राहुल ने कहा- भारत में सहिष्णुता का अभाव’ BJP बोली- देश की छवि कर रहे खराब, माफी मांगें

rahul gandhi
'मन की बात' कार्यक्रम पर राहुल गांधी ने कसा तंज, कहा-कब होगी राष्ट्र रक्षा और सुरक्षा की बात?

नई दिल्ली: भारत में सहिष्णुता का अभाव होने संबंधी राहुल गांधी की टिप्पणी पर पलटवार करते हुए भाजपा ने शुक्रवार को कहा कि कोरोना वायरस संकट के समय कांग्रेस के पूर्व अध्यक्ष, विदेशियों से बातचीत के दौरान जिस तरह की भाषा बोल रहे हैं, उससे भारत की छवि खराब हो रही है और उन्हें देश से माफी मांगनी चाहिए. भाजपा के राष्ट्रीय प्रवक्ता शाहनवाज हुसैन ने अपने बयान में कहा, ‘‘ कांग्रेस नेता राहुल गांधी कब तक भारत को इस तरह से बदनाम करते रहेंगे ? वे कोरोना वायरस संकट के दौरान विदेशियों सहित अन्य लोगों से बात करते हैं और जिस तरह की भाषा का उपयोग करते हैं…वह दुर्भाग्यपूर्ण है.”

Rahul Said Lack Of Tolerance In India Bjp Bid Spoiling The Image Of The Country Apologize :

उन्होंने कहा कि अमेरिका के पूर्व राजनयिक निकोलस बर्न्स से बातचीत के दौरान राहुल ने जिस तरह का संदेश देने का प्रयास किया, उससे भारत की छवि खराब हुई है. हुसैन ने कहा कि उनका (राहुल) यह कहना कि भारत में सहिष्णुता खत्म हो रही है… यह गलत है और इससे दुनिया में गलत संदेश जाता है.

भाजपा प्रवक्ता ने कहा, ‘‘ आज भी भारत में सर्व धर्म सम भाव है. आज भी भारत में जितनी एकता और एकजुटता है, वह पूरी दुनिया में मिसाल है. ” राहुल गांधी पर निशाना साधते हुए हुसैन ने कहा कि अमेरिका में गोरे और काले के बीच तनाव की तुलना भारत से करना … अत्यंत दुर्भाग्यपूर्ण है. उन्होंने कहा, ‘‘ राहुल गांधी को इसके लिये देश से माफी मांगनी चाहिए .”

भाजपा नेता ने कहा कि अपने देश को इस तरह से बदनाम नहीं करना चाहिए. जिस तरह की भाषा राहुल ने बोली है, उससे देश की छवि खराब हुई है. गौरतलब है कि राहुल गांधी ने निकोलस बर्न्स से बातचीत के दौरान कहा कि अमेरिका और भारत एक जैसे हैं क्योंकि हम सहिष्णु हैं. हमारा डीएनए सहिष्णु माना जाता है, हम नये विचारों को स्वीकार करने वाले हैं. लेकिन आश्चर्य की बात यह है कि वो अब गायब हो रहा है. यह काफी दुखद है कि मैं उस स्तर की सहिष्णुता को नहीं देखता जो मैं पहले देखता था . ये दोनों ही देशों (भारत और अमेरिका) में नहीं दिख रही.

नई दिल्ली: भारत में सहिष्णुता का अभाव होने संबंधी राहुल गांधी की टिप्पणी पर पलटवार करते हुए भाजपा ने शुक्रवार को कहा कि कोरोना वायरस संकट के समय कांग्रेस के पूर्व अध्यक्ष, विदेशियों से बातचीत के दौरान जिस तरह की भाषा बोल रहे हैं, उससे भारत की छवि खराब हो रही है और उन्हें देश से माफी मांगनी चाहिए. भाजपा के राष्ट्रीय प्रवक्ता शाहनवाज हुसैन ने अपने बयान में कहा, ‘‘ कांग्रेस नेता राहुल गांधी कब तक भारत को इस तरह से बदनाम करते रहेंगे ? वे कोरोना वायरस संकट के दौरान विदेशियों सहित अन्य लोगों से बात करते हैं और जिस तरह की भाषा का उपयोग करते हैं...वह दुर्भाग्यपूर्ण है.'' उन्होंने कहा कि अमेरिका के पूर्व राजनयिक निकोलस बर्न्स से बातचीत के दौरान राहुल ने जिस तरह का संदेश देने का प्रयास किया, उससे भारत की छवि खराब हुई है. हुसैन ने कहा कि उनका (राहुल) यह कहना कि भारत में सहिष्णुता खत्म हो रही है... यह गलत है और इससे दुनिया में गलत संदेश जाता है. भाजपा प्रवक्ता ने कहा, ‘‘ आज भी भारत में सर्व धर्म सम भाव है. आज भी भारत में जितनी एकता और एकजुटता है, वह पूरी दुनिया में मिसाल है. '' राहुल गांधी पर निशाना साधते हुए हुसैन ने कहा कि अमेरिका में गोरे और काले के बीच तनाव की तुलना भारत से करना ... अत्यंत दुर्भाग्यपूर्ण है. उन्होंने कहा, ‘‘ राहुल गांधी को इसके लिये देश से माफी मांगनी चाहिए .'' भाजपा नेता ने कहा कि अपने देश को इस तरह से बदनाम नहीं करना चाहिए. जिस तरह की भाषा राहुल ने बोली है, उससे देश की छवि खराब हुई है. गौरतलब है कि राहुल गांधी ने निकोलस बर्न्स से बातचीत के दौरान कहा कि अमेरिका और भारत एक जैसे हैं क्योंकि हम सहिष्णु हैं. हमारा डीएनए सहिष्णु माना जाता है, हम नये विचारों को स्वीकार करने वाले हैं. लेकिन आश्चर्य की बात यह है कि वो अब गायब हो रहा है. यह काफी दुखद है कि मैं उस स्तर की सहिष्णुता को नहीं देखता जो मैं पहले देखता था . ये दोनों ही देशों (भारत और अमेरिका) में नहीं दिख रही.