मशहूर होटल ग्रुप के ठिकानों पर छापा, 1000 करोड़ रुपये के काले धन का पता लगा

tax
मशहूर होटल ग्रुप के ठिकानों पर छापा, 1000 करोड़ रुपये के काले धन का पता लगा

नई दिल्ली। आयकर विभाग ने देश और विदेश में लक्जरी होटल चलाने वाले एक बड़े ग्रुप पर छापेमारी की। छापेमारी में 35 करोड़ रुपये से अधिक की कर चोरी और विदेश में ग्रुप के एक हजार करोड़ रुपये की बेनामी संपत्तियों का पता चला है। यह ग्रुप देश-विदेश में ‘द ललित’ ब्रांड नाम से लग्जरी होटल चलाता है। दिल्ली में भी इसका एक होटल है।    

Raids On Famous Hotel Group Bases Black Money Worth Rs 1000 Crore Detected :

आयकर विभाग ने ग्रुप के दिल्ली-एनसीआर में 13 ठिकानों पर छापेमारी की थी। आयकर विभाग के मुताबिक, ये ग्रुप काफी वक्त से रडार पर था। जानकारी मिली थी कि विदेशों में हजारों करोड़ की काले धन की संपत्ति गैर कानूनी ढंग से जमा की गई थी। आयकर विभाग को ये भी जानकारी मिली रही है कि होटल चलाने वाले इस बड़े ग्रुप ने तकरीबन 35 करोड़ रुपये की इनकम टैक्स की चोरी भी की है।

छापेमारी के दौरान 23 करोड़ की ज्वेलरी, 71 लाख रुपये कैश और लगभग सवा करोड़ रुपये की महंगी घड़ियां बरामद हुईं। इनकम टैक्स डिपार्टमेंट को जांच में पता चला है कि इस ग्रुप ने लंदन, दुबई समेत विदेशों में जमीन खरीदी है। आयकर विभाग ने दावा किया कि आने वाले दिनों में इस ग्रुप के खिलाफ ब्लैक मनी एक्ट के तहत एक्शन लिया जा सकता है। फिलहाल 1 हजार करोड़ के काले धन का पता छापेमारी में चला है।

इस ग्रुप ने 20वीं सदी के आखिरी दशक से ही टैक्स हैवेन समझे जाने वाले देशों में ट्रस्ट बना कर अपनी काली कमाई को ठिकाने लगाना शुरू कर दिया था। ये ट्रस्ट इस तरह से विदेशों में पैसा जमा कराते हैं कि इसके असली मालिक या प्रमोटर का पता दशकों तक नहीं लगता है। कई देशों में निवेश होने और असली प्रमोटर को छिपाने के कई रास्ते आजमाए गए हैं।  

ग्रुप के प्रमुख प्रमोटर ने अपने एक करीबी रिश्तेदार को अंतरराष्ट्रीय स्तर पर इस ट्रस्ट मुखिया बना रखा है। वित्त मंत्रालय के अधिकारियों के मुताबिक अब इस समूह के काले कारनामों पर से पर्दा हट गया है। ग्रुप की विदेश में एक हजार से अधिक की बेनामी संपत्तियों का पता चला है। इनमें ब्रिटेन में एक होटल में निवेश, ब्रिटेन के साथ ही संयुक्त अरब अमीरात में अचल संपत्तियों में निवेश और बैंक में जमा धनराशि शामिल है।  

नई दिल्ली। आयकर विभाग ने देश और विदेश में लक्जरी होटल चलाने वाले एक बड़े ग्रुप पर छापेमारी की। छापेमारी में 35 करोड़ रुपये से अधिक की कर चोरी और विदेश में ग्रुप के एक हजार करोड़ रुपये की बेनामी संपत्तियों का पता चला है। यह ग्रुप देश-विदेश में 'द ललित' ब्रांड नाम से लग्जरी होटल चलाता है। दिल्ली में भी इसका एक होटल है।     आयकर विभाग ने ग्रुप के दिल्ली-एनसीआर में 13 ठिकानों पर छापेमारी की थी। आयकर विभाग के मुताबिक, ये ग्रुप काफी वक्त से रडार पर था। जानकारी मिली थी कि विदेशों में हजारों करोड़ की काले धन की संपत्ति गैर कानूनी ढंग से जमा की गई थी। आयकर विभाग को ये भी जानकारी मिली रही है कि होटल चलाने वाले इस बड़े ग्रुप ने तकरीबन 35 करोड़ रुपये की इनकम टैक्स की चोरी भी की है। छापेमारी के दौरान 23 करोड़ की ज्वेलरी, 71 लाख रुपये कैश और लगभग सवा करोड़ रुपये की महंगी घड़ियां बरामद हुईं। इनकम टैक्स डिपार्टमेंट को जांच में पता चला है कि इस ग्रुप ने लंदन, दुबई समेत विदेशों में जमीन खरीदी है। आयकर विभाग ने दावा किया कि आने वाले दिनों में इस ग्रुप के खिलाफ ब्लैक मनी एक्ट के तहत एक्शन लिया जा सकता है। फिलहाल 1 हजार करोड़ के काले धन का पता छापेमारी में चला है। इस ग्रुप ने 20वीं सदी के आखिरी दशक से ही टैक्स हैवेन समझे जाने वाले देशों में ट्रस्ट बना कर अपनी काली कमाई को ठिकाने लगाना शुरू कर दिया था। ये ट्रस्ट इस तरह से विदेशों में पैसा जमा कराते हैं कि इसके असली मालिक या प्रमोटर का पता दशकों तक नहीं लगता है। कई देशों में निवेश होने और असली प्रमोटर को छिपाने के कई रास्ते आजमाए गए हैं।   ग्रुप के प्रमुख प्रमोटर ने अपने एक करीबी रिश्तेदार को अंतरराष्ट्रीय स्तर पर इस ट्रस्ट मुखिया बना रखा है। वित्त मंत्रालय के अधिकारियों के मुताबिक अब इस समूह के काले कारनामों पर से पर्दा हट गया है। ग्रुप की विदेश में एक हजार से अधिक की बेनामी संपत्तियों का पता चला है। इनमें ब्रिटेन में एक होटल में निवेश, ब्रिटेन के साथ ही संयुक्त अरब अमीरात में अचल संपत्तियों में निवेश और बैंक में जमा धनराशि शामिल है।