राहुल का तंज- मोदी बजट के लिए पूंजीपति दोस्तों से तो मिल सकते हैं, लेकिन छोटे कारोबारियों की परवाह नहीं

rahul gandhi
राहुल का तंज- मोदी बजट के लिए पूंजीपति दोस्तों से तो मिल सकते हैं, छोटे कारोबारियों की परवाह नहीं

नई दिल्ली। इस साल का बजट पेश होने से पहले पीएम नरेंद्र मोदी ने देश के बड़े उद्योगपतियों से बैठक कर सुझाव मांगे। इस बैठक पर कांग्रेस के पूर्व अध्यक्ष राहुल गांधी ने निशाना साधते हुए इसे सूट-बूट बजट करार दिया। उन्होंने ट्विटर पर लिखा कि प्रधानमंत्री को किसानों और छोटे कारोबारियों की कोई चिंता नहीं है।    

Rahuls Taunt Modi Can Meet The Capitalist Friends For The Budget Small Businessmen Do Not Care :

कांग्रेस नेता राहुल गांधी ने अपने ट्वीट में लिखा, ‘मोदी की सबसे व्यापक बजट पर चर्चा सिर्फ कुछ अमीर दोस्तों के साथ ही सीमित है। देश के किसान, युवा, महिला, सरकार की राय लेने में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की कोई इच्छा नहीं है. इसी के साथ राहुल गांधी ने #SuitBootBudget का भी इस्तेमाल किया।

 

आपको बता दें कि एक फरवरी को मोदी सरकार 2.0 का बजट पेश किया जाएगा। इस बार वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण बजट पेश करेंगी जो दूसरे कार्यकाल का पहला पूर्ण बजट होगा।

मोदी का फोकस 5 ट्रिलियन डॉलर की इकोनॉमी के लक्ष्य पर

गुरुवार को बैठक में मोदी का फोकस 5 ट्रिलियन डॉलर की इकोनॉमी के लक्ष्य पर था। उन्होंने अर्थशास्त्रियों से खपत और मांग बढ़ाने के उपायों पर सुझाव मांगे। बैठक में गृह मंत्री अमित शाह, सड़क परिवहन एवं राजमार्ग मंत्री नितिन गडकरी और वाणिज्य मंत्री पीयूष गोयल भी मौजूद थे।

बैठक में निर्मला सीतारमण मौजूद नहीं थी

बैठक में वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण की गैरमौजूदगी चौंकाने वाली थी। जब देश के प्रमुख अर्थशास्त्री इकोनॉमी और बजट पर चर्चा कर रहे थे, तब वित्त मंत्री भाजपा मुख्यालय में पार्टी कार्यकर्ताओं के साथ बजट पूर्व चर्चा कर रही थीं। कांग्रेस ने भाजपा पर निशाना साधते हुए गुरुवार को ट्वीट किया था कि एक सुझाव है। अगली बजट मीटिंग में वित्त मंत्री को बुलाने पर जरूर विचार करना।

 

नई दिल्ली। इस साल का बजट पेश होने से पहले पीएम नरेंद्र मोदी ने देश के बड़े उद्योगपतियों से बैठक कर सुझाव मांगे। इस बैठक पर कांग्रेस के पूर्व अध्यक्ष राहुल गांधी ने निशाना साधते हुए इसे सूट-बूट बजट करार दिया। उन्होंने ट्विटर पर लिखा कि प्रधानमंत्री को किसानों और छोटे कारोबारियों की कोई चिंता नहीं है।     कांग्रेस नेता राहुल गांधी ने अपने ट्वीट में लिखा, ‘मोदी की सबसे व्यापक बजट पर चर्चा सिर्फ कुछ अमीर दोस्तों के साथ ही सीमित है। देश के किसान, युवा, महिला, सरकार की राय लेने में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की कोई इच्छा नहीं है. इसी के साथ राहुल गांधी ने #SuitBootBudget का भी इस्तेमाल किया।   आपको बता दें कि एक फरवरी को मोदी सरकार 2.0 का बजट पेश किया जाएगा। इस बार वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण बजट पेश करेंगी जो दूसरे कार्यकाल का पहला पूर्ण बजट होगा। मोदी का फोकस 5 ट्रिलियन डॉलर की इकोनॉमी के लक्ष्य पर गुरुवार को बैठक में मोदी का फोकस 5 ट्रिलियन डॉलर की इकोनॉमी के लक्ष्य पर था। उन्होंने अर्थशास्त्रियों से खपत और मांग बढ़ाने के उपायों पर सुझाव मांगे। बैठक में गृह मंत्री अमित शाह, सड़क परिवहन एवं राजमार्ग मंत्री नितिन गडकरी और वाणिज्य मंत्री पीयूष गोयल भी मौजूद थे। बैठक में निर्मला सीतारमण मौजूद नहीं थी बैठक में वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण की गैरमौजूदगी चौंकाने वाली थी। जब देश के प्रमुख अर्थशास्त्री इकोनॉमी और बजट पर चर्चा कर रहे थे, तब वित्त मंत्री भाजपा मुख्यालय में पार्टी कार्यकर्ताओं के साथ बजट पूर्व चर्चा कर रही थीं। कांग्रेस ने भाजपा पर निशाना साधते हुए गुरुवार को ट्वीट किया था कि एक सुझाव है। अगली बजट मीटिंग में वित्त मंत्री को बुलाने पर जरूर विचार करना।