रेल मंत्री सुरेश प्रभु ने की इस्तीफे की पेशकश, PM मोदी बोले- इंतजार कीजिये

नई दिल्ली। रेल मंत्री सुरेश प्रभु ने यूपी में पांच दिनों के अंदर हुए दो रेल हादसों की नैतिक ज़िम्मेदारी लेते हुए ट्वीट कर कहा कि उन्होंने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी से मुलाकात की है, उनसे कहा कि वह दुर्घटनाओं की ‘पूरी नैतिक जिम्मेदारी’ लेते हैं। प्रभु के मुताबिक, प्रधानमंत्री ने उनसे ‘इंतजार’ करने को कहा है।

प्रभु ने लिखा, ‘मैं दुर्भाग्यपूर्ण हादसों से गहरे सदमे में हूं, जिनमें कई यात्रियों की जान गई और लोग जख्मी हुए हैं।’ उन्होने आगे लिखा, ‘मैंने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी से मुलाक़ात की और (इन हादसों की) पूरी ज़िम्मेदारी ली। प्रधानमंत्री ने मुझे इंतज़ार करने को कहा है।’

{ यह भी पढ़ें:- यूपी में हादसों की रेल: डिरेल हुई पैसेंजर ट्रेन, मालगाड़ी का इंजन पटरी से उतरा }


बता दें कि इससे पूर्व रेलवे बोर्ड के चेयरमैन एके मित्तल ने इस्तीफ़ा दिया है। चेयरमैन का इस्तीफ़ा अभी मंज़ूर नहीं हुआ है। रेल मंत्रालय ने इस्तीफा पीएमओ को भेजा है। उन्होंने निजी वजहों से पद छोड़ने की बात कही है। दो साल के एक्सटेंशन में उनका एक साल का कार्यकाल अभी बचा हुआ है।


पांच दिन में दो हादसे-

उत्तर प्रदेश के औरैया जिले में बुधवार देर रात कैफियत एक्सप्रेस के 10 डिब्बे पटरी से उतर गए। आजमगढ़ से दिल्ली आ रही इस ट्रेन के हादसे के शिकार होने के कारण कम से कम 74 लोग घायल हुए हैं। वहीं बीते 19 अगस्त को उत्कल एक्सप्रेस मुजफ्फरनगर के खतौली के पास दुर्घटनाग्रस्त हो गई थी, जिसमें 24 लोगों की मौत हो गई जबकि तकरीबन 150 लोग जख्मी हो गए। इस हादसे में रेल अधिकारियों की बड़ी लापरवाही सामने आई थी।रेलमंत्री ने इस मामले में रेलवे के कई वरिष्ठ अधिकारियों पर कार्रवाई की।