राहुल के SPG गार्ड्स ने चेक किया विमान का ईंधन और पाइलेट का लाइसेंस

नई दिल्ली: राजधानी नई दिल्ली से वाराणसी जा रहे कांग्रेस उपाध्यक्ष राहुल गांधी के एसपीजी गार्ड्स ने कमर्शियल हवाई जहाज के पायलटों का पहले लाइसेंस चेक किया उसके बाद विमान के ईंधन की गुणवत्ता की जांच करवाई। जब विश्वास हो गया तब जाके विमान में पैर रखा। इस झंझट में यह विमान अपने निर्धारित समय से 45 मिनट लेट उड़ान भर सका।

सूत्रों के मुताबिक, यह घटना 14 सितम्बर की है जब राहुल गांधी अपनी किसान यात्रा के लिए जा रहे थे। इस दौरान उन्होंने इंडिगो की 6 ई 308 फ्लाइट पकड़ी। क्रू के एक सदस्य का कहना था कि राहुल गांधी के विशेष सुरक्षा समूह (एसपीजी) गार्ड ने पायलट से लाइसेंस की मांग की। लाइसेंस चेक करवाने के बाद एसपीजी गार्ड्स ने ईधन की गुणवत्ता की जाँच करने को कहा। सिविल एविएशन के डायरेक्टोरेट जनरल ने उन लोगों की इस मांग को भी पूरा किया। विमान तभी उड़ा जब उसके ईंधन के बारे में सुरक्षाकर्मी को विश्वास हो गया कि उसमें कोई मिलावट नहीं है। इन सारे झंझटों में फ्लाइट 45 मिनट देर से वाराणसी के लिए रवाना हुई।




टिप्पणी से किया इनकार

एसपीजी का मामला होने के कारण इंडिगो ने इस पर कुछ भी बोलने से इनकार कर दिया है। इंडिगो के प्रवक्ता ने कहा है कि ये मामला सवेदनशील है इसके बारे में ज्यादा जानकारी देना हम लोगों के लिए मुश्किल है। हालांकि एयरलाइन्स और सिविल एविएशन अथॉरिटी इस बात को लेकर हैरान है लेकिन साथ ही उन्होंने यह भी कहा कि वीआईपी की सुरक्षा के लिए प्रोटोकॉल है जिन्हें पूरा करना हमारा काम है जिसे हमने पूरा किया।




इंडिगो के एक अन्य अधिकारी का कहना था कि वीआईपी जब कमर्शियल फ्लाइट पकड़ते हैं तो उन्हें ये ध्यान रखना चहिये कि यह एक कमर्शियल फ्लाइट है और फ्लाइट लेट न हो क्योंकि ऐसा होने पर यात्री हूटिंग करने लगते हैं। दरअसल ऐसा कई बार देखा गया है की किसी वीआईपी की वजह से फ्लाइट लेट होने पर यात्रियों ने इसका विरोध किया है।