छोटे रेलवे स्टेशनों पर होंगी शादियां, आएगी बारात

नई दिल्ली। रेलवे ने गरीब तबके के लोगों के घरों में होने वाली शादियों और उनके खर्च को कम करने के लिए एक नया तरीका निकाला है। रेलवे उनकी शादी, विवाह और बारात के लिए अब स्टेशनों को किराये में देने पर विचार कर रही है। आपको जानकर हैरानी होगी की रेलवे जल्द ही स्टेशनों को किराये पर देने के फैसले पर मुहर लगा सकती है। ये किसी महानगर स्टेशनों पर संभव नहीं होगा बल्कि ऐसे स्टेशनों पर इस योजना को अमल में लाया जा सकता है जहां दिनभर में गिनी चुनी ट्रेनों ही गुजरतीं हैं और रेलवे के पास स्टेशन के अलावा बड़ा इंफ्रास्ट्रक्चर है।




रेलवे के एक अधिकारी के मुताबिक देश में ऐसे करीब 200 रेलवे स्टेशन है जहां से दिनभर में केवल 2-3 ट्रेने गुजरतीं हैं। यहां प्लेटफार्म के अलावा कई केबिन्स है जो हमेशा खाली रहते है। जिनके रख रखाव पर बड़ा खर्चा आता है। ऐसे स्टेशनों से आया कम है और खर्चे ज्यादा। जिससे रेलवे को घाटा हो रहा है। रेलवे अब इन स्टेशनों को कमाई का जरीया बनाने के लिए योजना बना चुकी है। इन स्टेशनों में से ज्यादातर ग्रामीण इलाकों में हैं, जहां शादी-विवाह या किसी दूसरे फंक्शन के लिए इन रेलवे स्टेशनों का इस्तेमाल किया जा सकता है। इससे जहां एक तरफ रेलवे को कमाई होगी तो वहीं दूसरी तरफ लोगों को बेहतर सुविधा मिल सकेगी।




प्रधानमंत्री मोदी ने रेल विकास शिविर के लिए दिए थे सुझाव

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने ग्रामीण क्षेत्रों में होने वाली शादियों को ध्यान में रखकर स्टेशनों पर बैंड बाजा बारात का आइडिया नवंबर में बुलाये गए रेल विकास शिविर में दिया था। प्रधानमंत्री का सुझाव था कि जहां ट्रेनों का आवागमन कम हो वहा रेलवे स्टेशनों को इस तरह से इस्तेमाल में लाया जाए। जिससे आम जनता को तो फायदा होगा ही साथ ही रेलवे की भी आमदनी बढ़ सकेगी।




प्रधानमंत्री के सुझाव को हकीकत में बदलने के लिए रेल मंत्रालय तैयार हो गया है। खासतौर पर स्टेशनों पर दी जानी वाली जगह का किराया तय करने समेत सुरक्षा से जुड़े नियम कायदे तय किये जा रहे हैं।

Loading...