1. हिन्दी समाचार
  2. देश
  3. रेलवे का बड़ा फैसला: अब हाई स्पीड ट्रेनों में नहीं होंगे स्लीपर कोच

रेलवे का बड़ा फैसला: अब हाई स्पीड ट्रेनों में नहीं होंगे स्लीपर कोच

Railways Big Decision Now High Speed Trains Will Not Have Sleeper Coachesrailways Big Decision Now High Speed Trains Will Not Have Sleeper Coaches

By शिव मौर्या 
Updated Date

नई दिल्ली। भारतीय रेलवे ने हाई स्पीड नेटवर्क अपग्रेड करने क लिए 130 किलोमीटर प्रति घंटे या इससे अधिक स्पीड के सभी ट्रेनों में केवल एसी कोच लगाने का फैसला लिया है। रविवार को रेल मंत्रालय ने इसकी घोषणा की है। इसमें कहा गया है कि अब ट्रेनों में कोई स्लीपर कोच नहीं होगा। मंत्रालय ने यह साफ किया कि इस फैसले का फर्क केवल हाई स्पीड ट्रेनों पर होगा और 110 किलोमीटर प्रति घंटे तक स्पीड वाली सभी मौजूदा मेल और एक्सप्रेस ट्रेनों में स्लीपर कोच पहले की तरह मौजूद रहेंगे।

पढ़ें :- हिंदू परिवार के 5 लोगों की पाकिस्तान में निर्मम हत्या, चाकू और कुल्हाड़ी से काटा गया गला

रेलवे के प्रवक्ता ने कहा, ”जहां भी ट्रेनों की स्पीड 130 किलोमीटर प्रति घंटे से अधिक है वहां एसी डिब्बे तकनीकी रूप से आवश्यक हैं। भारतीय रेलवे नेटवर्क को हाई स्पीड में अपग्रेड करने के लिए बड़े प्लान पर काम कर रहा है। स्वर्णिम चतुर्भुज और कर्ण रेखा पर ट्रैक को 130 किमी से 160 किमी/घंटे की स्पीड के लायक बनाया जा रहा है। केवल उन ट्रेनों में स्लीपर कोच के बदले एसी कोच लगाए जाएंगे जिनकी स्पीड 130/160 किलोमीटर प्रति घंटा होगी।

कुछ गलियारों की गति क्षमता पहले ही 130 किमी प्रति घंटे पर अपग्रेड हो चुकी है। हवा और मौसम के फैक्टर ये डिमांड करते हैं कि हाई स्पीड ट्रेनों में केवल विशेष प्रकार के कोच लगें।” इस समय अधिकतर मेल और एक्सप्रेस ट्रेनों की अधिकतम स्पीड 110 किलोमीटर प्रति घंटा है। राजधानी, शताब्दी और दुरंतो जैसी ट्रेनों 120 किलोमीटर प्रतिघंटे तक की स्पीड से दौड़ती हैं। इन ट्रेनों के रैक 130 किलोमीटर प्रति घंटे तक की स्पीड से दौड़ने के लिए फिट हैं।

 

पढ़ें :- महिला सांसद को सांस लेने में तकलीफ की खबर, एमपी भाजपा से है लोकसभा सदस्य

इन टॉपिक्स पर और पढ़ें:
Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करे...