‘लव जिहाद’ के नाम पर मुसलमान को ज़िंदा जलाया, वीडियो बना किया वायरल

murder
symbolic image

राजसमंद। राजस्‍थान के राजसमंद से एक सनसनीखेज घटना सामने आई है जहां एक युवक को जिंदा जला दिया गया है। आरोपी ने बकायदे युवक को जिंदा जलाते हुए वीडियो बना इसे वायरल किया है। वीडियो में दिखाई दे रहा है कि हत्यारोपी ने पहले उसे काटा और फिर पेट्रोल छिड़कर कर आग के हवाले कर दिया। जिसके बाद वह वीडियो के ज़िम्मेदारी भी लेता है। हैरानी की बात यह है की यह घटना राजस्थान के राजसमंद शहर में कलेक्टर दफ्तर से महज 600 मीटर की दूरी की है।

Rajasthan Man Burnt Alive Rajsamand Alleged Case Love Jihad :


आरोपी गिरफ्तार

इस मामले के सामने आने के बाद पूरे शहर में तनाव फ़ैल गया है। तनाव को देखते हुए पूरे जिले में इंटरनेट बंद किया गया है। वीडियो में नजर आ रहा बुजुर्ग 50 वर्षीय मोहम्मद भुट्टा बताया जा रहा है वहीं हमला करने वाले का नाम शंभूलाल रेगर बताया जा रहा है। आरोपी को पुलिस ने गिरफ्तार कर लिया है। शंभूलाल केलवा सर्किल से गिरफ्तार किया गया। पुलिस ने अपील किया है कि इस वीडियो को कम से कम शेयर किया जाए जिससे स्थिति तनावपूर्ण न बने।

कलेक्टर दफ्तर से महज 600 मीटर की दूरी की घटना
बता दें कि रोंगटे खड़े कर देने वाली ये घटना राजस्थान के राजसमंद शहर में कलेक्टर दफ्तर से महज 600 मीटर की दूरी पर हुई। इस हत्‍या के मामले में लव जिहाद का एंगल सामने आ रहा है। दरअसल, हत्‍या करने के बाद शंभूलाल ने लव जिहाद और देशभक्ति पर एक लंबा-चौड़ा भाषण भी दिया है। शंभूलाल ने वारदात की जगह पर तीन पेज का एक लेटर भी छोड़ा है।

लव जिहाद
शंभुलाल ने हत्या के वीडियो के अलावा दो और वीडियो शेयर किए हैं जिनमें से एक में वो मंदिर में हैं और हत्या की ज़िम्मेदारी ले रहे हैं जबकि दूसरे वीडियो में वो भगवा ध्वज के सामने बैठे हैं और ‘लव जिहाद’ और ‘इस्लामिक जिहाद’ के ख़िलाफ़ भाषण दे रहे हैं। पुलिस का कहना है कि अभियुक्त और मृतक मोहम्मद अफ़राज़ुल के बीच कोई झगड़ा या संबंध होने की अभी तक की जांच में पुष्टि नहीं हुई है। पुलिस के मुताबिक मृतक मोहम्मद अफराज़ुल पिछले 12 सालों से शहर में रह रहे थे। वो मूल रूप से बंगाल के रहने वाले थे और राजसमंद में रहकर मज़दूरी करते थे।

वीडियो शेयर न करने की अपील
पुलिस महानिरीक्षक आनंद श्रीवास्तव ने आम लोगों और मीडिया संस्थानों से वीडियो को शेयर न करने की अपील की है। उन्होंने कहा, “ये भड़काऊ वीडियो शेयर करने से बचें और सामाजिक सौहार्द बनाए रखें। उनके मुताबिक फिलहाल पुलिस ने अभियुक्त पर क़त्ल की धाराओं में मुक़दमा दर्ज किया है और उस पर अन्य क़ानूनों के तहत मुक़दमा दर्ज करने पर भी विचार किया जा सकता है। घटना के वीडियो वायरल होने के बाद राजस्थान सरकार ने एसआईटी गठित करने के आदेश दे दिए हैं।

