "असल में पीएम मोदी सेना के अधिकार क्षेत्र में चले गए और उनकी सर्जिकल स्ट्राइक को आकार दिया। उन्होंने, इस सर्जिकल स्ट्राइक को एक राजनीतिक हथियार बना दिया जबकि असल में यह सेना का फैसला था।'राहुल ने कहा कि असल में सेना की पसंद ये होती कि इस बारे में किसी को पता न चले। जबकि पीएम मोदी ने ये नहीं किया। उस वक्त उत्तर प्रदेश में चुनाव चल रहे थे तो पीएम मोदी ने हार के डर से सेना की कार्रवाई को राजनीतिक हथियार की तरह इस्तेमाल किया, ताकि चुनाव जीत सकें।

घोटाला है नोटबंदी : राहुल

राहुल ने कहा- "नोटबंदी एक स्कैम है। इसका लक्ष्य छोटे उद्योगों को खत्म करना था। चाहे नोटबंदी हो या गब्बर सिंह टैक्स, इनका लक्ष्य बड़ी-बड़ी कंपनियों का रास्ता खोलना था। इसका मकसद था कि हिंदुस्तान के बड़े 15 उद्योगपतियों को मौका दिया जाए।"इस दौरान एक सवाल के जवाब में राहुल ने कहा कि आयुष्मान भारत योजना में एक समस्या है। जितना पैसा पब्लिक हेल्थ केयर में जाना चाहिए, उतना जाता नहीं है। इसका ठेका अनिल अंबानी जैसे लोगों को दिया गया। अगर यूजर को किसी से इंश्योरेंस लेना है, तो अनिल अंबानी से ही लेना पड़ेगा।