1. हिन्दी समाचार
  2. राजस्थान: पाकिस्तान से आए आठ शरणार्थियों को दी गई भारत की नागरिकता

राजस्थान: पाकिस्तान से आए आठ शरणार्थियों को दी गई भारत की नागरिकता

Rajasthan India Granted Citizenship To Eight Refugees From Pakistan

By रवि तिवारी 
Updated Date

नई दिल्ली। राजस्थान के कोटा में पाकिस्तान से आए आठ लोगों को नए साल से पहले ही उन्हें इसका तोहफा मिल गया। कोटा के जिला कलेक्टर ओम प्रकाश कसेरा ने बताया कि ये लोग पाकिस्तान से प्रताड़ित होकर 2000 में भारत आए थे और राजस्थान के कोटा में रह रहे थे। प्रदेश सरकार के गृह विभाग के आदेश के तहत इन 8 लोगों को सारी कागजी कार्रवाई के बाद नागरिकता दी गई है।  

पढ़ें :- 18 जनवरी का राशिफल: इन राशि के जातकों को आज रहना होगा सतर्क, जानिए अपनी राशि का हाल

जिला कलेक्टर ओमप्रकाश कसेरा ने इन पाकिस्तानी शरणार्थियों को नागरिकता प्रमाण पत्र दिया जो लगभग दो दशकों से कोटा में रह रहे हैं। ये सभी लोग सिंधी समुदाय के है और 90 के दशक में भारत आए थे। हालाँकि, ये लोग कोटा में बसने से पहले घुमंतू की तरह जीवनयापन कर रहे थे। जिला कलेक्टर ने कहा कि जिला प्रशासन ने आठ लोगों के लिए नागरिकता का आवेदन भेजा था। गृह मंत्रालय ने उनके आवेदन को मंजूरी दे दी और प्रमाण पत्र भेज दिया है, जिसे हमने उन लोगों को सौंप दिया है।  

नागरिकता मिलने के बाद लोगों की खुशी का ठिकाना नहीं रहा। उन्होंने कहा कि उन्हें गर्व है कि अब वह भारत के नागरिक हैं। मीडिया रिपोर्ट्स के अनुसार, पाकिस्तान के सिंध प्रांत से आए नागरिकों ने पिछले दिनों शिविर में आवेदन किया था, जिन्हें दस्तावेजों की पूर्ति के बाद नागरिकता दी गई।

‘नागरिकता’ को मिली नागरिकता

इससे पहले संशोधित नागरिकता कानून (सीएए) को लेकर देश के अलग-अलग हिस्सों में चल रहे विरोध प्रदर्शनों के बीच बीजेपी के नेतृत्व वाले उत्तरी दिल्ली नगर निगम (एनडीएमसी) ने सोमवार को राजधानी के पुनर्वास कॉलोनी में रहने वाले एक पाकिस्तानी हिंदू शरणार्थी की बेटी ‘नागरिकता’ को उसका जन्म प्रमाण पत्र सौंपा था।

पढ़ें :- विश्व के सबसे बड़े पर्यटन क्षेत्र के रूप में उभर रहा है केवड़िया: PM मोदी

बच्ची की दादी मीरा दास (40) ने पहले कहा था कि बच्ची का जन्म नौ दिसंबर को हुआ था और राज्यसभा में संशोधित नागरिकता विधेयक के पारित होने के बाद हमने इसका नाम ‘नागरिकता’ रखने का फैसला किया। बीते 11 दिसंबर को सीएबी (अब सीएए) को लोकसभा में पारित कर दिया गया था।  

Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करे...