राजसमंद। राजस्‍थान के राजसमंद से एक सनसनीखेज घटना सामने आई है जहां एक युवक को जिंदा जला दिया गया है। आरोपी ने बकायदे युवक को जिंदा जलाते हुए वीडियो बना इसे वायरल किया है। वीडियो में दिखाई दे रहा है कि हत्यारोपी ने पहले उसे काटा और फिर पेट्रोल छिड़कर कर आग के हवाले कर दिया। जिसके बाद वह वीडियो के ज़िम्मेदारी भी लेता है। हैरानी की बात यह है की यह घटना राजस्थान के राजसमंद शहर में कलेक्टर दफ्तर से महज 600 मीटर की दूरी की है। आरोपी गिरफ्तार इस मामले के सामने आने के बाद पूरे शहर में तनाव फ़ैल गया है। तनाव को देखते हुए पूरे जिले में इंटरनेट बंद किया गया है। वीडियो में नजर आ रहा बुजुर्ग 50 वर्षीय मोहम्मद भुट्टा बताया जा रहा है वहीं हमला करने वाले का नाम शंभूलाल रेगर बताया जा रहा है। आरोपी को पुलिस ने गिरफ्तार कर लिया है। शंभूलाल केलवा सर्किल से गिरफ्तार किया गया। पुलिस ने अपील किया है कि इस वीडियो को कम से कम शेयर किया जाए जिससे स्थिति तनावपूर्ण न बने।कलेक्टर दफ्तर से महज 600 मीटर की दूरी की घटना बता दें कि रोंगटे खड़े कर देने वाली ये घटना राजस्थान के राजसमंद शहर में कलेक्टर दफ्तर से महज 600 मीटर की दूरी पर हुई। इस हत्‍या के मामले में लव जिहाद का एंगल सामने आ रहा है। दरअसल, हत्‍या करने के बाद शंभूलाल ने लव जिहाद और देशभक्ति पर एक लंबा-चौड़ा भाषण भी दिया है। शंभूलाल ने वारदात की जगह पर तीन पेज का एक लेटर भी छोड़ा है।लव जिहाद शंभुलाल ने हत्या के वीडियो के अलावा दो और वीडियो शेयर किए हैं जिनमें से एक में वो मंदिर में हैं और हत्या की ज़िम्मेदारी ले रहे हैं जबकि दूसरे वीडियो में वो भगवा ध्वज के सामने बैठे हैं और 'लव जिहाद' और 'इस्लामिक जिहाद' के ख़िलाफ़ भाषण दे रहे हैं। पुलिस का कहना है कि अभियुक्त और मृतक मोहम्मद अफ़राज़ुल के बीच कोई झगड़ा या संबंध होने की अभी तक की जांच में पुष्टि नहीं हुई है। पुलिस के मुताबिक मृतक मोहम्मद अफराज़ुल पिछले 12 सालों से शहर में रह रहे थे। वो मूल रूप से बंगाल के रहने वाले थे और राजसमंद में रहकर मज़दूरी करते थे।वीडियो शेयर न करने की अपील पुलिस महानिरीक्षक आनंद श्रीवास्तव ने आम लोगों और मीडिया संस्थानों से वीडियो को शेयर न करने की अपील की है। उन्होंने कहा, "ये भड़काऊ वीडियो शेयर करने से बचें और सामाजिक सौहार्द बनाए रखें। उनके मुताबिक फिलहाल पुलिस ने अभियुक्त पर क़त्ल की धाराओं में मुक़दमा दर्ज किया है और उस पर अन्य क़ानूनों के तहत मुक़दमा दर्ज करने पर भी विचार किया जा सकता है। घटना के वीडियो वायरल होने के बाद राजस्थान सरकार ने एसआईटी गठित करने के आदेश दे दिए हैं।