रायपुर: CM भूपेश बघेल उतरे सड़कों पर, जरूरी चीजों और सब्जियों के दाम की ली जानकारी

baghel
रायपुर: CM भूपेश बघेल उतरे सड़कों पर, जरूरी चीजों और सब्जियों के दाम की ली जानकारी

रायपुर। भारत में कोरोना के संक्रमित मरीजो की संख्या तेजी के सा​थ बढ़ रही है वहीं देश को 14 अप्रैल तक लॉक डाउन किया गया है। सोशल मीडिया पर लगातार लोगों की परेशानियो के वीडियो वायरल हो रहे हैं। कहीं सब्जी की दिक्कत है तो कहीं जरूरी समान की, यही नही कहीं कहीं दुकानदार लोगों की मजबूरियों का फायदा उठाकर मनमाने दामों में सामान बेंच रहे हैं। इन्ही सब का जायजा लेने के लिए आज छत्तीसगढ़ के मुख्यमंत्री भूपेश बघेल रायपुर की सड़कों पर निकले।

Raipur Cm Bhupesh Baghel Landed On The Roads Information About Prices Of Essential Commodities And Vegetables :

छत्तीसगढ़ के मुख्यमंत्री भूपेश बघेल ने इस दौरान आवश्यक वस्तुओं, खाद्यान्न एवं सब्जियों की उचित मूल्य में उपलब्धता का जायजा लिया। इस दौरान वे इंडोर स्टेडियम ओर आउटडोर स्टेडियम भी गए। उन्होने रावण भाटा स्थित नए बस स्टैंड का भी जायजा लिया। इसके साथ ही सब्जी विक्रेताओं से बातचीत की और विस्तृत जानकारी भी दी। उनके साथ वरिष्ठ अधिकारी भी मौजूद थे। यहां से मुख्यमंत्री बूढा तालाब के पास इंडोर स्टेडियम में खाद्यान्न आपूर्ति के लिए बनाए गए कंट्रोल रूम भी पंहुचे।

इस दौरान मुख्यमंत्री बघेल ने कहा कि मुश्किल होता है घरों में रहना लेकिन हमें अपनी जिम्मेदारी समझनी होगी। उन्होंने लोगो से कहा कि अति आवश्यक होने पर ही घर से बाहर निकलें, अन्यथा अपने घरों में रहे। राज्य सरकार आम जनता तथा जरूरतमंद लोगों को मदद और राहत पहुंचाने दिनरात जुटी हुई है।

यही नही मुख्यमंत्री ने प्रदेश के नगर निगम के महापौरों से भी चर्चा की। इस दोरान उन्होने नगरीय क्षेत्रों में कोरोना वायरस (कोविड-19) के संक्रमण से बचाव के लिए लागू लॉकडाउन के दौरान किए जा रहे कार्यों की जानकारी ली। उन्होंने कहा कि लॉकडाउन का कड़ाई से पालन हो और साफ-सफाई पर विशेष ध्यान दिया जाना चाहिए। बघेल ने चर्चा में कहा कि नगरीय क्षेत्रों में आवश्वक सेवाएं सतत रूप से बनी रहे। इस दौरान साफ-सफाई और स्वच्छता का विशेष ध्यान रखें।

उन्होंने कहा कि गरीब परिवारों को लॉक डाउन के दौरान किसी प्रकार की दिक्कत न हो, उन्हें राशन आदि समय पर मिले। मुख्यमंत्री ने कहा कि नगरीय क्षेत्रों में पानी, बिजली और सफाई से जुड़े कर्मचारी 24 घंटे उपलब्ध रहें। नगरीय क्षेत्रों में कंट्रोल रूम भी नियमित रूप से कार्यरत रहें, असहाय और जरूरत मंदों को राशन की दिक्कत नहीं होनी चाहिए।

रायपुर। भारत में कोरोना के संक्रमित मरीजो की संख्या तेजी के सा​थ बढ़ रही है वहीं देश को 14 अप्रैल तक लॉक डाउन किया गया है। सोशल मीडिया पर लगातार लोगों की परेशानियो के वीडियो वायरल हो रहे हैं। कहीं सब्जी की दिक्कत है तो कहीं जरूरी समान की, यही नही कहीं कहीं दुकानदार लोगों की मजबूरियों का फायदा उठाकर मनमाने दामों में सामान बेंच रहे हैं। इन्ही सब का जायजा लेने के लिए आज छत्तीसगढ़ के मुख्यमंत्री भूपेश बघेल रायपुर की सड़कों पर निकले। छत्तीसगढ़ के मुख्यमंत्री भूपेश बघेल ने इस दौरान आवश्यक वस्तुओं, खाद्यान्न एवं सब्जियों की उचित मूल्य में उपलब्धता का जायजा लिया। इस दौरान वे इंडोर स्टेडियम ओर आउटडोर स्टेडियम भी गए। उन्होने रावण भाटा स्थित नए बस स्टैंड का भी जायजा लिया। इसके साथ ही सब्जी विक्रेताओं से बातचीत की और विस्तृत जानकारी भी दी। उनके साथ वरिष्ठ अधिकारी भी मौजूद थे। यहां से मुख्यमंत्री बूढा तालाब के पास इंडोर स्टेडियम में खाद्यान्न आपूर्ति के लिए बनाए गए कंट्रोल रूम भी पंहुचे। इस दौरान मुख्यमंत्री बघेल ने कहा कि मुश्किल होता है घरों में रहना लेकिन हमें अपनी जिम्मेदारी समझनी होगी। उन्होंने लोगो से कहा कि अति आवश्यक होने पर ही घर से बाहर निकलें, अन्यथा अपने घरों में रहे। राज्य सरकार आम जनता तथा जरूरतमंद लोगों को मदद और राहत पहुंचाने दिनरात जुटी हुई है। यही नही मुख्यमंत्री ने प्रदेश के नगर निगम के महापौरों से भी चर्चा की। इस दोरान उन्होने नगरीय क्षेत्रों में कोरोना वायरस (कोविड-19) के संक्रमण से बचाव के लिए लागू लॉकडाउन के दौरान किए जा रहे कार्यों की जानकारी ली। उन्होंने कहा कि लॉकडाउन का कड़ाई से पालन हो और साफ-सफाई पर विशेष ध्यान दिया जाना चाहिए। बघेल ने चर्चा में कहा कि नगरीय क्षेत्रों में आवश्वक सेवाएं सतत रूप से बनी रहे। इस दौरान साफ-सफाई और स्वच्छता का विशेष ध्यान रखें। उन्होंने कहा कि गरीब परिवारों को लॉक डाउन के दौरान किसी प्रकार की दिक्कत न हो, उन्हें राशन आदि समय पर मिले। मुख्यमंत्री ने कहा कि नगरीय क्षेत्रों में पानी, बिजली और सफाई से जुड़े कर्मचारी 24 घंटे उपलब्ध रहें। नगरीय क्षेत्रों में कंट्रोल रूम भी नियमित रूप से कार्यरत रहें, असहाय और जरूरत मंदों को राशन की दिक्कत नहीं होनी चाहिए।