राजस्थान महिला आयोग अध्यक्ष का विवादित बयान- लटकती जींस पहनने वाले लड़के कैसे करेंगे बहनों की रक्षा?

राजस्थान महिला आयोग अध्यक्ष का विवादित बयान- लटकती जींस पहनने वाले लड़के कैसे करेंगे बहनों की रक्षा?
राजस्थान महिला आयोग अध्यक्ष का विवादित बयान- लटकती जींस पहनने वाले लड़के कैसे करेंगे बहनों की रक्षा?

जयपुर। अंतरराष्ट्रीय महिला दिवस पर आयोजित एक कार्यक्रम को सम्बोधित करते हुए राजस्थान महिला आयोग की अध्यक्ष सुमन शर्मा ने नई पीढी के युवाओं पर कटाक्ष मारा। उन्होने कहा, जो युवा अपनी लटकती जींस नहीं संभाल सकता, वह अपनी बहन की रक्षा कैसे कर सकता है। उन्होंने आगे लड़कियों को भी चपेट में लेते हुए कहा कि लड़कियों को भी आजादी के नाम पर पर खुद को इतना ‘मुक्त’ नहीं समझना चाहिए जिससे समाज में असंतुलन पैदा हो जाए।

Rajasthan Women Panel Chief Suman Sharma Says How Can Boys In Low Waist Jeans Protect Sisters :

उन्होंने कहा, ‘एक समय था जब हर लड़की ऐसे पुरुष की कल्पना करती थी जिसकी चौड़ी छाती हो। लेकिन आज कोई भी चौड़ी छाती का पुरुष दिखता ही नहीं है। वे सिर्फ ढीली जींस पहने नजर आते हैं। जो अपनी जींस नहीं संभाल सकते वो अपनी बहनों की रक्षा कैसे करेंगे। लड़के आजकल लड़कियों की तरह इयररिंग पहन रहे हैं। उन्होंने कहा, ‘मैं आलोचना नहीं कर रही हूं लेकिन हमें यह बदलना होगा। हमें मजबूत और चौड़ी छाती वाले लड़कों को तैयार करने की जरूरत है और यह हमारी जिम्मेदारी है। ये माताओं की जिम्मेदारी है कि वह बच्चों को ऐसे संस्कार दें।’

सुमन शर्मा ने कहा कि महिलाएं पुरुषों को पीछे छोड़कर बहुत आगे नहीं जा सकती हैं दोनों बराबर हैं और यह प्रणाली नहीं बिगड़नी चाहिए।

जयपुर। अंतरराष्ट्रीय महिला दिवस पर आयोजित एक कार्यक्रम को सम्बोधित करते हुए राजस्थान महिला आयोग की अध्यक्ष सुमन शर्मा ने नई पीढी के युवाओं पर कटाक्ष मारा। उन्होने कहा, जो युवा अपनी लटकती जींस नहीं संभाल सकता, वह अपनी बहन की रक्षा कैसे कर सकता है। उन्होंने आगे लड़कियों को भी चपेट में लेते हुए कहा कि लड़कियों को भी आजादी के नाम पर पर खुद को इतना 'मुक्त' नहीं समझना चाहिए जिससे समाज में असंतुलन पैदा हो जाए।उन्होंने कहा, 'एक समय था जब हर लड़की ऐसे पुरुष की कल्पना करती थी जिसकी चौड़ी छाती हो। लेकिन आज कोई भी चौड़ी छाती का पुरुष दिखता ही नहीं है। वे सिर्फ ढीली जींस पहने नजर आते हैं। जो अपनी जींस नहीं संभाल सकते वो अपनी बहनों की रक्षा कैसे करेंगे। लड़के आजकल लड़कियों की तरह इयररिंग पहन रहे हैं। उन्होंने कहा, 'मैं आलोचना नहीं कर रही हूं लेकिन हमें यह बदलना होगा। हमें मजबूत और चौड़ी छाती वाले लड़कों को तैयार करने की जरूरत है और यह हमारी जिम्मेदारी है। ये माताओं की जिम्मेदारी है कि वह बच्चों को ऐसे संस्कार दें।'सुमन शर्मा ने कहा कि महिलाएं पुरुषों को पीछे छोड़कर बहुत आगे नहीं जा सकती हैं दोनों बराबर हैं और यह प्रणाली नहीं बिगड़नी चाहिए।