ब्रजेश ठाकुर के पास मिली पर्ची में मंत्री समेत कई रसूखदारों के नंबर

ब्रजेश ठाकुर के पास मिली पर्ची में मंत्री समेत कई रसूखदारों के नंबर
ब्रजेश ठाकुर के पास मिली पर्ची में मंत्री समेत कई रसूखदारों के नंबर

नई दिल्ली। बिहार में 15 अगस्त के पहले हर साल जेलों में छापेमारी की जाती है। शनिवार को राज्य के हर ज़िला मुख्यालय में जेलों में छापेमारी की गयी। लेकिन इन छापों का सबसे चौंकाने वाला नतीजा मुजफ्फरपुर जेल में छापे में मिला। यहां, जब जिला अधिकारी और एसएसपी छापा मारने पहुंचे तब बालिका गृह रेप कांड का मुख्‍य आरोपी ब्रजेश ठाकुर मुलाकातियों से मिलने वाले एरिया में दिखा। तलाशी के दौरान बालिका गृह कांड के मुख्य आरोपी ब्रजेश ठाकुर के पास से दो पन्नों में करीब 40 लोगों के नाम और मोबाइल नंबर लिखे हुए थे।

Raid In Muzaffarpur Jail 40 Mobile Numbers Written On Paper Recovered From Brajesh Thakur :

मीडिया रिपोर्ट के अनुसार, इसमें कई प्रभावी लोगों के नाम शामिल हैं। जिसमें एक मंत्री के नाम के आगे एक मोबाइल नंबर लिखा होने की बात कही जा रही है। सीबीआइ अब इन नंबरों को जांच में शामिल कर सकती है। फिलहाल, सभी कागजात जब्त कर सील कर दिये गये हैं। लेकिन, इस छापेमारी के बाद प्रशासन ब्रजेश ठाकुर की बीमारी को बहाना मान रहा है। उम्मीद की जा रही है कि अब मेडिकल बोर्ड का गठन कर उसे वार्ड में शिफ्ट किया जा सकता है। इसके अलावा कुछ और कागजात मिले हैं जिससे लग रहा है कि वो अपने वकीलों के साथ बैठ कर कैसे लोगों को इस मामले में घसीटना है, इसकी रणनीति बना रहा है।

इस बीच जांच एजेंसी सीबीआई ने शनिवार को ब्रजेश ठाकुर के मुजफ्फरपुर के घर, बाल गृह और प्रेस पर छापेमारी की और उनके बेटे से पूछताछ की। केंद्रीय जांच ब्यूरो (सीबीआई) की टीम ने सेंट्रल फॉरेसिंक साइंस लेबोरेटरी के अधिकारियों के साथ मिलकर शनिवार को बिहार के मुजफ्फरपुर जिले के बालिका गृह की तलाशी ली, जहां 34 नाबालिग लड़कियों के साथ दुष्कर्म का मामला उजागर हुआ था। मामले की जांच में तेजी लाने के लिए सीएफएसएल की टीम ने वैज्ञानिक सबूत एकत्र किए।

नई दिल्ली। बिहार में 15 अगस्त के पहले हर साल जेलों में छापेमारी की जाती है। शनिवार को राज्य के हर ज़िला मुख्यालय में जेलों में छापेमारी की गयी। लेकिन इन छापों का सबसे चौंकाने वाला नतीजा मुजफ्फरपुर जेल में छापे में मिला। यहां, जब जिला अधिकारी और एसएसपी छापा मारने पहुंचे तब बालिका गृह रेप कांड का मुख्‍य आरोपी ब्रजेश ठाकुर मुलाकातियों से मिलने वाले एरिया में दिखा। तलाशी के दौरान बालिका गृह कांड के मुख्य आरोपी ब्रजेश ठाकुर के पास से दो पन्नों में करीब 40 लोगों के नाम और मोबाइल नंबर लिखे हुए थे।मीडिया रिपोर्ट के अनुसार, इसमें कई प्रभावी लोगों के नाम शामिल हैं। जिसमें एक मंत्री के नाम के आगे एक मोबाइल नंबर लिखा होने की बात कही जा रही है। सीबीआइ अब इन नंबरों को जांच में शामिल कर सकती है। फिलहाल, सभी कागजात जब्त कर सील कर दिये गये हैं। लेकिन, इस छापेमारी के बाद प्रशासन ब्रजेश ठाकुर की बीमारी को बहाना मान रहा है। उम्मीद की जा रही है कि अब मेडिकल बोर्ड का गठन कर उसे वार्ड में शिफ्ट किया जा सकता है। इसके अलावा कुछ और कागजात मिले हैं जिससे लग रहा है कि वो अपने वकीलों के साथ बैठ कर कैसे लोगों को इस मामले में घसीटना है, इसकी रणनीति बना रहा है।इस बीच जांच एजेंसी सीबीआई ने शनिवार को ब्रजेश ठाकुर के मुजफ्फरपुर के घर, बाल गृह और प्रेस पर छापेमारी की और उनके बेटे से पूछताछ की। केंद्रीय जांच ब्यूरो (सीबीआई) की टीम ने सेंट्रल फॉरेसिंक साइंस लेबोरेटरी के अधिकारियों के साथ मिलकर शनिवार को बिहार के मुजफ्फरपुर जिले के बालिका गृह की तलाशी ली, जहां 34 नाबालिग लड़कियों के साथ दुष्कर्म का मामला उजागर हुआ था। मामले की जांच में तेजी लाने के लिए सीएफएसएल की टीम ने वैज्ञानिक सबूत एकत्र किए।